भारत के जीएसएलवी एमके 3 रॉकेट ने 'वनवेब' के 36 उपग्रहों के साथ उड़ान भरा

वनवेब के 36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना है।
36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना
36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजनाIANS

भारत के जीएसएलवी एमके 3 रॉकेट, जिसका नाम बदलकर अब एलवीएम3 एम2 रखा गया है, ने यहां के रॉकेट पोर्ट से शनिवार देर रात यूके स्थित 'वनवेब' (OneWeb) के 36 उपग्रहों के साथ उड़ान भरा।

43.5 मीटर लंबा और 644 टन वजनी एलवीएम3 एम2 रॉकेट 5,796 किलोग्राम या लगभग 5.7 टन वजन वाले 36 उपग्रहों को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लॉन्च पैड से रात 12.07 बजे उड़ाया गया।

अपनी उड़ान में सिर्फ 19 मिनट में एलवीएम3 कम पृथ्वी की कक्षा (एलईओ) में नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (वनवेब) के 36 छोटे ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को साथ लेकर उड़ा।

जीएसएलवी एमके 3 रॉकेट
जीएसएलवी एमके 3 रॉकेटIANS

यदि प्रक्षेपण सफल होता है, तो माना जाएगा कि भारत ने 1999 से शुरू होकर कुल 381 विदेशी उपग्रहों को लॉन्च किया।

वनवेब के 36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना है।

वनवेब, भारत भारती ग्लोबल और यूके सरकार के बीच एक संयुक्त उद्यम है।

उपग्रह कंपनी संचार सेवाओं की पेशकश करने के लिए कम पृथ्वी की कक्षा (एलईओ) में लगभग 650 उपग्रहों का एक समूह बनाने की योजना बना रही है।

एलवीएम3 एक तीन चरण वाला रॉकेट है, जिसमें पहले चरण में तरल ईंधन, दो स्ट्रैप ठोस ईंधन द्वारा संचालित मोटर्स, दूसरा तरल ईंधन द्वारा और तीसरा क्रायोजेनिक इंजन है।

इसरो के भारी लिफ्ट रॉकेट की क्षमता एलईओ तक 10 टन और जियो ट्रांसफर ऑर्बिट (जीटीओ) तक चार टन है।

आम तौर पर जीएसएलवी रॉकेट का इस्तेमाल भारत के भूस्थिर संचार उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए किया जाता है और इसलिए इसे जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (जीएसएलवी) नाम दिया गया।

36 उपग्रहों के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना
क्रिकेट लवर्स के लिए खुशखबरी

उड़ान भरने वाला रॉकेट लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में वनवेब उपग्रहों की परिक्रमा करेगा।

भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र के लिए रॉकेट मिशन (Rocket mission) में कई प्रथम हैं। यह जीएसएलवी एमके3 का पहला व्यावसायिक प्रक्षेपण है और पहली बार कोई भारतीय रॉकेट लगभग छह टन का पेलोड ले जाएगा।

इसी तरह, वनवेब पहली बार अपने उपग्रहों को कक्षा में स्थापित करने के लिए एक भारतीय रॉकेट का उपयोग कर रहा है।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com