Sunday, June 13, 2021
Home खेल ध्यान चंद भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार : जफर इकबाल

ध्यान चंद भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार : जफर इकबाल

By : आकाश कुमार भारतीय पुरुष हॉकी टीम के पूर्व कप्तान जफर इकबाल ने कहा है कि हॉकी के जादूगर ध्यान चंद देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार हैं। इकबाल ने आईएएनएस से कहा, “जहां तक खेलों का सवाल है, तो ध्यान चंद भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार हैं।”

By : आकाश कुमार

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के पूर्व कप्तान जफर इकबाल ने कहा है कि हॉकी के जादूगर ध्यान चंद देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार हैं। इकबाल ने आईएएनएस से कहा, “जहां तक खेलों का सवाल है, तो ध्यान चंद भारत रत्न के सबसे बड़े हकदार हैं।” 2014 में दिग्गज भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर भारत रत्न से सम्मानित होने वाले पहले और एकमात्र खिलाड़ी थे। हालांकि इससे पहले भी, ध्यान चंद को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित करने की मांग उठ चुकी है।

पद्मश्री और अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित इकबाल ने कहा, “सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न पुरस्कार दिया गया है। उस समय भी, हमने सरकार से ध्यान चंद को प्रतिष्ठित पुरस्कार देने का अनुरोध किया था। वास्तव में हम दशकों से सरकार से अनुरोध कर रहे हैं। मुझे अभी भी याद है कि सचिन को सम्मानित किया गया था। तब हमने बाराखंभा ट्रैफिक क्रॉसिंग पर महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा से जंतर मंतर तक एक जुलूस निकाला था और सरकार को याद दिलाने के लिए हम भी जंतर-मंतर पर कुछ समय के लिए बैठे थे।”

पूर्व कप्तान ने आगे कहा, “सचिन को भारत रत्न दिए जाने से पहले भी ध्यान चंद की फाइल खेल मंत्रालय से पीएमओ में चली गई थी। लेकिन उनकी फाइल पर आगे कोई कार्रवाई नहीं हुई। मुझे याद है कि फैसला करने के लिए एक जनमत सर्वेक्षण हुआ था कि किस खिलाड़ी को भारत रत्न दिया जाना चाहिए और अधिकतर लोगों ने ध्यान चंद के पक्ष में वोट किया था। वास्तव में उन्हें और सचिन दोनों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा सकता था। इससे कोई विवाद पैदा नहीं होता।”

यह भी पढ़ें : विलियम्सन युवाओं के लिए सही आदर्श : लक्ष्मण

ध्यान चंद एम्स्टर्डम (1928), लॉस एंजेलिस (1932) और बर्लिन (जहां वे कप्तान थे) में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम का हिस्सा थे। 1948 में अंतर्राष्ट्रीय हॉकी को अलविदा कहने वाले ध्यान चंद ने कई मैच खेले और सैकड़ों गोल किए थे। देश में हर साल 29 अगस्त को उनकी जयंती के अवसर पर उनके सम्मान में राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। इकबाल की कप्तानी में भारत ने हॉलैंड में 1982 में चैंपियंस ट्रॉफी में कांस्य पदक जीता था। उन्होंने कहा कि भले ही ध्यानचंद को भारत रत्न नहीं मिला फिर भी वे अपने ‘जादुई खेल’ के लिए जाने जाते हैं।

इकबाल ने कहा, “मेरी व्यक्तिगत भावना यह है कि भले ही उन्हें भारत रत्न नहीं मिला, फिर भी वह एक किंवदंती बने रहेंगे। हॉकी के क्षेत्र में देश के लिए उनका बहुत ही बड़ा योगदान है। हमें इस पर बहुत गर्व है कि वह अपने खेल से पहचाने जाते हैं ना कि भारत रत्न द्वारा।” उन्होंने कहा, “सचिन के साथ भी ऐसा ही है। उन्हें उनके खेल से जाना जाता है, न कि केवल भारत रत्न से। खिलाड़ियों को उनके खेल से जाना जाता है, पुरस्कारों से नहीं।”
(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी