Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

एडवांस भारत के लिए डीएसटी का बड़ा कदम

विश्व की अनेक तकनीकियों से अपडेट रहने के लिए, विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग की ओर से होगा बड़ा आयोजन। कोरोना वैक्सीन आने के बाद अगले साल होगी तारीख की घोषणा।

अगले साल होने वाले ‘ फ्रंटियर्स इन इंटर कनेक्टेड इंटेलीजेंट सिस्टम्स एंड डिवाइसेज ‘ नामक प्रोग्राम के बारे में 30 सितंबर को जानकारी दी जाएगी। (फाइल फोटो, PIB)

केंद्र सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग (डीएसटी) की ओर से बड़े आयोजन की कवायद चल रही है।

दुनियाभर में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, क्वांटम कंप्यूटिंग, ऑटोनॉमस सिस्टम, इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसे क्षेत्रों में क्या कुछ नया चल रहा है, इससे अपडेट होने के लिए डॉ. हर्षवर्धन के नेतृत्व वाले विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग की ओर अगले साल 2021 में एक बड़ा आयोजन होगा। जिसमें दुनियाभर के साइंस और टेक्नोलॉजी से जुड़े एक्सपर्ट भाग लेंगे। कोरोना वैक्सीन आने के बाद अगले साल इस बड़े आयोजन की तारीख घोषित होगी।


कोऑर्डिनेटर डॉ. आशीष शाह ने आईएएनएस को आयोजन की अहमियत बताते हुए कहा कि, ” इससे तकनीकी क्षेत्र में सही दिशा में भारत को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। रोबोटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, क्वांटम कंप्यूटिंग जैसे चार से पांच प्रमुख सेक्टर में तेजी से तकनीक बदल रही है।

यह भी पढ़ें – भातीय छात्र ने कोरोना काल में हासिल किए 20 इंटरनेशनल रिसर्च ऑफर

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने नई पहल करते हुए दुनियाभर में तकनीकी क्षेत्र में हो रहे कार्यों से भारत में कार्य करने वाले लोगों को अपडेट कराने की कोशिश की है। ऐसे में इस आयोजन के जरिए एक प्लेटफार्म देने की कोशिश है, जिस पर देश और विदेश के एक्सपर्ट आकर चर्चा करें, कि दुनिया में किस तरह से तकनीकी विकास हो रहे हैं। ताकि उसी अनुरूप भारत में भी काम हो सके।”

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन। (फाइल फोटो, PIB)

विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्रालय के तहत ही विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग (डीएसटी) कार्य करता है। विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग ऐसी प्रमुख विज्ञान परियोजनाओं पर कार्य करता है, जो राष्ट्रीय जरूरतों और भविष्य के लिए सहायक होते हैं। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग विज्ञान और प्रौद्योगिकी को देश में बढ़ावा देने में अहम भूमिका निभाता है।

दरअसल, दुनिया तेजी से बदल रही है। आज हम जिस टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हैं, वह कुछ वर्षों में अप्रचलित हो जाती है। इन परिवर्तनों के पीछे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), क्वांटम कम्प्यूटिंग, ऑटोनॉमस सिस्टम से उत्पन्न प्रौद्योगिकी क्रांतियां हैं। इन्हीं तकनीकी क्रांतियों की दिशा में भारत भी काम करने की कोशिश कर रहा है।

यह भी पढ़ें – सरकार खरीदेगी 250 करोड़ रुपये का विमान, किस काम आएगा यह विमान?

ऐसे में डॉ. हर्षवर्धन के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय लगातार पहल कर रहा है कि कैसे देश हमेशा दुनिया भर में तकनीकी क्षेत्र में चल रहे रिसर्च से अपडेट रहे।

यह तभी हो सकता है जब देश के छात्र, शोधार्थी दुनियाभर में हो रहे तकनीकी विकास से अपडेट रहें। विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग का नेतृत्व करने वाले प्रोफेसर आशुतोष शर्मा ने कहा कि विश्व स्तर पर हो रही चुनौतीपूर्ण तकनीकी विकास की दिशा में डीएसटी ने कई पहल की हैं। कई देशों के साथ द्विपक्षीय योजनाओं पर भी हस्ताक्षर किए हैं। (आईएएनएस)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less