मध्यप्रदेश में डेयरी उद्योग में रोजगार के लिए हुई नई पहल

मध्यप्रदेश में मालवा क्षेत्र के युवाओं के लिए डेयरी उद्योग में रोजगार एवं स्व-रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में पहल की गई है।
मध्य प्रदेश में डेयरी उद्योग में रोजगार के लिए हुई नई पहल
मध्य प्रदेश में डेयरी उद्योग में रोजगार के लिए हुई नई पहलIANS

मध्यप्रदेश में मालवा क्षेत्र के युवाओं के लिए डेयरी उद्योग में रोजगार एवं स्व-रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में पहल की गई है। इसके लिए करार भी हुआ है। रोजगार व स्वरोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिए इंदौर और उज्जैन के दुग्ध संघों का मिल्क एवं मिल्क प्रोडेक्ट तकनीशियन ट्रेड के लिये I.T.I इंदौर, उज्जैन के साथ करार हुआ है। मालवा क्षेत्र में ट्रेड प्रारंभ होने से उज्जैन, इंदौर एवं देवास आदि स्थानों के डेयरी संयंत्रों में छात्र-छात्राओं को रोजगार एवं स्व-रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।

फेडरेशन के प्रबंध संचालक तरूण राठी ने बताया है कि प्रदेश में केन्द्रीय कौशल विकास मंत्रालय के ड्यूअल सिस्टम ऑफ ट्रेनिंग (DST) योजना में संचालित ट्रेड में पांच माह का सैद्धान्तिक अध्ययन करवाया जाएगा। साथ ही आई.टी.आई. द्वारा सात माह का प्रायोगिक प्रशिक्षण संबंधित दुग्ध संघ के डेयरी संयंत्रों में किया जाएगा। ट्रेड में प्रवेश ऑनलाइन होगा। न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता हाईस्कूल उत्तीर्ण है।

मध्य प्रदेश में डेयरी उद्योग में रोजगार के लिए हुई नई पहल
जयपुर में बनी गायों के गोबर की राखियों के अमेरिका, मॉरीशस में मिले खरीदार

बताया गया है कि यह ट्रेड भोपाल दुग्ध संघ एवं I.T.I भोपाल की सहभागिता से वर्ष 2020-21 से संचालित किया जा रहा है। पहले बैच के 18 छात्र प्रदेश के सहकारिता एवं निजी डेयरी संयंत्रों में कार्यरत है। इन्हें औसतन 15000 रुपए प्रतिमाह की आय हो रही है। नेशनल काउंसिल ऑफ वोकेशनल ट्रेनिंग (NCVT) से मान्यता प्राप्त होने से इस ट्रेड से छात्र पूरे देश में कहीं भी रोजगार पा सकते हैं।

(आईएएनएस/AV)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com