Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

कोविड महामारी के प्रकोप से उबरने के लिए दुनिया शिद्दत से प्रयास कर रही है। कुछ देशों में इसकी वैक्सीन आने के बावजूद अभी इसका खतरा पूरी तरह टला नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों की एक टीम इस वायरस की उत्पत्ति के बारे में पता लगाने के लिए इन दिनों वुहान में है, वहीं दूसरी ओर भारत में सेना ने इस बीमारी के वायरस का पता लगाने के लिए दो कुत्तों को प्रशिक्षित किया है ताकि समय रहते इसकी भनक लगने पर जवानों की आवाजाही के बाबत उन्हें सजग किया जा सके।


‘छिप्पीपराई’ और ‘कॉकर स्पेनियल’ नाम के दो कुत्तों को आर्मी ने प्रशिक्षित किया है। उन्हें दिल्ली ओर छत्तीसगढ़ में सेना के ट्रांजिट कैंपों में तैनात किया गया है।

‘कॉकर स्पेनियल’ दो साल का है और इसका नाम कैस्पर है, और ‘छिप्पीपराई’ एक साल का है और इसका नाम जया है।

अब तक चंडीगढ़ और छत्तीसगढ़ में लगभग 3,806 सैनिकों की कोविड जांच की गई और इन कुत्तों की मदद से 22 नमूने सकारात्मक पाए गए हैं।

यह सब कैसे शुरू हुआ – इस बारे में मेरठ स्थित रिमाउंट वेटनरी कोर के प्रशिक्षक लेफ्टिनेंट कर्नल सुरिंदर सैनी ने आईएएनएस को बताया कि कैंसर, मलेरिया, मधुमेह, पार्किन्संस जैसी विभिन्न बीमारियों के लिए कुत्तों की मदद को लेकर वैश्विक रुझान को देखने के बाद भारतीय सेना ने कोविड-19 का पता लगाने के लिए चिकित्सा खोजी कुत्तों का उपयोग करने का परीक्षण किया।

सेना द्वारा प्रशिक्षित कुत्ते करेंगे कोरोना की जाँच।(सांकेतिक चित्र, Unsplash)

इसके बाद मूत्र और पसीने के नमूनों से कोविड-19 बीमारी का पता लगाने के लिए ‘छिप्पीपराई’ और ‘कॉकर स्पेनियल’ की देशी नस्ल को प्रशिक्षित करने का ठोस प्रयास किया गया।

लेफ्टिनेंट कर्नल सुरिंदर सैनी ने कहा कि प्रशिक्षण के उद्देश्य से सैन्य अस्पताल, मेरठ कैंट और नेताजी सुभाष चंद्र बोस सुभारती मेडिकल कॉलेज से सकारात्मक और संदिग्ध नमूने लिए गए।

इन दोनों कुत्तों को सकारात्मक रोगियों के पेशाब और पसीने के नमूनों से निकलने वाले विशिष्ट बायोमार्कर पर सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया गया था।

यह भी पढ़े :- वुहान प्रयोगशाला से वायरस फैलाव के “कथन” को लेकर उठाए गए सवाल

वैज्ञानिक रूप से यह स्पष्ट है कि प्रभावित ऊतक अद्वितीय वाष्पशील चयापचय बायोमार्कर छोड़ते हैं जो कि मेडिकल डिटेक्शन कुत्तों द्वारा रोग का पता लगाने के लिए उपयोग किया जाता है। प्रशिक्षण के बाद कुत्तों को पहली बार दिल्ली में एक ट्रांजिट कैंप में तैनात किया गया और उनकी मदद से 806 सैनिकों की स्क्रीनिंग की गई। (आईएएनएस)
 

Popular

कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रोन डेल्टा वेरिएंट से 30 गुना ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है। (Wikimedia Commons)

भारत, जापान, मलेशिया, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया में अब ओमिक्रॉन(omicron)के मामले सामने आए हैं और हर गुजरते घंटे के साथ नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं जिसको देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि एशिया-प्रशांत(Asia Pacific) क्षेत्र के देशों को स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने और अपने लोगों को टीकाकरण(vaccination) पर ध्यान पर करने की जरूरत है, क्योंकि ओमिक्रोन वेरिएंट विश्व स्तर पर फैलता जा रहा है और नए क्षेत्रों में प्रवेश कर रहा है।

WHO, covid-19 विश्व स्वास्थ्य संगठन का संकेत (Pixabay)

Keep Reading Show less

पंजाबी सिंगर मूसेवाला कांग्रेस में हुए शामिल। [IANS]

अपने एक गाने में हिंसा और बंदूक संस्कृति को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस (Congress) में शामिल हो गए। वह मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।

इस समारोह के दौरान सिद्धू ने मूसेवाला को यूथ आइकॉन बताया।

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मीडिया से कहा, "सिद्धू मूसेवाला हमारे परिवार में शामिल हो रहे हैं। मैं उनका कांग्रेस में स्वागत करता हूं।"

मूसेवाला को 'बड़ा कलाकार' बताते हुए चन्नी ने कहा कि अपनी कड़ी मेहनत से उन्होंने लाखों लोगों का दिल जीता है।

Keep Reading Show less

टेस्ला (Wikimedia Commons)

टेस्ला(Tesla) ने हाल ही में साइबरक्वाड(Cyberquad) नाम के बच्चों के लिए एक चार पहिया ऑल-टेरेन वाहन(All Terrain Vehicle) लॉन्च किया है। कंपनी ने दावा किया कि यह 8 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए उपयुक्त है।

ऑल-इलेक्ट्रिक साइबरक्वाड की कीमत $ 1,900 है। यह फिलहाल यूएस में टेस्ला वेबसाइट पर ऑर्डर करने के लिए उपलब्ध है और दो से चार सप्ताह में शिपिंग शुरू हो जाएगी।

Keep reading... Show less