UK का शिक्षा विभाग चाहता है भारतीय विश्वविद्यालयों संग NEP का अंतरराष्ट्रीयकरण

2021 में भारत-ब्रिटेन ने भारत के NEP के आलोक में दोनों देशों के विश्वविद्यालयों के बीच सहयोग का विस्तार करने के लिए महत्वाकांक्षी भारत-यूके रोडमैप 2030 की घोषणा की थी।
UK का शिक्षा विभाग चाहता है भारतीय विश्वविद्यालयों संग NEP का अंतरराष्ट्रीयकरण
UK का शिक्षा विभाग चाहता है भारतीय विश्वविद्यालयों संग NEP का अंतरराष्ट्रीयकरणIANS

इंग्लैंड के कई विश्वविद्यालयों एवं उच्च शिक्षा से जुड़े लीडर्स का एक प्रतिनिधिमंडल भारत आया है। ब्रिटिश काउंसिल, भारत में यूके के इस महत्वपूर्ण प्रतिनिधिमंडल की मेजबानी कर रहा है। प्रतिनिधिमंडल में यूनिवर्सिटीज यूके इंटरनेशनल (UUKI), शिक्षा विभाग (DFE UK) और डिपार्टमेंट फॉर इंटरनेशनल ट्रेड (DIT UK) के प्रतिनिधि भी शामिल हैं। प्रतिनिधिमंडल एनईपी के अंतर्राष्ट्रीयकरण के दृष्टिकोण को पूरा करने वाली साझेदारी और सहयोग पर चर्चा करेगा। इसका उद्देश्य भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय शिक्षा और अधिक से अधिक दो-तरफा छात्र और संकाय गतिशीलता को बढ़ावा देना भी है। प्रतिनिधिमंडल यूके इंटरनेशनल (UUKI), द रसेल ग्रुप, यूनिवर्सिटी वेल्स और 22 यूके उच्च शिक्षा संस्थानों जैसे शीर्ष शिक्षा निकायों का प्रतिनिधित्व कर रहा है, जिससे यह देश का दौरा करने के लिए यूके से लीडर्स आफ हायर एजुकेशनका अब तक का सबसे बड़ा प्रतिनिधिमंडल बन गया है।

प्रतिनिधिमंडल के आगमन को लेकर यूजीसी संयुक्त सचिव, डॉ मंजू सिंह ने कहा, हम दोनों देशों को लाभान्वित करने वाली शिक्षा में द्विपक्षीय सहयोग जारी रखने के लिए यूके के उच्च शिक्षा लीडर्स के प्रतिनिधिमंडल का भारत में स्वागत करते हैं। भारत और यूके के बीच छात्रों, फैकल्टी के साथ-साथ संस्थागत गतिशीलता की दो-तरफा गतिशीलता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। हम यूके के उच्च शिक्षा संस्थानों को ट्विनिंग, संयुक्त डिग्री और दोहरी डिग्री कार्यक्रमों की पेशकश करने के लिए भारतीय समकक्षों के साथ काम करने के लिए आमंत्रित करते हैं। साथ ही वह गिफ्ट सिटी गुजरात में परिसरों की स्थापना का पता लगाएं।

आगामी 4 दिनों में 10 जून तक प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अलावा बेंगलुरु, अहमदाबाद और कोलकाता आदि समेत 10 राज्यों के अधिकारियों, नीति निमार्ताओं और विश्वविद्यालयों के अधिकारियों से मुलाकात करेगा।

2021 में भारत-ब्रिटेन ने भारत के NEP के आलोक में दोनों देशों के विश्वविद्यालयों के बीच सहयोग का विस्तार करने के लिए महत्वाकांक्षी भारत-यूके रोडमैप 2030 की घोषणा की थी।

UK का शिक्षा विभाग चाहता है भारतीय विश्वविद्यालयों संग NEP का अंतरराष्ट्रीयकरण
Ministry of Education का प्रौद्योगिकी आधारित पाठ्यक्रम पर जोर

इस प्रतिनिधिमंडल में शामिल यूनिवर्सिटी यूके इंटरनेशनल (UUKI) के निदेशक विविएन स्टर्न का कहना, हमें इस प्रमुख प्रतिनिधिमंडल के लिए भारत में यहां स्वागत करते हुए खुशी हो रही है। भारत यूके के लिए एक प्रमुख भागीदार है, और उच्च शिक्षा, अनुसंधान और नवाचार के सभी पहलुओं में हमारे विश्वविद्यालयों के हमारे घनिष्ठ सहयोग से हमारे दोनों देशों के लिए बहुत बड़ा लाभ है। यह पहला बड़ा प्रतिनिधिमंडल है जिसे यूके ने कोविड -19 के आगमन के बाद से शुरू किया है, और यह महत्वपूर्ण है कि इस सप्ताह हमारे कई विश्वविद्यालय यहां हैं। नई शिक्षा नीति सहित नवीनतम विकास के बारे में, और भारत-यूके संबंधों के लिए आपकी महत्वाकांक्षाओं के बारे में अधिक जानने के लिए, हम यहां भारतीय सहयोगियों से सुनने के अवसर की उत्सुकता से प्रतीक्षा करते हैं। यह हमारे विश्वविद्यालयों के बीच मौजूद गहरे और व्यापक संबंधों का जश्न मनाने और हमारे संस्थानों के साथ मिलकर काम करने और हमारे भविष्य के संबंधों की नींव रखने के कई तरीकों का जश्न मनाने का क्षण है।

बारबरा विकम ओबीई, निदेशक भारत, ब्रिटिश काउंसिल ने कहा, शिक्षा और अनुसंधान सहयोग भारत-ब्रिटेन द्विपक्षीय संबंधों का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है। भारत के साथ संबंधों को मजबूत और विविधतापूर्ण बनाना यूके की प्राथमिकता है। महामारी के बाद की दुनिया में, अंतरराष्ट्रीय शिक्षा प्रणालियों को TNE के माध्यम से सीखने की गुणवत्ता में सुधार के लिए सबसे अच्छी स्थिति में रखा गया है और अनुसंधान नवाचार के लिए बल गुणक हैं जो सतत विकास और वैश्विक चुनौतियों का समाधान कर सकते हैं। ब्रिटिश काउंसिल में, हम हमेशा भारत की ज्ञान महत्वाकांक्षाओं के साथ साझेदारी करने के लिए नए अवसरों की तलाश करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय सहयोग पर एनईपी के फोकस के साथ, यूके पारस्परिक रूप से लाभप्रद साझेदारियों का पता लगाने की कोशिश कर रहा है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक से अधिक फैकल्टी और छात्र आदान-प्रदान हो और पहले से कहीं अधिक अनुसंधान उत्कृष्टता बढ़े।
(आईएएनएस/PS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com