Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

झारखंड में गेंदा फूल की पारंपरिक खेती से ज़्यादा मुनाफा कमा रही महिलाएं

इसका सबसे अच्छे उदहारण आज राज्य में गेंदे की फूल की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा कर आत्मनिर्भर बन रही कई महिलाएं है।

झारखंड की महिलाऐं अब गेंदा फूल की खेती से ज़्यादा मुनाफा कमा रही हैं। (IANS)

झारखंड सरकार और झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसायटी(Jharkhand State Livelihood Promotion Society) का महिला सशक्तिकरण(Women Empowerment) को लेकर किया जा रहा प्रयास अब सरजमीं पर दिखने लगा है। इसका सबसे अच्छे उदहारण आज राज्य में गेंदे की फूल(Marigold Flowers) की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा कर आत्मनिर्भर बन रही कई महिलाएं है। स्वयं सहायता समूह से जुड़ी गांव की महिलाएं जो कभी सिर्फ पारंपरिक खेती से जुड़ कर टमाटर, गोभी जैसे सब्जियों की खेती करती थी वह आज सरकार की मदद से गेंदे फूल की खेती कर कई गुना ज्यादा मुनाफा कमा रही है।

चतरा जिले के सिमरिया प्रखंड के शीला गांव की महिला किसान रिंकू देवी पहले टमाटर और फूलगोभी आदि की खेती करती थी लेकिन उससे उन्हे कभी अच्छा लाभ नही मिल पाता था। लेकिन पिछले दो सालों से वह अपने करीब एक एकड़ जमीन में गेंदा फूल की खेती कर रही हैं। इससे उनकी आमदनी कई गुना बढ़ गई है।

एक अधिकारी दावा करते हुए कहा कि राज्य के सात जिलों में 700 से भी ज्यादा स्वयं सहायता समूहों की महिलाएं 175 एकड़ में गेंदे की खेती कर आत्मनिर्भर बन रही है। हालांकि, पिछले साल की तुलना में किसानों की संख्या में यह मामूली बढ़त है, लेकिन इस साल खेती के तहत क्षेत्र में काफी वृद्धि हुई है।


women empowerment, jharkhand women, marigold flower झारखंड सरकार का महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने का यह एक अच्छा कदम है। (IANS)


जेएसएलपीएस की सीईओ नैंसी सहाय कहती हैं कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आजीविका के कई श्रोतों से जोड़ने का प्रयास जेएसएलपीएस लगातर कर रहा है। इसी कड़ी में गेंदे की खेती को महिला सशक्तिकरण के एक मजबूत स्तंभ के रूप में पेश किया गया है। इस पहल ने महिलाओं को तत्काल आय और कम समय में अपने उत्पाद की बिक्री के लिए ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म भी सुनिश्चित किया है।

चतरा जिले के सिमरिया प्रखंड की रहने वाली किसान रिंकू देवी कहती हैं, "मैं पिछले तीन सालों से गेंदे की खेती कर रही हूं। इससे पहले टमाटर और फूलगोभी उगाती थी। गेंदे की खेती बहुत लाभदायक है क्योंकि यह कम निवेश में अच्छी फसल लाभ देता है। इसकी खेती में रोपण और कटाई के बीच किसी भी कड़ी मेहनत की आवश्यकता नहीं होती है।"

उन्होंने बताया कि शुरुआत में वे 10 डिसमिल भूमि में गेंदा फूल लगाया और उसे 50 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेच दिया। इस वर्ष उन्हे गेंदे की खेती से 25,000 रुपये प्राप्त होने की उम्मीद है। सिमरिया में रिंकू देवी की तरह ही अन्य किसानों ने प्रखंड में लगभग 9 एकड़ से अधिक भूमि में गेंदे फूल लगा कर अच्छी कमाई कर रहे हैं।

खूंटी के कर्रा प्रखंड के गोविंदपुर की रहने वाली 27 वर्षीय एक अन्य महिला गजाला परवीन भी कहती है, "गेंदे की खेती किसी भी अन्य खेती से बेहतर है क्योंकि यह काफी लाभदायक है और इसमें किसी कीटनाशक या उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती है। इसके अलावा बाजार को लेकर भी कोई समस्या नहीं है।"

यह भी पढ़ें- मथुरा में मस्जिद के अंदर भगवान कृष्ण की आरती करने पर रोक

गजाला आगे कहती हैं कि गेंदे की खेती के बारे में बताए जाने पर पहले लोग हंसते थे। उन्होंने पहले कभी भी फूलों की खेती से लाभ प्राप्त करते हुए न कभी सुना या देखा था। इसलिए, पहली बार ट्रायल के आधार पर हमने कम जमीन पर खेती किया था लेकिन पहली बार में ही अच्छा मुनाफा मिलने के बाद अब हम बड़े पैमाने पर गेंदे की खेती करने का सोचा है।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Wikimedia Commons)

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council Of Medical Research) द्वारा किए गए नवीनतम अध्ययन से पता चलता है कि ओमाइक्रोन (Omicron) द्वारा उत्पन्न एंटीबॉडी, एक कोविड-19(COVID-19) स्ट्रेन, न केवल इसके खिलाफ प्रभावी हैं, बल्कि डेल्टा सहित चिंता के अन्य वेरिएंट (VOCs) भी हैं।

आईसीएमआर के एक अध्ययन से पता चला है, "ओमाइक्रोन से संक्रमित व्यक्तियों में महत्वपूर्ण प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होती है जो न केवल ओमाइक्रोन बल्कि अन्य वीओसी को भी बेअसर कर सकती है, जिसमें सबसे प्रचलित डेल्टा संस्करण भी शामिल है।"

Keep Reading Show less

माइक्रोसॉफ्ट (Wikimedia Commons)

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया(Microsoft India) ने आज छोटे और मध्यम व्यवसायों (Small And Medium Businesses) को सही डिजिटल कौशल के साथ आगे रहने में मदद करने के लिए एक नई पहल शुरू करने की घोषणा की।

माइक्रोसॉफ्ट(Microsoft) के अनुसार, एसएमबी भारत के सकल घरेलू उत्पाद में ~ 30% का योगदान करते हैं और 114 मिलियन से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करते हैं। हालांकि, महामारी के जवाब में एसएमबी के लिए कर्मचारी कौशल की कमी सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रही है।

Keep Reading Show less

भारत सरकार (Wikimedia Commons)

भारत सरकार(Government Of India) ने ट्विटर(Twitter) से जनवरी-जून 2021 की अवधि में 2,200 उपयोगकर्ता खातों पर डेटा मांगा और माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म(Micro Blogging Platform) ने केवल 2 प्रतिशत अनुरोधों का अनुपालन किया।

समीक्षाधीन अवधि में भारत से ट्विटर खातों को हटाने की लगभग 5,000 कानूनी मांगें भी थीं, कंपनी की नवीनतम पारदर्शिता रिपोर्ट से पता चला है।

Keep reading... Show less