Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

भारतीय कंटेंट में तड़का डालता है ओटीटी जबकि बॉलीवुड में मसालों की कमी

इन जहां बॉलीवुड ठप्प है, वहीं वीडियो स्ट्रीमिंग पोर्टल भारत के मनोरंजन उद्योग में नई प्रतिभा, खस्ता कंटेंट और साहसिक विचारों का आयात कर रहे हैं, जो कभी बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाने के लिए स्टार पावर पर निर्भर थे।

मिजार्पुर जैसी वेब क्राइम थ्रिलर पर चमकने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी(wikimedia commons)

इन जहां बॉलीवुड ठप्प है, वहीं वीडियो स्ट्रीमिंग पोर्टल भारत के मनोरंजन उद्योग में नई प्रतिभा, खस्ता कंटेंट और साहसिक विचारों का आयात कर रहे हैं, जो कभी बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाने के लिए स्टार पावर पर निर्भर थे। अभिनेताओं का कहना है कि ओवर-द-टॉप (ओटीटी) सेवाएं अपने स्ट्रीमिंग कंटेंट में नए जमाने के दर्शकों की उभरती प्राथमिकताओं को उजागर कर रही हैं।

‘मिजार्पुर’ और ‘सेक्रेड गेम्स’ जैसी वेब क्राइम थ्रिलर पर चमकने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने कहा, ‘बदलाव होता रहता है।’


उन्होंने आईएएनएस से कहा, “ऐसा लगता है कि ओटीटी के आने से सिनेमा में बदलाव का समय आ गया है। ओटीटी के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।”

उन्होंने कहा, “ओटीटी पर कहानियां महत्वपूर्ण हैं। इसमें कौन या क्या है, यह महत्वपूर्ण नहीं है। उसकी प्रतिभा और प्रदर्शन मायने रखता है। कहानी सुनाना ज्यादा मायने रखता है।”

44 वर्षीय इस अभिनेता ने यह भी कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म एक नर्सरी है जहां नई प्रतिभाएं आसानी से खिल रही हैं।

अभिनेता ने कहा, “मैं इससे खुश हूं। मैं देख सकता हूं कि ओटीटी के आने से एक के बाद एक प्रतिभाएं आ रही हैं। खासकर उनके लिए जो फिल्मों के जरिए पहचान पाने में समय लगाते हैं और यहां ओटीटी पर एक संभावना है।”

अभिनेता पंकज त्रिपाठी, मिर्जापुर वेब सीरीज में (Pankaj Tripathi , Facebook)

पंकज त्रिपुाठी ने 2012 में दो-भाग वाली फिल्म गाथा ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में एक छोटी सी भूमिका के साथ स्पॉटलाइट अर्जित किया था। उनका कहना है कि स्ट्रीमिंग सेवाओं पर कंटेंट राजा है, एक ऐसी वास्तविकता जो शायद सेल्युलाइड युग के दौरान अनुपस्थित है।

नेटफ्लिक्स पर ‘द व्हाइट टाइगर’ की जनवरी की रिलीज ने अभिनेता-गायक आदर्श गौरव को हाइलाइट किया क्योंकि उन्हें तीन महीने बाद 74वें ब्रिटिश एकेडमी ऑफ फिल्म्स एंड टेलीविजन आर्ट्स (बाफ्टा) अवार्डस में लीड एक्टर श्रेणी में नामांकित किया गया था।

आदर्श का मानना है कि भारत के बढ़ते ऑनलाइन दर्शकों पर जीत हासिल करने के लिए लोग पहले से कहीं ज्यादा मेहनत कर रहे हैं।

आदर्श ने आईएएनएस से कहा, “मुझे खुशी है कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि यह जानते हुए कि चीजें स्थायी नहीं हैं, लोग कड़ी मेहनत करते हैं और किसी भी चीज को हल्के में नहीं लेते हैं।”

आदर्श ने कहा, ‘हर किसी का ध्यान इनोवेट करने और बेहतर कहानियां बनाने पर है।’ इस बदलाव को जोड़ने से ‘अभिनेताओं, रचनाकारों, तकनीशियनों के लिए अधिक अवसर’ भी मिले है।

अभिनेत्री वामिका गब्बी का वेब स्टारडम के साथ प्रयास डिजनी प्लस हॉटस्टार-स्ट्रीम ‘ग्रहन’ में एक दृढ़ पुलिस वाले के रूप में उनके प्रदर्शन के बाद आया, जो 1984 के सिख विरोधी दंगों से निपटना था।

अभिनेत्री ने कहा कि उन्होंने भारत के फिल्म उद्योग में रचनात्मकता की हवा को महसूस किया जो लंबे समय तक स्ट्रेटजैकेट में रही।

वामीका ने कहा, “हर कोई जो किसी ऐसे विषय पर फिल्म या श्रृंखला बनाने के लिए किसी की मंजूरी नहीं चाहता था जो वास्तव में व्यावसायिक नहीं है, अब वे कर सकते हैं” और ओटीटी का ध्यान कंटेंट पर अधिक है।

वामिका ने आईएएनएस से कहा, “ओटीटी ने हमें वह दरवाजा दिया है, जहां मुझे लगता है कि हम सभी भाग रहे हैं (और) मुझे खुशी है कि अब फिल्म निर्माताओं, लेखकों, अभिनेताओं, निर्माताओं के लिए और अवसर खुल गए हैं।”

अभिनेत्री ने कहा, “इस तरह से यह सब होना चाहिए था और यह भी कहा कि ओटीटी ने फिल्म निर्माताओं को निपटने के लिए कम हिचकी दी है।”

वामिका ने कहा “मेरा मानना है कि ओटीटी प्लेटफार्मों ने निश्चित रूप से उद्योग में बजट बहस को बेअसर करने में मदद की है। केवल ए-लिस्टर्स को मुख्य भूमिका में रखने के बजाय, निर्माता अब अधिक ग्रहणशील हैं और अपनी बड़ी, बहु-मिलियन परियोजनाओं के लिए नए अभिनेताओं को आजमाने के इच्छुक हैं।”

डिजिटल स्पेस में लगातार चेहरा रहे विक्रांत मैसी ने कहा कि दर्शकों की एक नई पीढ़ी रहने के लिए आई है।

‘मिजार्पुर,’ ‘ब्रोकन बट ब्यूटीफुल’ और कानूनी ड्रामा ‘क्रिमिनल जस्टिस’ में अभिनय कर चुके विक्रांत ने कहा, “वे मूर्ति पूजा नहीं करते हैं, जैसे शायद लोग 20 साल पहले करते थे।”

उन्होंने आईएएनएस से कहा, “मेरी भतीजी आठ और नौ साल की हैं। वे भारतीय कंटेंट नहीं देखती हैं। वे बैठकर कोरियाई कंटेंट देखती हैं।”

क्राइम थ्रिलर ‘नवंबर स्टोरी’ में नजर आ चुकीं अभिनेत्री तमन्ना भाटिया का मानना है कि अंधेरे में पड़े सिनेमाघरों और पॉपकॉर्न का रोमांस फीका पड़ गया है। तमन्ना ने आईएएनएस से कहा, “मुझे लगता है कि 10 साल पहले की फैन फॉलोइंग आज की पीढ़ी के लिए मुश्किल होगी, क्योंकि महामारी के कारण हम जिस स्थिति में हैं, फिल्मों के आसपास की भावनाएं अलग हैं।”

अभिनेत्री ने कहा, “एक स्टार का पूरा विचार बहुत तेजी से बदल रहा है, और लोग कंटेंट देख रहे हैं और कंटेंट को पसंद कर रहे हैं, न कि केवल एक अभिनेता या व्यक्तिगत प्रतिभा के लिए।”

यह भी पढ़े: अगर आपकी मानसिकता सही है, तो आप ओटीटी पर कुछ बड़ा कर सकते हैं : अमला पॉल .

तमन्ना ने निष्कर्ष निकाला, “सिनेमा को देखने का तरीका अलग होने वाला है।” (आईएएनएस-PS)

Popular

देश के जवानों की शहादत रोकने के लिए एमआईआईटी मेरठ की तरफ से एक बड़ा प्रयास किया गया है। (Wikimedia commons)

देश की सीमाओं की सुरक्षा करते वक्त हमारे देश के वीर सैनिक अक्सर शहीद हो जाते हैं इसलिए कभी ना कभी भारतीयों के मन में यह आता है कि हम अपने वीर जवानों की शहादत को कैसे रोक सकते? लेकिन इस क्षेत्र में अब हमें उम्मीद की किरण मिल गई है। दरअसल, हमारे जवानों की सुरक्षा के लिए मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजनियरिंग टेक्नोलॉजी (एमआईईटी) इंजीनियरिंग कॉलेज, मेरठ के सहयोग से एक मानव रहित बॉर्डर सिक्योरिटी सिस्टम तैयार किया गया है। इस डिवाइस को मानव रहित सोलर मशीन गन नाम दिया गया है। यह सिस्टम बॉर्डर पर तैनात जवानों की सुरक्षा और सुरक्षित रहते हुए आतंकियों का सामना करने के लिए बनाया गया है। इसे तैयार करने वाले युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया ने बताया कि यह अभी प्रोटोटाईप बनाया गया है। इसकी मारक क्षमता तकरीबन 500 मीटर तक होगी, जिसे और बढ़ाया भी जा सकता है।

यह मशीन गन इलेट्रॉनिक है। इसे संचालित करने के लिए किसी इंसान की जरुरत नहीं होगी। इसका इस्तेमाल अति दुर्गम बॉर्डर एरिया में आतंकियों का सामना करने के लिए किया जा सकेगा। इसमें लगे सेंसर कैमरे दुश्मनों पर दूर से नजर रख सकतें हैं। आस-पास किसी तरह की आहट होने पर यह मानव रहित गन जवानों को चौकन्ना करने के साथ खुद निर्णय लेकर दुश्मनों पर गोलियों की बौछार भी करने में सक्षम होगा। इस मानव रहित गन को ऑटोमेटिक और मैनुअल भी कर सकते हैं।

Keep Reading Show less

मंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में महिला सशक्तिकरण ,कोविद टिकाकरण जैसे मुद्दों पर बात की। (Twitter)

'मन की बात' आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है, जिसके जरिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के नागरिकों को संबोधित करते हैं। रविवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में 100 करोड़ से अधिक लोगों को कवर करने वाले COVID टीकाकरण अभियान के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सराहना करते हुए लोगों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने संयुक्त राष्ट्र दिवस के मौके पर रविवार को कहा, 'भारत हमारे ग्रह को एक बेहतर जगह बनाने में अहम भूमिका निभाएगा।'

उन्होंने कहा, "भारत ने हमेशा विश्व शांति के लिए काम किया है। इसे संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में हमारे योगदान के रूप में देखा जाता है। भारत योग और स्वास्थ्य के पारंपरिक तरीकों को और लोकप्रिय बनाने के लिए भी काम कर रहा है।

Keep Reading Show less

काउंटरप्वाइंट की रिसर्च में कहा गया है कि भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार बन गया है।(Wikimedia commons)

Keep reading... Show less