भारतीय रिज़र्व बैंक की अगुवाई में निति निर्धारण समिति ने आज बैठक की

लगातार नौ महीने तक मुद्रास्फीति को अनिवार्य दायरे में लाने में विफल रहने के बाद आज एमपीसी की बैठक अनिर्धारित समय पर हुई थी
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दासWikimedia

भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India) की अगुवाई में निति निर्धारण समिति ने आज बैठक की जिसमे देश की मुद्रास्फीति दर को 2 से 6 प्रतिशत के दायरे में रखने में विफल रहने पर सरकार को रिपोर्ट दिए जाने वाली रिपोर्ट पर चर्चा हुई और साथ ही मसौदा तैयार किया गया।

रिज़र्व बैंक ने अपने बयान में कहा कि मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee) की बैठक की अध्यक्षता गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने की और इसमें एमपीसी (MPC) के सभी सदस्य माइकल देबब्रत पात्रा, राजीव रंजन, शशांक भिड़े, आशिमा गोयल और जयंत आर वर्मा ने हिस्सा लिया।

आपको बता दे की लगातार नौ महीने तक मुद्रास्फीति (Inflation) को अनिवार्य दायरे में लाने में विफल रहने के बाद आज एमपीसी की बैठक अनिर्धारित समय पर हुई थी। 

भारतीय रिज़र्व बैंक
भारतीय रिज़र्व बैंकWikimedia

भारत (India) की खुदरा मुद्रास्फीति (retail inflation) सितंबर में बढ़कर पांच महीने के उच्चतम स्तर 7.4 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो लगातार तीसरी तिमाही में थी, जहां औसत प्रिंट आरबीआई (RBI) की 6 प्रतिशत की सहिष्णुता सीमा से ऊपर रहा और यह तीन साल के लिए 4 प्रतिशत के मध्यम अवधि के लक्ष्य को पार कर गया है।

कानून दवा बताये गए नियमानुसार आरबीआई को सरकार को बताना होगा की वह मुद्रास्फीति दर 2-6% के अनिवार्य दायरे में लेन में विफ़ल क्यों रही और साथ ही इसे ठीक करने के लिए उपचारात्मक उपायों के बारे में भी बताना होगा।

हालांकि रिजर्व बैंक के गवर्नर और मौद्रिक नीति समिति के चेयरमैन शक्तिकांत दास ने कल कहा था कि सरकार को लिखे गए पत्र को किसी न किसी समय जनता के लिए जारी किया जाएगा।

आरबीआई अधिनियम की धारा 45 जेडएन के तहत, केंद्रीय बैंक को केंद्र सरकार को एक रिपोर्ट में मुद्रास्फीति लक्ष्य प्राप्त करने में विफलता के कारणों को निर्धारित करना होगा; बैंक द्वारा की जाने वाली उपचारात्मक कार्रवाई; और उस समय-अवधि का अनुमान जिसके भीतर प्रस्तावित उपचारात्मक कार्रवाइयों के समय पर कार्यान्वयन के अनुसार मुद्रास्फीति लक्ष्य प्राप्त किया जाएगा।

इसके अलावा, आरबीआई एमपीसी और मौद्रिक नीति (Monetary Policy) प्रक्रिया विनियम, 2016 के विनियमन 7 के अनुसार, सरकार को भेजी जाने वाली रिपोर्ट पर चर्चा और मसौदा तैयार करने के लिए सामान्य नीति प्रक्रिया के हिस्से के रूप में समिति के सचिव द्वारा एक अलग बैठक निर्धारित करने की आवश्यकता होती है।

यह रिपोर्ट बैंक द्वारा मुद्रास्फीति लक्ष्य को पूरा करने में विफल रहने की तारीख से एक महीने के भीतर भेजनी होती है इसलिए आरबीआई को 12 नवंबर से पहले रिपोर्ट सौंपनी होगी क्योंकि सितंबर मुद्रास्फीति के आंकड़े 12 अक्टूबर को जारी हुए थे।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास
सरकार को लिखे गए पत्र को जनता के लिए जारी किया जाएगा: आरबीआई गवर्नर शकीकांत दास

तेज़ी से बढ़ती मुद्रास्फीति भारत सहित दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों के लिए चिंता का विषय रही है, क्योंकि रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine war) की अनिश्चित प्रकृति ने महामारी के बाद की दुनिया में आपूर्ति पक्ष के व्यवधानों को बढ़ा दिया है।

रिकवरी के साथ वैश्विक बाज़ार की कीमतों में वृद्धि हुई क्योंकि मांग बढ़ने से आपूर्ति बढ़ गई। संघर्ष के प्रकोप ने कोयला, धातु, खाद्य तेल और कच्चे तेल जैसी प्रमुख महत्वपूर्ण वस्तुओं की आपूर्ति श्रृंखलाओं को लगभग नष्ट कर दिया, खाद्य तेल और कच्चे तेल भारत के आवश्यक और प्रमुख आयात है।


RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com