Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

बामियान बुद्ध ऐतिसाहिक धरोहर का इस्तेमाल टारगेट प्रैक्टिस के लिए कर रहा तालिबान

सोशल मीडिया पर ऐसे कई वीडियो क्लिप सामने आए हैं, जहां तालिबान लड़ाकों को उन गुफाओं में बड़े हथगोले दागते हुए देखा गया था, जहां बुद्ध की विशाल प्रतिमाएं 1,400 से अधिक वर्षों से खड़ी थीं

बामियान बुद्ध ऐतिसाहिक धरोहर का इस्तेमाल टारगेट प्रैक्टिस के लिए कर रहा तालिबान (VOA)

तालिबान ने वर्षो पहले बामियान बुद्ध की विशालकाय मूर्तियों को नष्ट कर दिया था। अब तालिबानी लड़ाके बामियान बुद्ध के अवशेषों का उपयोग टारगेट प्रैक्टिस के लिए कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर ऐसे कई वीडियो क्लिप सामने आए हैं, जहां तालिबान लड़ाकों को उन गुफाओं में बड़े हथगोले दागते हुए देखा गया था, जहां बुद्ध की विशाल प्रतिमाएं 1,400 से अधिक वर्षों से खड़ी थीं।

गांधार समाचार द्वारा साझा की गई एक वीडियो क्लिप में, कम से कम सात तालिबान बंदूकधारियों को गुफाओं के पास गोलीबारी करते देखा गया है। साथ ही उन्हें तालिबान के नारे लगाते हुए भी देखा गया।

वीडियो क्लिप में आप साफ़ देख सकते हैं की एक ग्रेनेड उस जगह की दीवार के पास विस्फोट हो रहा है, जहां कभी एक विशाल बुद्ध की मूर्ति होती थी। जब गांधार समाचार ने तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार के सांस्कृतिक आयोग के उप प्रमुख अहमदुल्ला वासीक से इस बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा कि जांच जारी है और अपराधियों को पकड़ा जाएगा और उन्हें न्याय के दायरे में लाया जाएगा।

न्यूज साइट के मुताबिक, अपराधी तालिबान की उस कमांड यूनिट से हैं, जो वहां ऐतिहासिक स्थल की सुरक्षा के लिए तैनात है। बामियान में प्रांतीय गवर्नर, मुल्ला शिरीन अखुंद, जो दोहा में तालिबान वार्ता दल का हिस्सा थे, ने साइट की रक्षा करने का वादा किया था।

Taliban Fighters , Afghanistan , terrorism सैफ-उल-रहमान मोहम्मदी ने मीडिया को बताया था कि तालिबान सरकार प्रांत के अमूल्य और ऐतिहासिक स्मारकों को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है [Wikimedia Commons]


पिछले महीने तालिबान ने वादा किया था कि वे बौद्ध अवशेषों के रक्षक के तौर पर काम करेंगे और इससे पर्यटक भी बामियान की ओर आकर्षित होंगे। तालिबान के इस वादे के कुछ दिन बाद से ही ऐसे वीडियोज सामने आने लगे , जिससे यह साफ़ नजर आ रहा की तालिबान के इरादे कुछ और ही हैं।

इंडियानैरेटिव के अनुसार, बामियान के सूचना और संस्कृति निदेशालय के प्रमुख, मावलवी सैफ-उल-रहमान मोहम्मदी ने मीडिया को बताया था कि तालिबान सरकार प्रांत के इन अमूल्य और ऐतिहासिक स्मारकों को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है। स्थानीय और विदेशी पर्यटक बामियान के ऐतिहासिक स्थलों और बुद्धों के दर्शन कर सकते हैं।

तालिबान इतने वादे करने के बावजूद भी लोगो का भरोसा नहीं जीत पा रहा है। अधिकांश इतिहासकार, पुरातत्वविद और मानवविज्ञानी यह मानते हैं की अफगानिस्तान की विरासत की रक्षा के उनके सभी वादे उनकी उदार छवि को चित्रित करने के लिए हैं।जिसने भी बामियान स्थलों के विनाश और तालिबान नेताओं की करतूतों को करीब से देखा है, वे तालिबान पर भरोसा करने को बिलकुल तैयार नहीं है।

तालिबान के द्वारा 2001 में बामियान बुद्ध की मूर्तियों को नष्ट करने की वजह पूछने पर मोहम्मदी ने यह कह के पल्ला झाड़ लिया कि उन्होंने 2001 में धार्मिक विचारधारा के आधार पर बुद्ध की ऐतिसाहिक मूर्तियों को नष्ट कर दिया था।

उन्होंने कहा, "इस्लामिक अमीरात ने उस समय (2001) जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं किया था, इसकी समीक्षा की गई और इस्लामी कानूनों के आधार पर शोध किया गया और फिर उन्होंने उन्हें नष्ट कर दिया।"

बामियान में 2001 का विनाश, अफगानिस्तान की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा हमला कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : सलमान खुर्शीद ने हिन्दू धर्म में आपत्तिजनक टिप्पणी पर वकील ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

विडंबना यह है कि तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर के आदेश को अंजाम देने वाले मुल्ला हसन अखुंद अब नई तालिबान सरकार के प्रधानमंत्री हैं। वही आदमी अब अफगानिस्तान की सभी प्राचीन धरोहरों की रक्षा करने का वादा कर रहा है। काबुल पर 15 अगस्त को कब्जा करने के बाद आतंकी समूह ने अपने लड़ाकों से बचे-खुचे अवशेषों को मजबूत रूप से संरक्षित करने, इनकी निगरानी रखने, अवैध खुदाई को रोकने और सभी ऐतिहासिक स्थलों की रक्षा करने के लिए कहा था। उनके एक बयान में कहा गया है, "किसी को भी ऐसी साइटों पर परेशानी खड़ी करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए या लाभ के लिए उनका उपयोग करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए।"

तालिबान ने वादे तो बहुत कर लिए हैं पर अब देखना यह होगा की वह कितने वादों पर खड़ा उतरता है। फिलहाल यह साफ़ देखा जा सकता है की तालिबान दोहा में किए गए मानवाधिकारों, महिलाओं के अधिकारों, शिक्षा और समावेशी सरकार का संरक्षण के वादों का पालन नहीं कर रहा है।

(यह आलेख इंडियानैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत लिया गया है)

Input: India Narrative ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

वायरस जनित बीमारियों की विश्व स्तरीय जांच अब गोरखपुर में भी हो सकेगा। [IANS]

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में इंसेफेलाइटिस समेत अन्य वायरस जनित बीमारियों की विश्व स्तरीय जांच शुरू हो गई है। गोरखपुर (Gorakhpur) में यह इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR)की क्षेत्रीय इकाई रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (RMRC) के जरिए संभव हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के प्रयास से शुरू इस आरएमआरसी में नौ अत्याधुनिक लैब्स बनकर तैयार हैं। बता दें कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) इसका उद्घाटन करेंगे।

राज्य सरकार की ओर से मिली जानकारी के अनुसार आरएमआरसी (RMRC) की इन लैब्स के जरिये न केवल बीमारियों के वायरस की पहचान होगी बल्कि बीमारी के कारण, इलाज और रोकथाम को लेकर व्यापक स्तर पर वल्र्ड क्लास अनुसंधान भी हो सकेगा। सबसे खास बात यह भी है कि अब गोरखपुर (Gorakhpur) में ही आने वाले समय में कोरोनाकाल के वर्तमान दौर की सबसे चर्चित और सबसे डिमांडिंग जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) भी हो सकेगी। यह पता चल सकेगा कि कोरोना का कौन सा वेरिएंट (Covid variant) अधिक प्रभावित कर रहा है।

Narendra Modi , PM of India, ICMR मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस RMRC का उद्घाटन करेंगे। [Wikimedia Commons]

Keep Reading Show less

अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्री (Wikimedia commons)

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने सोमवार को कहा कि केंद्र नागालैंड (Nagaland) में उभरती स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए है और व्यापक हिंसा के बाद मोन जिले में शांति सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं।

बता दें की नागालैंड में ये स्थिति सेना की एक 'गलत' छापेमारी के कारण बन गयी है, जिसमें 14 नागरिक और एक सैनिक मारा गया है। राज्य में हड़कंप मचने के बाद अधिकारियों ने प्रभावित क्षेत्रों में एहतियाती उपायों के रूप में निषेधाज्ञा लागू कर दी है।

Keep Reading Show less

पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। (Wikimedia Commons)

पाकिस्तान(Pakistan) के पंजाब प्रान्त(Punjab Province) से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। पंजाब प्रान्त में एक श्रीलंकाई नागरिक(Srilankan Citizen) प्रियंता कुमार दियवदना की ईशनिंदा(Ishninda) के आरोप में पीट-पीट कर हत्या कर दी गई।

पाकिस्तान के कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के समर्थकों ने एक कपड़ा फैक्ट्री पर हमला किया और इसके जीएम दियवदना की पीट-पीट कर हत्या कर दी। इसके बाद भीड़ ने शव को जला दिया। एक पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक पोस्टमॉर्टेम की रिपोर्ट में खोपड़ी और जबड़े की हड्डी टूटने को मौत की वजह बताया गया है।

Keep reading... Show less