Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

क्या आप जानते हैं विश्व का सबसे प्राचीनतम बांध कौन सा है?

आपने कई बांधों के बारे में सुना होगा जैसे, टिहरी बांध, हीराकुंड बांध आदि। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विश्व का सबसे प्राचीन बांध कौन सा है?

पहली शताब्दी में चोल वंश के राजा करिकल द्वारा कावेरी नदी पर इस बांध का निर्माण करवाया गया था। (Wikimedia Commons)

प्राचीन काल से लेकर आधुनिक समय तक, सभ्यताओं ने जल प्रवाह को मोड़ने, सिंचाई करने और बिजली की आपूर्ति करने के लिए पानी का बड़े पैमाने पर उपयोग किया है। नई सोच और संरचनाओं के तहत बांधों का भी निर्माण किया गया। ताकि नदियों के पानी को कृषि के लिए इस्तेमाल किया जा सके। आपने कई बांधों के बारे में सुना होगा पढ़ा होगा जैसे, टिहरी बांध, सरदार सरोवर बांध (Sardar Sarovar Dam), हीराकुंड बांध आदि। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विश्व का सबसे प्राचीन बांध कौन सा है और किस देश में स्थित है?

आइए जानते हैं उस प्राचीन बांध के बारे में-


आज से करीब 2000 साल पहले भारत, तमिलनाडु में तिरुचिरापल्ली जिला स्थित कावेरी नदी (Cauvery river) पर “कल्लनई बांध” (Kallanai Dam) का निर्माण किया गया था। यह बांध न सिर्फ भारत के बल्कि विश्व के सबसे प्राचीनतम बांधों में से एक है। इस बांध का निर्माण सिंचाई को बनाए रखने और विनियमित करने के किए बनाया गया था। पृथ्वी के जलमार्गों में इस सिंचाई प्रणाली ने कृषि में एक विश्वव्यापी क्रांति को जन्म दिया था। जिससे मानव आबादी, पशु-पक्षी और पर्यावरण के साथ-साथ सभी का बड़े पैमाने पर विस्तार हुआ। यह बांध भले ही कितना पुराना हो लेकिन आज भी इस बांध को सिंचाई कार्यों के लिए उपयोग में लाया जाता है।

पहली शताब्दी में चोल वंश के राजा करिकल द्वारा कावेरी नदी पर इस बांध का निर्माण करवाया गया था। इस बांध को बनाने का कारण यह था कि कावेरी नदी की जलधारा बहुत तेज बहाती है और बरसात के मौसम में बाढ़ का खतरा भी उत्पन्न हो जाता है। इसी वजह से कावेरी नदी पर बांध का निर्माण कराया गया ताकि पानी की गति को थोड़ा कम किया जा सके और इसके पानी को सिंचाई के लिए इस्तेमाल किया जा सके। 329 मीटर लंबा और 20 मीटर चौड़ा यह बांध उस समय जलमार्गों को नियंत्रित करने का ऐसा उपक्रम था जिसे दुनिया ने कभी नहीं देखा था।

जहां चोलों (Chola Dynasty) ने मनुष्य को पर्यावरण का निर्माता बनाने के लिए एक बेहतरीन ढांचे का आविष्कार किया था वहीं अंग्रेजों ने इस शक्ति का विशेष रूप से शोषण किया था। (Wikimedia Commons)

वर्ष 1804 में एक मिलिट्री इंजीनियर ने बांध का निरीक्षण करते हुए पाया था कि, अगर बांध की ऊंचाई को थोड़ा बढ़ा दिया जाए तो लोगों को सिंचाई के लिए और अधिक पानी मिल पाएगा। जिसके बाद बांध की ऊंचाई को 0.69 मीटर बढ़ाया गया। इससे जहां पहले केवल 69 हजार एकड़ जमीन की सिंचाई होती थी, वहीं अब करीब 10 लाख एकड़ जमीन की सिंचाई होती है। 

बांध से जुड़ी एक और घटना है जिसे जानना आवश्यक है- 

जब ब्रिटिशों ने हम पर राज करना स्थापित किया तब ब्रिटिश इस्ट इंडिया कंपनी ने कावेरी डेल्टा और कावेरी नदी पर भी अपना नियंत्रण हासिल कर लिया था क्योंकि पानी की तेज धारा के कारण और हजार वर्षों से टीके इस बांध का कुछ भाग नष्ट हो गया था। 

यह भी पढ़ें :- बक्सवाहा के जंगल को बचाने संत भी आगे आए

जिसके बाद प्रमुख ब्रिटिश इंजीनियर सर ऑर्थर कॉटन (Arthur Cotton) को डेल्टा का अध्ययन करने के लिया कहा गया। और 1830 – 40 के बीच उन्होंने बांध को मजबूत करने के लिए एक योजना लागू की। इस योजना के लागू होने के बाद सिंचित डेल्टा में पानी की दरों में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई। हालांकि ब्रिटिशों की मंशा कभी भी सही नहीं थी। चोलों द्वारा बनाए गए इस बांध में कुछ परिवर्तन कर कॉटन ने अविश्वसनीय सफलता जरूर अर्जित की थी। लेकिन चोलों द्वारा बनाए गए बांध के डिज़ाइन की जानकारी दुनिया के बाकी हिस्सों तक भी फैला दिया था और उन्होंने ही इस बांध को ‘ग्रैंड एनीकट’ (Grand Anicut Dam) नाम दिया और इसे ‘वंडर्स ऑफ़ इंजीनियरिंग’ कहा था।

जहां चोलों (Chola Dynasty) ने मनुष्य को पर्यावरण का निर्माता बनाने के लिए एक बेहतरीन ढांचे का आविष्कार किया था वहीं अंग्रेजों ने इस शक्ति का विशेष रूप से शोषण किया था। 

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less