Thursday, May 13, 2021
Home देश कोरोना वायरस की पहचान करेंगे भारतीय सेना द्वारा प्रशिक्षित कुत्ते!

कोरोना वायरस की पहचान करेंगे भारतीय सेना द्वारा प्रशिक्षित कुत्ते!

कोविड महामारी के प्रकोप से उबरने के लिए दुनिया शिद्दत से प्रयास कर रही है। कुछ देशों में इसकी वैक्सीन आने के बावजूद अभी इसका खतरा पूरी तरह टला नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों की एक टीम इस वायरस की उत्पत्ति के बारे में पता लगाने के लिए इन दिनों वुहान में है, वहीं दूसरी ओर भारत में सेना ने इस बीमारी के वायरस का पता लगाने के लिए दो कुत्तों को प्रशिक्षित किया है ताकि समय रहते इसकी भनक लगने पर जवानों की आवाजाही के बाबत उन्हें सजग किया जा सके।

‘छिप्पीपराई’ और ‘कॉकर स्पेनियल’ नाम के दो कुत्तों को आर्मी ने प्रशिक्षित किया है। उन्हें दिल्ली ओर छत्तीसगढ़ में सेना के ट्रांजिट कैंपों में तैनात किया गया है।

‘कॉकर स्पेनियल’ दो साल का है और इसका नाम कैस्पर है, और ‘छिप्पीपराई’ एक साल का है और इसका नाम जया है।

अब तक चंडीगढ़ और छत्तीसगढ़ में लगभग 3,806 सैनिकों की कोविड जांच की गई और इन कुत्तों की मदद से 22 नमूने सकारात्मक पाए गए हैं।

यह सब कैसे शुरू हुआ – इस बारे में मेरठ स्थित रिमाउंट वेटनरी कोर के प्रशिक्षक लेफ्टिनेंट कर्नल सुरिंदर सैनी ने आईएएनएस को बताया कि कैंसर, मलेरिया, मधुमेह, पार्किन्संस जैसी विभिन्न बीमारियों के लिए कुत्तों की मदद को लेकर वैश्विक रुझान को देखने के बाद भारतीय सेना ने कोविड-19 का पता लगाने के लिए चिकित्सा खोजी कुत्तों का उपयोग करने का परीक्षण किया।

सेना द्वारा प्रशिक्षित कुत्ते करेंगे कोरोना की जाँच।(सांकेतिक चित्र, Unsplash)

इसके बाद मूत्र और पसीने के नमूनों से कोविड-19 बीमारी का पता लगाने के लिए ‘छिप्पीपराई’ और ‘कॉकर स्पेनियल’ की देशी नस्ल को प्रशिक्षित करने का ठोस प्रयास किया गया।

लेफ्टिनेंट कर्नल सुरिंदर सैनी ने कहा कि प्रशिक्षण के उद्देश्य से सैन्य अस्पताल, मेरठ कैंट और नेताजी सुभाष चंद्र बोस सुभारती मेडिकल कॉलेज से सकारात्मक और संदिग्ध नमूने लिए गए।

इन दोनों कुत्तों को सकारात्मक रोगियों के पेशाब और पसीने के नमूनों से निकलने वाले विशिष्ट बायोमार्कर पर सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया गया था।

यह भी पढ़े :- वुहान प्रयोगशाला से वायरस फैलाव के “कथन” को लेकर उठाए गए सवाल

वैज्ञानिक रूप से यह स्पष्ट है कि प्रभावित ऊतक अद्वितीय वाष्पशील चयापचय बायोमार्कर छोड़ते हैं जो कि मेडिकल डिटेक्शन कुत्तों द्वारा रोग का पता लगाने के लिए उपयोग किया जाता है। प्रशिक्षण के बाद कुत्तों को पहली बार दिल्ली में एक ट्रांजिट कैंप में तैनात किया गया और उनकी मदद से 806 सैनिकों की स्क्रीनिंग की गई। (आईएएनएस)
 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी