Monday, June 14, 2021
Home व्यवसाय आर्थिक सर्वेक्षण में महिला कर्मचारियों को प्रोत्साहन के साथ समान वेतन का...

आर्थिक सर्वेक्षण में महिला कर्मचारियों को प्रोत्साहन के साथ समान वेतन का सुझाव

कार्यबल में अधिक महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए 2020-21 के आर्थिक सर्वेक्षण में वेतन एवं समानता के साथ-साथ बाल देखभाल सुविधाओं, परिवार के अनुकूल कार्य वातावरण और करियर में प्रगति के संदर्भ में महिला श्रमिकों के लिए समर्थन का सुझाव दिया गया है।


कार्यबल में अधिक महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए 2020-21 के आर्थिक सर्वेक्षण में वेतन एवं समानता के साथ-साथ बाल देखभाल सुविधाओं, परिवार के अनुकूल कार्य वातावरण और करियर में प्रगति के संदर्भ में महिला श्रमिकों के लिए समर्थन का सुझाव दिया गया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुक्रवार को संसद में पेश किए गए आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि अधिक महिलाओं को श्रम बल (लेबर फोर्स) में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सस्ती और गुणवत्तापूर्ण बाल देखभाल सुविधाओं (चाइल्ड केयर फेसिलिटी) के लिए संस्थागत समर्थन में निवेश, भुगतान किया जाने वाला पितृत्व अवकाश, परिवार के अनुकूल काम का माहौल और बुजुर्गों की देखभाल के लिए सहायता की आवश्यकता है। सर्वेक्षण में कहा गया है, “कार्यस्थल पर गैर-भेदभावपूर्ण प्रथाओं को बढ़ावा देने की भी आवश्यकता है, जिसमें वेतन और करियर की प्रगति, महिला कर्मचारियों के लिए अन्य चिकित्सा और सामाजिक सुरक्षा लाभों सहित कार्य प्रोत्साहन में सुधार शामिल है।” 

finance minister
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण । ( PIB)

यह भी पढ़ें – मैंने Music Industry को पागल होते देखा है :  गायक दलेर मेहंदी

दस्तावेज में कहा गया है कि 2018-19 में प्रोडक्टिव आयु (15-59 वर्ष) में महिलाओं की श्रम शक्ति भागीदारी दर (एलएफपीआर) 26.5 प्रतिशत थी, जबकि पुरुषों (ग्रामीण और शहरी) के लिए यह 80.3 प्रतिशत थी।इसमें बताया गया है कि 54.7 प्रतिशत शहरी महिलाएं नियमित वेतन/वेतनभोगी श्रेणी में रहीं हैं, वहीं लगभग 59.6 प्रतिशत ग्रामीण महिलाएं न केवल स्व-नियोजित (सेल्फ एंपलॉय) थीं, बल्कि उनमें से 37.9 प्रतिशत महिलाओं ने घरेलू उद्यमों में सहायक के तौर पर भी काम किया। निम्न महिला एलएफपीआर के लिए घरेलू ड्यूटी में महिलाओं की उच्च भागीदारी (15 वर्ष और अधिक) को जिम्मेदार ठहराया गया है, जो कि 2018-19 में ग्रामीण क्षेत्रों में 55.7 प्रतिशत और शहरी क्षेत्रों में 59.1 प्रतिशत रही है। (आईएएनएस )

 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी