Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

मुश्किल समय टिकता नहीं है, लेकिन खुशी जरूर रहती है: दलाई लामा

जिस प्रकार स्वस्थ शरीर के लिए शारीरिक स्वच्छता आवश्यक है, उसी प्रकार सौहार्दता और करुणा पर आधारित नैतिक स्वच्छता की भावना भी उतनी ही महत्वपूर्ण है।

आध्यात्मिक नेता दलाई लामा 6 जुलाई को 86 साल के हो जाएंगे। (Wikimedia Commons)

विशाल गुलाटी

मुश्किल समय टिकता नहीं है, लेकिन खुशी बनी रहती है- कम से कम तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा दुनिया को यही कहते हैं। कई तिब्बती उन्हें एक जीवित भगवान के रूप में देखते हैं और उन्हें पश्चिमी देशों में मूर्तिमान किया जाता है। आध्यात्मिक नेता दलाई लामा 6 जुलाई को 86 साल के हो जाएंगे।


अगर पिछले दो वर्षों के दौरान वुहान के वायरस में एक चीज नहीं बदली है, तो वह है दलाई लामा की मुस्कान। अत्यधिक कठिनाई से जीने के बावजूद, वह दुनिया को दिखा रहे है कि मुसीबत के समय में भी खुशी के साथ कैसे जीना है। दलाई लामा, या ओशन ऑफ विजडम, बौद्ध शिक्षाओं को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय तक पहुंचाने वाली प्रमुख आध्यात्मिक हस्ती हैं।

खुशी की तलाश करते हुए, दलाई लामा और आर्कबिशप डेसमंड टूटू एक बार फिर दुनिया के साथ साझा करने के लिए आए, जिससे प्रतिकूलताओं और सामाजिक अन्याय पर काबू पाने के बारे में अपनी आनंदपूर्ण अंतर्दृष्टि साझा की जा सके। इस बार वे अपनी नई फिल्म ‘मिशन: जॉय- फाइंडिंग हैप्पीनेस इन ट्रबल टाइम्स’ की रिलीज के अवसर पर 24 जून को वर्चुअली लोगों से वस्तुत: फिर से मिले।

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के रंगभेद विरोधी आइकन आर्कबिशप टूटू के साथ बातचीत की शुरूआत करते हुए, बौद्ध भिक्षु कहते हैं कि वह बहुत खुश हैं और अपने पुराने और आध्यात्मिक मित्र से बात करना एक बड़े सम्मान की बात है। उन्होंने कहा, “भले ही शारीरिक रूप से दूरियां हों लेकिन मानसिक रूप से हम हमेशा साथ हैं। मैं हमेशा आपको एक बड़ा आध्यात्मिक भाई मानता हूं।”

अपनी गुप्त हथियार मुस्कान के साथ दलाई लामा कहते हैं “मैं खुद अपनी मृत्यु तक आपकी आत्मा को कैरी करूंगा और फिर एक अवसर पर धर्मशाला में हमारी बैठक में आपने भगवान के आस्तिक के रूप में उल्लेख किया, इसलिए आप मृत्यु के बाद स्वर्ग जाने के लिए तैयार हैं। ईसाई धर्म के अनुसार, मैं आस्तिक नहीं हूं। तो दलाई लामा कहीं और चले जाओ।”

दलाई लामा खुद को एक साधारण बौद्ध भिक्षु बताते हैं। तिब्बतियों के लिए, वह चेनरेजि़ग की मानवीय अभिव्यक्ति है| (Pixabay)

यह कहते हुए कि वह अपने प्रिय मित्र, परम पावन के साथ इस सत्र की प्रतीक्षा कर रहे हैं, और उन्हें इतना अच्छा दिखने के लिए, आर्कबिशप टूटू कहते हैं, ‘ऐसा लगता है कि वह दुनिया के शीर्ष पर हैं।’ आर्कबिशप टूटू अप्रैल 2015 में साथी नोबेल पुरस्कार विजेता से मिलने के लिए एक सप्ताह के लिए धर्मशाला आए थे। 2012 के बाद आर्कबिशप की यह दूसरी यात्रा थी। दलाई लामा खुद को एक साधारण बौद्ध भिक्षु बताते हैं। तिब्बतियों के लिए, वह चेनरेजि़ग की मानवीय अभिव्यक्ति है – करुणा का बोधिसत्व।

अपनी सादगी और आनंदमयी शैली के लिए जाने जाने वाले बुजुर्ग भिक्षु, धार्मिक नेताओं के साथ बैठकों में भाग लेना पसंद करते हैं, और नई सहस्राब्दी के लिए नैतिकता और खुशी की कला पर व्यवसायियों को व्याख्यान देते हैं। वह अपनी बात के दौरान हंसते हैं और अक्सर आगंतुकों की पीठ थपथपाते है।

उनके लिए, आनंद वास्तव में विश्व शांति का स्रोत हो सकता है। दलाई लामा को अक्सर यह कहते हुए उद्धृत किया जाता है, “दूसरों को नुकसान पहुंचाने से कुछ अस्थायी संतुष्टि मिल सकती है, लेकिन उनकी मदद करना ही स्थायी आनंद का एकमात्र वास्तविक स्रोत है।” दुनिया के सबसे प्रेरणादायक शख्सियतों में से एक के रूप में, दलाई लामा सिखाते हैं कि मनुष्य एक समान है, सभी सुख चाहते हैं और कोई भी दुख नहीं चाहता।

जिस प्रकार स्वस्थ शरीर के लिए शारीरिक स्वच्छता आवश्यक है, उसी प्रकार सौहार्दता और करुणा पर आधारित नैतिक स्वच्छता की भावना भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। उनका मानना है कि स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग के बीच तालमेल और संतुलन बनाने के लिए शिक्षा को बच्चों में संज्ञानात्मक और भावनात्मक दोनों तरह की बुद्धि पैदा करनी चाहिए।

तिब्बती आंदोलन के वैश्विक चेहरे, आध्यात्मिक नेता के 86वें जन्मदिन का जश्न मनाने के लिए हर जगह तिब्बती दुनिया भर में लाखों प्रशंसकों में शामिल होते हैं| (Wikimedia Commons)

निर्वासन में तिब्बती आंदोलन के वैश्विक चेहरे, आध्यात्मिक नेता के 86वें जन्मदिन का जश्न मनाने के लिए हर जगह तिब्बती दुनिया भर में लाखों प्रशंसकों में शामिल होते हैं, केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (सीटीए) ने कोविड -19 महामारी के बीच एक सलाह जारी की है।

इसने सभी मठों और बस्तियों को जनता के जमावड़े से बचने का निर्देश दिया है और इसके बजाय परंपराओं के अनुसार दिन को चिह्न्ति किया है यानी दलाई लामा के चित्र पर मंडल और सफेद स्कार्फ की पेशकश है। 1959 में, कब्जे वाले चीनी सैनिकों ने लहासा में तिब्बती राष्ट्रीय विद्रोह को दबा दिया और दलाई लामा और 80,000 से ज्यादा तिब्बतियों को भारत और पड़ोसी देशों में निर्वासित कर दिया। तीन सप्ताह की लंबी खतरनाक यात्रा के बाद भारत पहुंचने पर, दलाई लामा ने पहली बार मसूरी में लगभग एक साल तक निवास किया, जो अब उत्तराखंड में है।

यह भी पढ़ें :- चीन की हवाबाजी, हवा में ही उड़ जाएगी!

10 मार्च, 1960 को, धर्मशाला जाने से ठीक पहले, जो निर्वासित तिब्बती प्रतिष्ठान के मुख्यालय के रूप में भी कार्य करता है, दलाई लामा ने कहा: “निर्वासन में हम में से उन लोगों के लिए, मैंने कहा कि हमारी प्राथमिकता पुनर्वास और हमारी निरंतरता और सांस्कृतिक परंपराएं होनी चाहिए। हम, तिब्बती, अंतत: तिब्बत के लिए स्वतंत्रता प्राप्त करने में प्रबल होंगे।”

कब्जे वाले तिब्बत में नष्ट किए गए बौद्ध मठों और सांस्कृतिक संस्थानों को पुनर्जीवित किया गया है और निर्वासन में पुनर्निर्माण किया गया है। वर्तमान में, भारत में लगभग 100,000 तिब्बतियों का घर है। (आईएएनएस-SM)

Popular

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep Reading Show less

कर्नाटक राज्य में मंदिर विध्वंस अभियान पर विराम लगा दिया है। (wikimedia commons)

हिंदू संगठनों की ओर से आलोचना झेल रही कर्नाटक की भाजपा सरकार नें कर्नाटक में मंदिर विध्वंस के मुद्दे पर फिलहाल राज्य विधानसभा में एक कानून पारित कर पुरे कर्नाटक राज्य में मंदिर विध्वंस अभियान पर विराम लगा दिया है। सत्ताधारी पार्टी भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस इन दोनों के बीच मंगलवार को तीखी बहस के बीच प्रस्तावित कर्नाटक धार्मिक संरचना (संरक्षण) विधेयक 2021 को पारित कर दिया गया।

यह प्रस्तावित अधिनियम जिसका नाम 'कर्नाटक धार्मिक संरचना (संरक्षण) विधेयक-2021' है, इसका मुख्य उद्देश्य सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार राज्य में धार्मिक संरचनाओं के विध्वंस को रोकना है।

यह अधिनियम में कहा गया है कि 'कर्नाटक धार्मिक संरचना संरक्षण अधिनियम -2021' के लागू होने की तारीख से, कानूनों के कानूनी प्रावधान और अदालतों, न्यायशास्त्र और अधिकारियों के आदेशों या दिशानिदेशरें के बावजूद, सरकार धार्मिक केंद्रों की रक्षा करेगी।

सार्वजनिक संपत्तियों पर बने धार्मिक केंद्रों को खाली करने, स्थानांतरित करने और ध्वस्त करने की प्रक्रिया को रोक दिया जाएगा। इस अधिनियम के लागू होने और विधान परिषद में पारित होने के बाद से ही ।

इसी बीच विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने कर्नाटक सरकार पर आरोप लगाया कि हिंदू जागरण वेदिक और हिंदू महासभा की आलोचना का सामना करने के बाद भाजपा यह कानून लाई है। मैसूर में मंदिर तोड़े जाने के बाद बीजेपी पुनर्निर्माण के लिए नया कानून ला रही है, यह भी आरोप लगायें हैं उन्होंने भाजपा पार्टी के खिलाफ । इसके बाद कांग्रेस के एक और विधायक और पूर्व मंत्री औरयू.टी. खादर ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि छात्र पाठ्यपुस्तकों में पढ़ने जा रहे हैं कि भाजपा ने भारत में आक्रमणकारियों की तरह मंदिरों को ध्वस्त कर दिया।

\u0915\u0930\u094d\u0928\u093e\u091f\u0915 \u0930\u093e\u091c\u094d\u092f कर्नाटक राज्य का नक्शा सांकेतिक इमेज (wikimedia commons)

Keep Reading Show less

डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (wikimedia commons)

पूरी दुनिया एक बार फिर कोरोना वायरस अपना पांव पसार रहा है । डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोरोना वायरस का जो डेल्टा कोविड वैरिएंट संक्रामक वायरस का वर्तमान में प्रमुख प्रकार है, अब यह दुनिया भर में इसका फैलाव हो चूका है । इसकी मौजूदगी 185 देशों में दर्ज की गई है। मंगलवार को अपने साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, डेल्टा वैरिएंट में अब सेम्पल इकट्ठा करने की डेट जो कि 15 जून -15 सितंबर, 2021 के बीच रहेंगीं । जीआईएसएआईडी, जो एवियन इन्फ्लुएंजा डेटा साझा करने पर वैश्विक पहल के लिए है, एक ओपन-एक्सेस डेटाबेस है।

मारिया वान केरखोव जो विश्व स्वास्थ्य संगठन में कोविड-19 पर तकनीकी के नेतृत्व प्रभारी हैं , उन्होंने डब्ल्यूएचओ सोशल मीडिया लाइव से बातचीत करते हुए कहा कि , वर्तमान में कोरोना के अलग अलग टाइप अल्फा, बीटा और गामा का प्रतिशत एक से भी कम चल रहा है। इसका मतलब यह है कि वास्तव में अब दुनिया भर में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ही चल रहा है।

\u0915\u094b\u0930\u094b\u0928\u093e \u0935\u093e\u092f\u0930\u0938 कोरोना का डेल्टा वैरिएंट हाल के दिनों में दुनियाभर में कहर बरपाया है (pixabay)

Keep reading... Show less