Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

मिलिए नासा में वैज्ञानिक रह चुके यूपी के डॉ. सरोज से, अमेरिका में भारतीयता की मिसाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बीते शनिवार को प्रवासी भारतीय दिवस पर कहा कि प्रवासी भारतीयों ने हर क्षेत्र में अपनी पहचान को मजबूत किया है। प्रधानमंत्री मोदी के बयान के बाद उन तमाम प्रतिभाओं की चर्चा चल निकली है, जो विदेशों में भारतीय मेधा का डंका बजा रहे हैं। ऐसे ही एक प्रवासी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बीते शनिवार को प्रवासी भारतीय दिवस पर कहा कि प्रवासी भारतीयों ने हर क्षेत्र में अपनी पहचान को मजबूत किया है। प्रधानमंत्री मोदी के बयान के बाद उन तमाम प्रतिभाओं की चर्चा चल निकली है, जो विदेशों में भारतीय मेधा का डंका बजा रहे हैं। ऐसे ही एक प्रवासी भारतीय हैं डॉ. सरोज (Dr. Saroj) मिश्र।

उत्तर प्रदेश के एक गांव से निकलकर वह अमेरिका (America) के प्रसिद्ध अंतरिक्ष शोध संस्थान नासा (NASA) में वैज्ञानिक का सफर तय कर चुके हैं। नासा जॉनसन स्पेस के बाद यूनिवर्सिटीज स्पेस रिसर्च एसोसिएशन नासा में वरिष्ठ वैज्ञानिक और बाद में यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन में माइक्रो बायोलॉजी प्रोफेसर के तौर पर सेवाएं देने के बाद वर्ष 2017-18 में रिटायर हुए डॉ. सरोज (Dr. Saroj) अब अमेरिका (America) में भारतीय संस्कृति की अलख जगाने में जुटे हैं। वह कई सांस्कृतिक संगठनों से जुड़कर अमेरिका (America) में लोगों को भारतीय संस्कृति के बारे में जानकारी दे रहे हैं।


डॉ. सरोज के योगदान का उल्लेख आरएसएस विचारक स्व. देवेंद्र स्वरूप अपनी पुस्तक ‘सभ्यताओं के संघर्ष में भारत कहां’ में कर चुके हैं।

ये वही डॉ. सरोज (Dr. Saroj) हैं, जिनके योगदान का उल्लेख जाने-माने इतिहासकार और आरएसएस विचारक स्व. देवेंद्र स्वरूप अपनी पुस्तक ‘सभ्यताओं के संघर्ष में भारत कहां’ में कर चुके हैं। जब 90 के दशक में नासा के वैज्ञानिक डॉ. सरोज कुमार मिश्र को यह पता लगाने के लिए मॉस्को भेजा जा रहा था कि रूसी अंतरिक्ष यात्रियों के बहुत लंबे समय तक अंतरिक्ष के प्रतिकूल पर्यावरण को झेल पाने का रहस्य क्या है? तब देवेंद्र स्वरूप ने वर्ष 1995 में अपने एक लेख में नासा के ह्यूस्टन स्थित जानसन स्पेस सेंटर में माइक्रो बायोलॉजी, इम्युनोलॉजी एवं रिस्क एसेसमेंट सेक्शन के तत्कालीन डायरेक्टर डॉ. सरोज कुमार मिश्र की उपलब्धि को भारत का मस्तक गर्व से ऊंचा करने वाला बताया था।

यह भी पढ़ें – हिंदी के प्रति प्रेम ने कारपेंटर को साइबर कंन्टेंट क्यूरेटर बना दिया

अमेरिका में 5 पेटेंट

डॉ. सरोज (Dr. Saroj) के अमेरिका में पांच पेटेंट हैं। अंतरिक्ष स्टेशन का एनवायरमेंट सिस्टम डिजाइन करने का श्रेय उन्हें मिल चुका है। एक सितंबर 1945 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर के एक गांव चुरामनपुर तेलीतारा निवासी प्रख्यात वैद्य पंडित उदरेज मिश्र के घर जन्मे सरोज कुमार मिश्र 70 के दशक में गांव से निकलकर पहले रॉबर्ट कॉख इंस्टीट्यूट वेस्ट बर्लिन फिर अमेरिका (America) पहुंचे और फिर उन्होंने भारतीय प्रतिभा का डंका बजाया। विश्व प्रसिद्ध अमेरिकी अंतरिक्ष शोध संस्थान नासा के जानसन स्पेस सेंटर ह्यूस्टन में वरिष्ठ वैज्ञानिक के पद पर रहते हुए उन्होंने अंतरिक्ष स्टेशन का एनवायरमेंट सिस्टम डिजाइन करने में सफलता हासिल की। उन्हें लगातार तीन बार स्पेस एक्ट एवार्ड मिल चुका है। आज डॉ. मिश्र के सैकड़ों शोध पत्र और किताबें, अनुसंधान कर्ताओं के लिए मार्गदर्शन का काम करतीं हैं।

अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित

1978 से 1983 तक दुनिया के बहु प्रतिष्ठित शोध संस्थान जर्मन सरकार के अधीन बर्लिन के रॉबर्ट कॉख इंस्टीट्यूट में वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं असिस्टेंट डायरेक्टर पद पर रहते हुए उन्होंने वैज्ञानिक अनुसंधान की दुनिया मे अपना नाम विश्व पटल पर स्थापित किया तथा उसी वर्ष वैज्ञानिकों की वैश्विक पत्रिका ‘Who’s who in the world’ में दुनिया के मशहूर वैज्ञानिकों के बीच अपनी जगह बनाई। वहां से अगली यात्रा में 1984 में मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर रहते हुए उन्होंने अपने शोध कार्यों से अमेरिका के वैज्ञानिक समुदाय का ध्यान खींचा था, जिस पर उन्हें नासा से ऑफर मिला।

डॉ सरोज वर्ष 2000 तक नासा में वरिष्ठ वैज्ञानिक के तौर पर कार्यरत रहे। (Wikimedia Commons)

दुनिया के मशहूर अंतरिक्ष संस्थान नासा में वर्ष 1987 से माइक्रो बायोलॉजी स्पेस स्टेट की प्रयोगशाला के डायरेक्टर बने। वर्ष 2000 तक वे नासा में वरिष्ठ वैज्ञानिक के तौर पर कार्य करते रहे। इसके बाद वे यूनिवर्सिटीज स्पेस रिसर्च असोसिएशन नासा में वरिष्ठ वैज्ञानिक तथा ह्यूस्टन विश्वविद्यालय में माइक्रो बायोलॉजी के प्रोफेसर हो गए। उत्कृष्ट सेवाओं की बदौलत उन्हें अमेरिका व जर्मनी में अनेक अंतरराष्ट्रीय सम्मान व पुरस्कार मिले। उनकी पुस्तक ‘A Conscience Manual of Pathogenic’ (माइक्रो बायोलॉजी) अमेरिका के शोध विद्यार्थियों में काफी लोकप्रिय मानी जाती है।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Religious People Less Likely To Suffer Depression and Anxiety: Says Study

भारतीय संस्कृति से गहरा लगाव

संघ से जुड़े राम भुवन ने कहा कि डॉ. सरोज (Dr. Saroj) प्रखर राष्ट्रवादी हैं। वह भारतीय संस्कृति पर गहन अध्ययन रखते हैं। उनके भतीजे डॉ. मनोज मिश्र का कहना है कि अमेरिका (America) में रहने के बावजूद डॉ. सरोज कुमार मिश्र गांव से हमेशा जुड़े हुए हैं। वाणी में आज भी अवधी की मिठास होती है। वैज्ञानिक होने के बावजूद भारतीय संस्कृति पर उनका गहन अध्ययन और गहरा लगाव है। वह भारतीय संस्कृति को अमेरिका में भी बढ़ावा देने में लगे हैं। हर दो से चार वर्ष पर वह गांव आना और नाते रिश्तेदारों तथा समाज को नहीं भूलते। लोगों का सुख-दुख जानकर वह हमेशा मदद में आगे रहते हैं। फोन कर गांव में खेती-किसानी का हाल लेते रहते हैं। वे रहते भले अमेरिका में हैं, लेकिन दिल आज भी गांव में बसता है। (आईएएनएस)

Popular

अलर्ट पर अयोध्या। (Unsplash)

अयोध्या(ayodhya) में कोई विशेष खुफिया अलर्ट नहीं होने के बावजूद सुरक्षा बल हाई अलर्ट(Alert) पर हैं क्यों कि दिनांक 6 दिसंबर है। बता दें, 6 दिसंबर 1992 को कार सेवकों द्वारा बाबरी मस्जिद(Babri Masjid) को गिरा दिया गया , जिसने देश के राजनीतिक परिदृश्य को बदल दिया। तब से लेकर वर्तमान समय तक 6 दिसंबर पर संपूर्ण यूपी अलर्ट पर रहता है।

आला पुलिस अधिकारी का कहना है कि पुलिस(Police) कोई जोखिम नहीं उठा रही है और किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए सभी सावधानियां बरती जा रही हैं। आईएएनएस से बात करते हुए, एडीजी लखनऊ(ADG Lucknow) जोन, एस.एन. सबत(S.N.Sabat) ने कहा, "हमने अयोध्या में पर्याप्त सुरक्षा बलों को तैनात किया है और सभी सावधानी बरतने के अलावा कोई विशेष खुफिया अलर्ट नहीं है।"

Keep Reading Show less

चेन्नई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यात्री आरटीपीसीआर टेस्ट के ज़्यादा दाम से परेशान दिखे। (Pixabay)

भारत सरकार की कंपनी, 'हिंडलैब्स'(Hindlabs) जो एक 'मिनी रत्न'(Mini Ratna) है, प्रति यात्री 3,400 रुपये चार्ज कर रही है और रिपोर्ट देने में लंबा समय ले रही है।

चेन्नई के एक ट्रैवल एजेंट और दुबई के लिए लगातार उड़ान भरने वाले सुरजीत शिवानंदन ने एक समाचार एजेंसी को बताया, "मेरे जैसे लोगों के लिए जो काम के उद्देश्य से दुबई की यात्रा करते हैं, यह इतना मुश्किल नहीं है और खर्च कर सकता है, लेकिन मैंने कई सामान्य मजदूरों को देखा है जो पैसे की व्यवस्था के लिए स्तंभ से पोस्ट तक चलने वाले वेतन के रूप में एक छोटा सा पैसा।"

Keep Reading Show less

यह वे लोग हैं जिन्होंने ने उत्कृष्टता का एक नया उदाहरण पेश कर खड़ा लिया एक विशिष्ट संसथान। (IANS)

जब द्वितीय विश्व युद्ध(World War-2) समाप्त हो रहा था, तब लोगों के एक समूह ने भारत की वैज्ञानिक और तकनीकी सॉफ्ट पावर - आईआईटी(IIT) प्रणाली की स्थायी इमारत की नींव रखी।

इसमें तीन व्यक्ति शामिल थे जिन्होंने वायसराय की कार्यकारी परिषद के सदस्य के रूप में कार्य किया। इनमें जो लोग शामिल थे उनमें नलिनी रंजन सरकार, देशबंधु चित्तरंजन दास की अनुचर और 1933 फिक्की(FICCI) की अध्यक्ष, आईसीएस अधिकारी से टाटा स्टील के कार्यकारी अधिकारी बने अर्देशिर दलाल, जो भारत के विभाजन के अपने कट्टर विरोध के लिए बेहतर जाने जाते हैं, और सर जोगेंद्र सिंह, एक संपादक, लेखक और पटियाला के पूर्व प्रधान मंत्री, जिन्होंने पंजाब में मशीनीकृत खेती की शुरूआत की।

बॉम्बे प्लान के लेखक, भारत के आर्थिक विकास के लिए विजन दस्तावेज उद्योगपति जे.आर.डी. टाटा(JRD Tata), जीडी बिड़ला(GD Birla) और सर पुरुषोत्तमदास ठाकुरदास(Sir Purushottamdas Thakurdas), सर अर्देशिर(Sir Ardeshir), वायसराय की कार्यकारी परिषद के योजना और विकास के सदस्य के रूप में, अमेरिकी सरकार को भारतीय वैज्ञानिकों को डॉक्टरेट फेलोशिप की पेशकश करने के लिए राजी किया ताकि वे नए स्थापित वैज्ञानिक परिषद और औद्योगिक अनुसंधान (सीएसआईआर) का नेतृत्व करने के लिए पर्याप्त योग्यता प्राप्त कर सकें।

हालांकि, सर अर्देशिर ने जल्द ही महसूस किया कि अमेरिकी सरकार के साथ यह व्यवस्था केवल एक अल्पकालिक समाधान हो सकती है और उभरते हुए नए भारत को ऐसे संस्थानों की आवश्यकता है जो योग्य वैज्ञानिक और तकनीकी जनशक्ति के लिए नर्सरी बन सकें।

Keep reading... Show less