लड़कों के लिए नारीवाद का समावेश करना जरूरी है : पंकज त्रिपाठी

अभिनेता पंकज त्रिपाठी को लगता है कि फेमिनिज्म एक ऐसी चीज है, जिसे लड़कियों के साथ-साथ लड़कों को भी समझना चाहिए।
 | 
फेमिनिज्म (Feminism) एक ऐसी चीज है, जिसे लड़कियों के साथ-साथ लड़कों को भी समझना चाहिए। (सांकेतिक चित्र, Pexel)


अभिनेता पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) को लगता है कि फेमिनिज्म (Feminism) एक ऐसी चीज है, जिसे लड़कियों के साथ-साथ लड़कों को भी समझना चाहिए। उनका मानना है कि इसके लिए शिक्षा प्रणाली (Education system) में सभी युवा लड़कों के लिए इस विषय को शामिल करना चाहिए।

पंकज ने आईएएनएस को बताया, "मुझे लगता है कि माता-पिता अपनी सारी ऊर्जा बेटियों को संवारने और अपनी बेटियों को पढ़ाने में लगाते हैं कि उन्हें कैसे व्यवहार करना है लेकिन जब लड़कों की बात आती है, तो इसे उतना महत्व नहीं दिया जाता है। मुझे लगता है कि आज की शिक्षा में लड़कों के लिए नारीवाद का समावेश करना जरूरी है।"

मेरी पत्नी और बेटी ने मेरे जीवन को प्रभावित किया है : अभिनेता पंकज त्रिपाठी (File Photo)

उन्होंने आगे कहा, "यदि ऐसा किया जाता है, तो हमें अपनी बेटियों को बचाना नहीं पड़ेगा। लड़कों को शुरू से ही यह सीखने की जरूरत है कि कोई भी लिंग श्रेष्ठ या हीन नहीं है। एक समय था जब मैं अपनी पत्नी के वेतन पर पूरी तरह से जीवित था और मुझे नहीं लगता कि ऐसा करने में मुझे कोई नुकसान हुआ। मेरी पत्नी और बेटी ने मेरे जीवन को प्रभावित किया है। हमारे देश में जितनी ज्यादा लिंग असमानता (Gender inequality) है, उसे देखते हुए तत्काल ध्यान देने और बदलाव लाने की आवश्यकता है।"

यह भी पढ़ें :- पंकज त्रिपाठी : एक ऐसी अभिनय शैली अपनाएं, जिससे लोग जुड़ सकें|

काम को लेकर बात करें अभिनेता अगले कुछ महीनों में '83', 'मिमी' और 'बच्चन पांडे' जैसी फिल्मों में दिखाई देंगे। (आईएएनएस-SM)