पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका में 15 करोड़ से अधिक बच्चे गरीबी और जलवायु आपदा की चपेट में

केन्या में 16.31 मिलियन बच्चे या देश के 67 प्रतिशत बच्चे गरीबी और जलवायु आपातकाल के दोहरे प्रभावों के साथ जी रहे हैं।
अफ्रीका में 15 करोड़ से अधिक बच्चे गरीबी और जलवायु आपदा की चपेट में (सांकेतिक चित्र)
अफ्रीका में 15 करोड़ से अधिक बच्चे गरीबी और जलवायु आपदा की चपेट में (सांकेतिक चित्र)Wikipedia

पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका में 15 करोड़ से अधिक बच्चे गरीबी (poverty) और जलवायु आपदा (climate disaster) की चपेट में हैं। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चैरिटी सेव द चिल्ड्रन ने गुरुवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा कि केन्या में 16.31 मिलियन बच्चे या देश के 67 प्रतिशत बच्चे गरीबी और जलवायु आपातकाल के दोहरे प्रभावों के साथ जी रहे हैं।

सेव द चिल्ड्रन केन्या (Kenya) और मेडागास्कर के कंट्री डायरेक्टर यवोन अरुंगा ने कहा कि जलवायु आपातकाल और असमानता के मुद्दे गहराई से जुड़े हुए हैं और एक-दूसरे से अलग-थलग करके नहीं निपटा जा सकता है।

अरुंगा ने कहा कि इस तरह के संकट लोगों को और भी अधिक गरीबी की ओर धकेलते हैं और लाखों लोगों को अगली बाढ़ या सूखे की चपेट में ले आते हैं।

अफ्रीका में बढ़ती ग़रीबी
अफ्रीका में बढ़ती ग़रीबीWikimedia

उन्होंने कहा, "केन्या में, यह संबंध और अधिक स्पष्ट नहीं हो सकता है। केन्या और अफ्रीका (Africa) के बड़े हॉर्न में हमने जो सूखा देखा है, वह 40 वर्षो में सबसे खराब है और इसने देश के सबसे गरीब हिस्सों को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है, जिससे लाखों लोग भूखे और कई विस्थापित हुए हैं।"

दक्षिण सूडान पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका (South Africa) के देशों की सूची में सबसे ऊपर है, इस 'दोहरे खतरे' का सामना करने की सबसे अधिक संभावना है। देश में 87 प्रतिशत बच्चे प्रभावित हैं। इसके बाद मोजाम्बिक (80 प्रतिशत) और मेडागास्कर (73 प्रतिशत) हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस दोहरे खतरे का सामना कर रहे बच्चों की कुल संख्या के मामले में केन्या विश्व स्तर पर 10वें उच्चतम (67 प्रतिशत) और इस क्षेत्र में तीसरे स्थान पर है।

रिपोर्ट में पाया गया कि केन्या में एक वर्ष में कम से कम 2.1 करोड़ बच्चे जलवायु घटना से प्रभावित होते हैं। उनमें से कुछ गंभीर हालत में है, इसकी मूल वजह गरीबी हैं। गरीबी के कारण उनके पास खुद को बचाने के लिए कम संसाधन होते हैं।

अफ्रीका में 15 करोड़ से अधिक बच्चे गरीबी और जलवायु आपदा की चपेट में (सांकेतिक चित्र)
पाकिस्तान में बढ़ रही आर्थिक अनिश्चितता से चिंतित अंतरराष्ट्रीय निवेशक

सेव द चिल्ड्रन (Save the Children) ने चेतावनी दी है कि यदि जलवायु और असमानता के संकट का तत्काल समाधान नहीं किया गया, तो मानवीयता की बारंबारता और जीवन यापन करने में मुश्किलें आना तय है।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com