Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

पाकिस्तान में सेना की चलेगी या इमरान खान की

पाकिस्तान में सत्ता को लेकर हमेशा से बहस होती रही है। सेना अपनी हुकूमत चाहती है वहीं इमरान खान सरकार अपनी हुकूमत चलना चाहती हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान [Wikimedia Commons]

एक टीवी शो में प्रधानमंत्री खान के विशेष सहायक आमिर डोगर ने यह दावा किया है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने स्पष्ट कर दिया है कि वह रबर स्टैंप प्रधानमंत्री नहीं हैं और वे कानून के अनुसार निर्णय लेंगे। इनके इस बयान के सामने आते ही उन्हें उनकी सत्ताधारी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) द्वारा अपना मुंह 'बंद' रखने और अपने आचरण की व्याख्या करने के लिए कहा गया।

पीटीआई का कहना है कि डोगर की टिप्पणियों ने राजनीतिक रूप से 'गलत धारणा' पैदा की है। लेकिन पीटीआई के समर्थक यह दावा कर रहे हैं कि यह जनरल कमर जावेद बाजवा के नेतृत्व वाले पाकिस्तान के सर्व-शक्तिशाली सैन्य प्रतिष्ठान पर इमरान खान के नेतृत्व वाली नागरिक सरकार की 'अभूतपूर्व' जीत है।


मामले के तूल पकड़ने पर पाकिस्तानी सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने बात संभालते हुए दावा किया कि "पीएम इमरान खान कभी भी पाकिस्तानी सेना और सेना प्रमुख के सम्मान को कम नहीं करेंगे।"

गौरतलब है की पाकिस्तान जैसे देश में पाकिस्तानी फौज ही असली मालिक है और इसे किसी भी नागरिक सरकार द्वारा 'बहिष्कृत' या साइडलाइन नहीं किया जा सकता है। इस बीच इमरान खान और जनरल बाजवा के बीच देश की खुफिया एजेंसी इंटर-स्टेट इंटेलिजेंस (आईएसआई) के नए प्रमुख की नियुक्ति को लेकर एक हफ्ते से गतिरोध बना हुआ है।

पाकिस्तानी पत्रकार फहद हुसैन देश के प्रमुख समाचार पत्र डॉन में प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में कहते हैं, "यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि यह मुद्दा किस तरह से सुलझेगा। अगर यह सुलझ भी जाता है तो यह स्पष्ट नहीं है कि अंत में नए आईएसआई डीजी के रूप में कौन कार्यभार संभालेगा। यह काफी अभूतपूर्व स्थिति है।"

पाकिस्तानी सूत्रों का दावा है कि पाकिस्तानी सेना जहां इस मुद्दे पर खामोश है, वहीं मंगलवार की रात हुई बैठक के दौरान बाजवा ने इमरान खान को साफ कर दिया कि वह सैन्य मामलों में दखल देकर अपनी हदें पार न करें और लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद को जाने दें। दरअसल खान चाहते हैं कि आईएसआई प्रमुख के रूप में हमीद ही पद पर बने रहें। खान की 'इच्छा' के अनुसार, उन्हें तीन संभावितों की एक सूची सौंपी गई है। उनमें से एक लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अहमद अंजुम का नाम है, जिन्हें पहले सेना ने नए आईएसआई प्रमुख के रूप में घोषित किया था।

पाकिस्तान पर नजर रखने वालों का दावा है कि अंजुम तीनों में सबसे वरिष्ठ हैं और उन्हें आश्चर्य है कि खान आईएसआई प्रमुख की नियुक्ति को नोटिफाइड क्यों नहीं कर रहे हैं। लेकिन खान इस नाम के साथ सहमत नहीं हैं। वह चाहते हैं कि हमीद अगले साल मार्च तक बने रहें, जो बाजवा को मंजूर नहीं है।

यह भी पढ़ें : संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए भारत निर्विरोध चुना गया

पाकिस्तानी पत्रकार नजम सेठी का कहना है, "पीएम इमरान खान किसी की नहीं सुन रहे हैं। इसी वजह से अभी तक नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया है।"

यह वास्तव में पाकिस्तान के विशेषज्ञों और मीडिया के लिए पेचीदा है, क्योंकि इमरान खान, जिन्हें बाजवा द्वारा 'चुना' गया था, न केवल उनकी अवहेलना कर रहे हैं, बल्कि सार्वजनिक रूप से उन्हें अपमानित और चुनौती दे रहे हैं।

एक पाकिस्तानी पत्रकार के अनुसार, खान का सबसे महत्वपूर्ण दांव यह है कि वह तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) जैसे चरमपंथी धार्मिक कट्टरपंथियों को आकर्षित करते हुए अपना राजनीतिक भविष्य दांव पर लगा रहे हैं। वह बाजवा के खिलाफ ताजा धार्मिक हमलों के पीछे भी हैं, जिसे कुछ कट्टरपंथियों ने 'अहमदी' करार दिया है।

 \u092a\u093e\u0915\u093f\u0938\u094d\u0924\u093e\u0928\u0940 \u092b\u094c\u091c , pakistan army पाकिस्तान में है पाकिस्तानी फौज का दबदबा [wikimedia commons]


जनरल बाजवा को अतीत में उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि के कारण अहमदी होने के 'आरोपों' का सामना करना पड़ा है और पाकिस्तान में अहमदिया संप्रदाय को गैर-मुस्लिम घोषित किया गया है। यह एक खुला रहस्य है कि टीएलपी का हमीद के साथ घनिष्ठ संपर्क है और इमरान खान अपने फायदे के लिए टीएलपी का इस्तेमाल करते रहे हैं। हमीद की बदौलत टीएलपी पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के कारण अगला चुनाव नहीं लड़ पाएगी, लेकिन वह इमरान खान को पूरा समर्थन देने जा रही है।

हाल ही में खान ने पाकिस्तान के लोगों को पश्चिमी संस्कृति से बचाने के लिए रहमतुल-लील-अलामीन प्राधिकरण, मुल्लाओं और धार्मिक मौलवियों की एक परिषद की घोषणा की है।

पाकिस्तान में एक और अफवाह है कि इमरान खान अगले साल मार्च/अप्रैल में आम चुनाव टाल सकते हैं और इसीलिए वह चाहते हैं कि फैज हमीद मार्च तक आईएसआई प्रमुख बने रहें।

तो अब सवाल यह है कि इमरान बनाम बाजवा के गतिरोध में अब और क्या सामने आने वाला है? देश के इतिहास का हवाला देते हुए, विश्लेषकों का कहना है कि पाकिस्तान अल्लाह और सेना द्वारा चलाया जाता है और अब खान अल्लाह को अपने पक्ष में करने के लिए बहुत कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने चेताया है कि रावलपिंडी जीएचक्यू और इस्लामाबाद के बीच की दूरी बहुत कम है और बाजवा को कम करके आंकना इमरान खान की एक बड़ी भूल साबित हो सकती है।

Input: इंडियानैरेटिव; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

यूपी में आज होने वाली थी यूपी टीईटी की परीक्षा। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने रविवार को घोषणा की कि यूपी टीईटी-2021(UP TET-2021) पेपर-लीक में शामिल लोगों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट(Gangster Act) और एनएसए लगाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने देवरिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, जो लोग इस अपराध में शामिल हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। उनकी संपत्ति को राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम लागू करने के साथ ही जब्त कर लिया जाएगा।

पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया को खराब करने वाले सभी लोगों को चेतावनी का एक नोट भेजते हुए, उन्होंने कहा, यदि कोई युवाओं के जीवन के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश कर रहा है, तो उसे परिणामों के बारे में पता होना चाहिए। चाहे वह नौकरी हो या कोई परीक्षा। अत्यधिक पारदर्शिता बनाए रखी जानी चाहिए।

आदित्यनाथ ने यह भी आश्वासन दिया कि एक महीने के भीतर परीक्षा फिर से पारदर्शी तरीके से आयोजित की जाएगी। किसी भी परीक्षार्थी से कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा और सरकार यूपीएसआरटीसी की बसों के माध्यम से उनके मुक्त आवागमन की व्यवस्था करेगी।

Keep Reading Show less

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस तीन दशक से सत्ता से बाहर है। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में कांग्रेस(Congress) को अरसा हो गया है सत्ता में आए हुए। लगभग 3 दशक हो गए हैं और अब तक कांग्रेस सत्ता से बाहर है। इसके कई कारण है पर सबसे बड़ा कारण है राज्य में कांग्रेस का गठबंधनों पर निर्भर रहना।

कांग्रेस का गठबंधन(Alliance) का खेल साल 1989 ने शुरू हुआ जब राज्य में वो महज़ 94 सीटें जीत पाई और उसने तुरंत मुलायम सिंह यादव(Mulayam Singh Yadav) के नेतृत्व वाली जनता दल सरकार को समर्थन दे दिया था।

Keep Reading Show less

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep reading... Show less