Sunday, May 16, 2021
Home दुनिया क्या विदेशी मीडिया को चीन से नफरत है? ब्रीटिश ने खुद ही...

क्या विदेशी मीडिया को चीन से नफरत है? ब्रीटिश ने खुद ही सच्चाई बतायी

द गार्जियन ने बीबीसी की झूठी खबरों को समर्थन दिया, लेकिन विदेशी नेटिजेंस ने इसपर सहमति नहीं जतायी। उन्होंने कहा कि आप बीबीसी की तरह भ्रष्ट हैं।

द गार्जियन ने बीबीसी की झूठी खबरों को समर्थन दिया, लेकिन विदेशी नेटिजेंस ने इसपर सहमति नहीं जतायी। उन्होंने कहा कि आप बीबीसी की तरह भ्रष्ट हैं। कुछ नेटिजेंस ने झूठ का पदार्फाश किया कि बीबीसी ने नकली समाचार खरीदने के लिए चीन विरोधी तथाकथित ‘विद्वान’ एड्रियन जेनज के समर्थन में पैसे खर्च किये। “क्या विदेशी मीडिया को चीन से नफरत है?” यह 2 मार्च को चीनी सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर चीन स्थित ब्रिटिश राजदूत कैरोलिन विल्सन द्वारा पूछा गया एक सवाल है। इस सवाल का सामना करते हुए, चीनी नेटिजन्स ने तुरंत ही विभिन्न उत्तर दिए और सबसे शक्तिशाली जवाब हमेशा तथ्य होते हैं।

उसी समय, बीबीसी और अन्य ब्रिटिश मीडिया ( British Media )  ने परीक्षण के सवालों का जवाब देने के लिए कुत्ता-बिल्ली की दौड़ की तरह एक एक करके झूठी खबरें जारी कीं।

पहला बीबीसी (BBC ) है। 2 मार्च को बीबीसी के प्रसिद्ध झूठे समाचार निर्माता चीन स्थित संवाददाता शालेइ ने चाइना सेंट्रल टेलीविजन (सीसीटीवी) द्वारा कुछ साल पहले की गयी शिनच्यांग के गरीब क्षेत्रों में युवा महिला श्रमिकों की जांच रिपोर्ट का पहला भाग निकालकर पुन: तोड़-मरोड़ कर पेश किया और विवरण बदलकर उसे चीनी सरकार के मजबूर श्रम के सबूत के रूप में बनाया। जब चाइना मीडिया ग्रुप ने पहले समय पर इसका पदार्फाश किया और अन्य चीनी मीडिया ने भी इसकी रिपोर्ट की, तब द गार्जियन(Gaurdian) ने एक लंबा लेख जारी कर कहा कि थिंक टैंक को पता चला है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी बीबीसी की विश्वसनीयता पर हमला कर रही है।

यह भी पढ़े :- महाभियोग से दूसरी बार बरी हुए ट्रंप

गौरतलब है कि जब गार्जियन ने इस चीन विरोधी लेख को अंतरराष्ट्रीय सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, तो इसे मिले लगभग 200 शेयर और कामेन्ट्स में से अधिकांश चीनी सरकार के रवैये के पक्ष में खड़े हैं। इन ब्रिटिश नेटिजेंस ने अपने स्वयं के व्यक्तिगत अनुभव और वास्तविक भावना से उक्त ब्रिटिश राजदूत के सवाल का जवाब दिया।

नेटिजन जेम्स ने कहा: यह बहुत दिलचस्प है। चीन की सत्तारूढ़ पार्टी पर बीबीसी की बदनामी दशकों से चली आ रही है।

नेटिजन जोनाथन ने कहा: अफसोस की बात है कि बीबीसी (BBC )  की चीन के प्रति रिपोर्ट अपमानजनक हैं, जिन्हें ब्रिटिश विदेश मंत्रालय के व्यक्तियों के निर्देशन में किए जाने की संभावना है। उनके अपर्याप्त सबूत हैं और वे हमेशा अविश्वसनीय स्रोतों और झूठ पर निर्भर कर झूठी खबर रचते हैं।

नेटिजन नॉर्थ यॉर्क ने कहा: बीबीसी ब्रिटेन में बदनाम है और चीन में भी।
 (आईएएनएस-AK)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी