Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

क्या हमारे Phone Apps गुप्त रूप से बातें सुनते हैं?

आम जीवन में यह सिद्धांत बहुत लोकप्रिय है कि मोबाइल फोन हमारी बातचीत को गुप्त रूप से सुनते हैं, लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है। स्मार्टफोन द्वारा निगरानी किए जाने के बारे में व्यक्तिगत अनुभव साझा करने वाले पोस्ट अक्सर मीडिया में देखे जाते हैं फिर चाहे वह चीनी मीडिया हो या पश्चिमी मीडिया।

आम जीवन में यह सिद्धांत बहुत लोकप्रिय है कि मोबाइल फोन हमारी बातचीत को गुप्त रूप से सुनते हैं, लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है। स्मार्टफोन द्वारा निगरानी किए जाने के बारे में व्यक्तिगत अनुभव साझा करने वाले पोस्ट अक्सर मीडिया में देखे जाते हैं फिर चाहे वह चीनी मीडिया हो या पश्चिमी मीडिया। चीन ने पिछले साल अक्टूबर में देश के पहले व्यक्तिगत सूचना संरक्षण कानून के एक मसौदे का खुलासा किया, जिसने लोगों में गोपनीयता संरक्षण के प्रति जागरूकता पैदा की।

श्याओ उपनाम के एक इंटरनेट यूजर उनमें से एक हैं जो आश्वस्त हैं कि उनकी निजी बातचीत उनके फोन द्वारा रिकॉर्ड की गई है। श्याओ को इसकी आशंका तब हुई जब एक बार उनके दोस्त के माता-पिता ने उनसे विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बारे में फोन पर बातचीत की। बातचीत खत्म होने के मात्र दो घंटे बाद ही श्याओ के फोन पर अलीबाबा के एक ऐप पर विश्वविद्यालयों की कक्षाओं के विज्ञापन आने लगे। यह देखकर श्याओ को काफी हैरानगी हुई। बहुत याद करने पर श्याओ को समझ में आया कि यह सब फोन पर हुई बातचीत का नतीजा है।


जब श्याओ ने इस बात की जानकारी अपने दोस्तों को दी, तो उनमें से कई दोस्तों ने ऐसे ही मिलते-जुलते अनुभव के बारे में बताया। कई लोकप्रिय चीनी शॉपिंग, मैसेजिंग और वीडियो ऐप्स को गुप्त रूप से रिकॉडिर्ंग और निजी बातचीत का दुरुपयोग करने के रूप में देखा जाता है। वेइपो पर एक यूजर ने लिखा, एक दिन मेरी पत्नी ने फोन करके चिकन लाने की फर्माइश की। थोड़ी देर बाद जब मैंने अपने फोन पर एक वीडियो ऐप खोला तो उसमें मेरे लिए शुरूआती सभी वीडियो खाना पकाने वाले थे। 
 

फोन से अपने डेटा या निजी जानकारियों को लीक होने से बचा सकते हैं ।( Unsplash )

इन सभी अनुभवों को सुनकर ऐसा लगता है कि वाकई फोन हम पर पूरी नजर बनाए रखते हैं, लेकिन फोन में ऐप मॉनीटर होना, चिंता का विषय नहीं है। चीनी ऐप फर्म और सूचना सुरक्षा विशेषज्ञों के अनुसार इस धारणा की पुष्टि के लिए कोई सबूत भी नहीं हैं। शॉर्ट वीडियो ऐप टिकटॉक में कार्यरत तकनीकी विशेषज्ञ ली तोंगतोंग के अनुसार से उपयोगकर्ताओं की रुचियों और वरीयताओं के बारे में उनकी बातचीत के माध्यम से जानना अन्य कानूनी साधनों की तुलना में प्रभावी नहीं है।

यह भी पढ़ें : बिहार की ‘स्मार्ट प्रीपेड योजना’ अब देश में होगी लागू

ली ने बताया कि अभी स्वचालित भाषण मान्यता के लिए एल्गोरिथ्म तकनीक अपने शुरूआती दौर में है। इसके अलावा रिकॉर्ड की गई गुप्त आवाज की खराब क्वालिटी के चलते उपयोगकर्ताओं की रोजमर्रा की बातचीत से कुछ डेटा निकाल पाना बेहद मुश्किल है। शांगहाई स्थित सूचना सुरक्षा विशेषज्ञ एलन का भी यही मानना है कि यह निजी बातचीत की रिकॉडिर्ंग करना या किसी के फोन का डेटा चुराने के लिए बैक-एंड ऑपरेटिंग और कंप्यूटिंग की आवश्यकता होगी, जो कि आसान नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कंपनियों को उपयोगकर्ताओं के हितों को गोपनीयता संरक्षण के संदर्भ में निजता नीति का पालन करना जरूरी है। ऐसे में अगर इस तरह का घोटाला सामने आ जाए, तो कई नकारात्मक प्रभाव सामने आ सकते हैं, जैसे- यूजर्स का ऐप/कंपनी को छोड़ देना, शेयर की कीमतों में भारी गिरावट, इतना ही नहीं, कंपनी की साख पर बट्टा तक लगा सकती है।

ली के मुताबिक चीन के साइबर सुरक्षा कानून स्पष्ट रूप से निर्धारित करता है कि नेटवर्क ऑपरेटरों को कानूनी जानकारी, न्याय और आवश्यकता के सिद्धांतों का पालन करना चाहिए और सार्वजनिक रूप से व्यक्तिगत जानकारी का उपयोग करना चाहिए। इसके अलावा, एक ऐप किसी ऐप स्टोर पर उपलब्ध होने से पहले सख्त समीक्षा और परीक्षण से गुजरता है। एलन ने इस बात पर जोर दिया कि ऐप अपने उपयोगकर्ताओं की छवि के आधार पर ही विज्ञापन दिखाते हैं, जो उन सूचनाओं के माध्यम से बनाए जाते हैं जिन तक पहुंचने की अनुमति यूजर्स खुद देते हैं, जैसे कि उनकी संपर्क सूची, स्थान और फोटो। फेसबुक डाटा लीक विवाद की वजह से सोशल नेटवकिर्ंग कंपनी फेसबुक को करोड़ों डॉलर का नुकसान हुआ। यूजर्स के डाटा को सुरक्षित न रख पाने की वजह से फेसबुक की काफी आलोचना हुई। फेसबुक डाटा लीक में शुरूआती जांच से पता चला कि थर्ड पार्टी ऐप्स को अनुमति देने की वजह से ही यह घटना संभव हो पाई। लेकिन इन सब बातों को सोचकर यह करना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि कुछ सावधानी बरतकर हम अपने डेटा या निजी जानकारियों को लीक होने से आसानी से बचा सकते हैं। इसके अलावा यह सोचना कि सभी ऐप्स हमारे निजी डेटा चुराते हैं, सही नहीं होगा। ( आईएएनएस)

Popular

चक्रवाती तूफान का सामना करने के लिए तैयार है एनडीआरफ (File Photo)

चक्रवाती तूफान के खतरे के मद्देनजर तैयारियों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल होने के बाद आईएएनएस से बात करते हुए एनडीआरएफ(NDRF) डीजी अतुल करवाल(Atul Karwal) ने कहा कि अंडमान निकोबार(Andaman and Nicobar) की 2 टीमों को मिलाकर एनडीआरएफ ने कुल 62 टीमों को तैनात है।

NDRF, Atul Karwal राज्यों ने जितनी टीम की मांग की थी एनडीआरएफ ने उतनी टीमों की तैनाती कर दी है- एनडीआरएफ डीजी अतुल करवाल(Twitter)

Keep Reading Show less

अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरे (Padmini Kolhapure) [Wikimedia Commons]

'दिल बेकरार' से वापसी करने के बाद, अनुभवी अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरे (Padmini Kolhapure) ने प्रतिष्ठित गीत 'ये गलियां ये चौबारा' का नया वर्जन गाया है। इस गाने में बचपन से युवा लड़की की शादी के दिन तक आदर्श मां-बेटी के बंधन को दर्शाती एक एक प्यारी छवि देखने को मिलती है।

उसी पर बोलते हुए, पद्मिनी कहती हैं कि अपनी बेटी की शादी के समय एक मां जो भावनाओं से गुजरती है, उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। खुशी से लेकर दुख तक खालीपन की भावना तक, एक समय में बहुत सी चीजें महसूस होती हैं। 'ये गलियां ये चौबारा' उन सभी भावनाओं का प्रतिपादन है।

Keep Reading Show less

श्रेया घोषाल, गायिका [Wikimedia Commons]

श्रेया (Shreya Ghoshal) ने अपने और नए ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल के बीच पुरानी चैट को खोदने वाले प्रशंसकों पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है। गायिका ने एक ट्वीट में उन्हें 'बचपन का दोस्त' कहा है। घोषाल ने अपनी स्कूली शिक्षा आठवीं कक्षा तक रावतभाटा के एटोमिक एनर्जी सेंट्रल स्कूल नंबर 4 में की, जहां वह ट्विटर के वर्तमान सीईओ पराग अग्रवाल की सहपाठी थीं।

अग्रवाल की ट्विटर के नए सीईओ के रूप में नियुक्ति के बाद 37 वर्षीय गायिका सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगी थीं।

सोशल मीडिया यूजर्स को दोनों के बीच पुराना आदान-प्रदान मिला।

दूसरा अग्रवाल का एक ट्वीट है, जिसमें लिखा है, "अच्छी डीपी, क्या हाल चाल हैं। (नाइस डीपी। हाउ इज इट गोइंग)।

'चिकनी चमेली' हिटमेकर (Shreya Ghoshal) ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, "अरे यार तुम लोग कितना बचपन का ट्वीट निकला रहे हो। ट्विटर अभी लॉन्च हुआ है। 10 साल पहले! हम बच्चे थे! दोस्त एक दसरे को ट्वीट नहीं करते क्या? क्या टाइम पास चल रहा है ये?"

Keep reading... Show less