Tuesday, June 15, 2021
Home थोड़ा हट के अब जूते भी होंगे इको फ्रेंडली

अब जूते भी होंगे इको फ्रेंडली

परंपरागत तौर पर बनने वाले जूतों में क्रोम युक्त चमड़ा और सिंथेटिक का प्रयोग होता है। चमड़े में मिक्स क्रोम ही प्रदूषण की मुख्य वजह है।

उत्तर प्रदेश के निर्यात के रूप में कानपुर के चर्म उद्योग का एक प्रमुख स्थान है, लेकिन साथ ही साथ प्रदूषण एक बदनुमा दाग भी। इस दाग को धोने का जिम्मा उठाया है इसी उद्योग से जुड़े वहां के केमिकल इंजीनियर राजेंद्र जालान ने।

जालान अब इकोफ्रेंडली जूते बना रहे हैं। परंपरागत तौर पर बनने वाले जूतों में क्रोम युक्त चमड़ा और सिंथेटिक का प्रयोग होता है। चमड़े में मिक्स क्रोम ही प्रदूषण की मुख्य वजह है।

इको फ्रेंडली जूतों में ऊपर का पूरा हिस्सा खादी के खास तरह के कपड़ों का है। जूते की सोल केरल के कार्क मिक्स रबर की है, तो पंजों और एड़ियों को आराम देने वाला सुख तल्ला लैटेक्स फोम का। जूते के पिछले हिस्से को सख्त बनाने के लिए जूट का प्रयोग किया गया है। सिलाई नायलन की जगह खास तरह के बने मजबूत सूती धागों की है। यहां तक कि पैकिंग भी रिसाइकल्ड कागज के ऊपर प्राक्रतिक रंगों द्वारा छपाई करके विदेश में निर्यात किया जा रहा है। अन्य सामग्री भी इको फ्रेंडली हो, इसका पूरा ख्याल रखा गया है।

मालूम हो कि राजेंद्र जालान 1974 में एचबीटीआई से केमिकल इंजीनियरिंग करने के बाद से ही इस इंडस्ट्री में हैं। उनकी कानपुर के पनकी और कानपुर देहात में जूते की दो इकाईयां हैं। उनके जूतों का निर्यात अमेरिका, जर्मनी, स्पेन, आस्ट्रलिया, दक्षिण अमेरिका के देश और दक्षिण कोरिया में होता है।

Jalan Shoe Company
जालान के जूतों का निर्यात अमेरिका, जर्मनी, स्पेन, आस्ट्रलिया, दक्षिण अमेरिका के देश और दक्षिण कोरिया में होता है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

यह पूछने पर कि लॉकडाउन के दौरान यह ख्याल आपको कैसे आया, राजेंद्र जालान ने कहा कि, कोरोना के कारण वैश्विक स्तर पर बहुत कुछ बदला है। बदलाव की यह प्रक्रिया जारी है। कोरोना का संक्रमण खत्म हो जाने के बाद भी बहुत कुछ बदल जाएगा। लोग स्वास्थ्य और पर्यावरण के प्रति जागरूक हुए हैं। ऐसे में मुझे लगा कि भविष्य टिकाऊ सस्टेनेबल और इको फ्रेंडली चीजों का ही होगा। लिहाजा पूरी तरह हाथ से बुने खादी के कपड़ों को बेस बनाकर इको फ्रेंडली जूते बनाने की सोची। लखनऊ आकर अपर मुख्य सचिव सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योग और खादी एवं ग्रामोद्योग नवनीत सहगल से संपर्क किया तो उन्होंने ना केवल उनको प्रोत्साहित किया बल्कि हर संभव मदद का भरोसा दिया। आज आप जो इको फ्रेंडली जूता देख रहे हैं, वह उन्हीं के द्वारा बहुत कम समय में खड़ी का कपड़ा उपलब्ध कराए जाने से संभव हो सका और फिर सिलसिला शुरू हो गया। जालान को उम्मीद है कि आने वाले समय में खादी से बने हुए जूतों को राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय पहचान मिलेगी एवं प्रधानमंत्री का आत्मनिर्भर भारत बनाने के सपने को आगे बढ़ाने का भी एक प्रयास है। इस प्रयास से देश में उद्दमिता का विकास होगा और कुटीर उद्योग को बढ़ावा मिलने से रोजगार के नए अवसर उत्पन्न होंगे।

यह भी पढ़ें: हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम में लखनऊ का कहानीकार

अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने कहा कि, सरकार अपने प्रदेश के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हर संभव मदद कर रही है। इको फ्रेंडली जूते बनाकर प्रदूषण कम हो सकता है। तो इस कार्य को तेजी से करें। इसमें जो भी सहायता होगी की जाएगी।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी