लोग आदिवासियों के कामों से सोनभद्र को पहचानेंगे : कोविंद

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने रविवार को कहा कि आदिवासी और दलित समुदाय की प्रगति के बिना देश का विकास कभी पूरा नहीं हो सकता है।
 | 
देश के विकास के रास्ते पर आदिवासी समुदाय को साथ लेकर चलना चाहिए। (सांकेतिक चित्र , Pixabay)


राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) ने रविवार को कहा कि आदिवासी (Trible) और दलित समुदाय की प्रगति के बिना देश का विकास कभी पूरा नहीं हो सकता है। वे उत्तर प्रदेश (Uttar Pardesh) के सोनभद्र जिले (Sonbhadra) में आदिवासी सम्मेलन 'वनवासी समागम' को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर राष्ट्रपति (President) ने समावेशी विकास की जरूरत पर जोर देते हुए कहा, जैसे भगवान राम (Bhagwan Ram) ने आदिवासियों (Tribles) की मदद से विजय प्राप्त की थी, वैसे ही देश को विकास के रास्ते पर आदिवासी समुदाय को साथ लेकर चलना चाहिए।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pardesh) में अपने दौरे के दूसरे दिन उन्होंने सोनभद्र (Sonbhadra) जिले के बभनी ब्लॉक के चपकी क्षेत्र का दौरा किया। यहां उन्होंने वनवासी समागम में भाग लिया और सेवा कुंज आश्रम (Sewa Kunj Ashram) के नवनिर्मित भवन का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इन सेवा आश्रमों ने आदिवासी समुदाय में शिक्षा को लेकर महान योगदान दिया है।

उन्होंने कहा, "लोग उनके कामों से सोनभद्र (Sonbhadra) को पहचानेंगे। आदिवासियों (Tribles) के लिए काम करने वाले ये शैक्षणिक संस्थान मंदिरों की तरह हैं। बच्चे यहां आकर शिक्षा के रूप में आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और फिर विभिन्न क्षेत्रों में काम करते हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि आदिवासियों (Tribles) की कला और समृद्ध संस्कृति (Culture) को विकसित करने की जरूरत है। उन्हें मौका और सपोर्ट दिया जाए तो ये कलाकार देश के विभिन्न हिस्सों और यहां तक कि विदेशों में भी अपना प्रदर्शन दिखा सकते हैं।

यह भी पढ़े :- भगवान बुद्ध के प्रसाद कालानमक चावल को विश्वभर में ख्याति दिलाने में जुटी है योगी सरकार

इस मौके पर उत्तर प्रदेश (Uttar pardesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने घोषणा की कि उनकी सरकार सोनभद्र (Sonbhadra) में एक मेडिकल कॉलेज खोलेगी। इसके अलावा उन्होंने इस क्षेत्र के खिलाड़ियों और छात्रों के लिए ऑर्चरी रेंज बनाने का भी आश्वासन दिया जो कि यहां काफी लोकप्रिय है। (आईएएनएस-SM)