कभी कॉलेज नहीं गया इसलिए कॉलेज की कहानियों से जुड़ नहीं पाया : राणा दग्गुबाती

'बाहुबली' फेम राणा दग्गुबाती को इस साल अभिनय के पेशे में 11 साल पूरे हो जाएंगे। बीते शुक्रवार को उनकी नई तेलुगु फिल्म 'अरन्या' रिलीज हुई है।
 | 
अभिनेता राणा दग्गुबाती । (आईएएनएस )
'बाहुबली' ( Bahubali ) फेम राणा दग्गुबाती को इस साल अभिनय के पेशे में 11 साल पूरे हो जाएंगे। बीते शुक्रवार को उनकी नई तेलुगु फिल्म 'अरन्या' रिलीज हुई है। कई भाषाओं में रिलीज हुई इस फिल्म का तमिल वर्जन में शीर्षक 'कादन' और हिंदी में 'हाथी मेरे साथी' है। हालांकि मुंबई में कोविड मामलों की बढ़ती संख्या के कारण फिल्म की रिलीज को स्थगित कर दिया गया है। दादासाहेब फाल्के विजेता निर्माता डी.राम नायडू के पोते और तेलुगु सुपरस्टार वेंकटेश के भतीजे राणा ने 2010 में तेलुगु फिल्म 'लीडर' से करियर शुरू किया था। इसके एक साल बाद उन्होंने रोहन हिप्पी की मल्टीस्टारर फिल्म 'दम मारो दम' से बॉलीवुड में डेब्यू किया।

राणा ने आईएएनएस से कहा, "जब मैं इंडस्ट्री में आया था, तब बहुत कम विकल्प थे। मैं कोई ऐसा कलाकार नहीं हूं जो रोमांटिक फिल्में करता हो। मैं कॉलेज नहीं गया हूं इसलिए मैं ऐसी कहानियों से कभी जुड़ा ही नहीं। मैं ऐसा भी नहीं था जो बदला, एक्शन जैसी फिल्मों को बहुत पसंद करता हो, लिहाजा मेरे पास तो विकल्प और भी कम थे।"

यह भी पढ़ें :  पक्षपात सभी उद्योग में मौजूद है!
 


ब्लॉकबस्टर 'बाहुबली' ( Bahubali ) में भल्लालदेव के किरदार से पूरे देश में मशहूर हुए राणा कहते हैं, "मैंने कभी भी भाषा को एक बाधा के रूप में नहीं रखा। जो मेरे सामने आया, वो काम मैंने किया।" राणा ने पिछले एक दशक में बॉलीवुड ( Bolloywood ) में 'दम मारो दम' के अलावा 'बेबी', 'डिपार्टमेंट' 'ये जवानी है दीवानी', 'हाउसफुल 4', और वेलकम टू न्यूयॉर्क में काम किया है।

वह कहते हैं, "अब मुझे तमिल, तेलुगु, मलयालम, हिंदी आदि में कई कहानियां मिलती हैं। इसलिए, मुझे लगता है कि यह एक कलाकार या निर्माता के लिए अच्छा है। वैसे भी कहानियां कहने के लिए आज से बेहतर समय नहीं है।" (AK आईएएनएस )