जेंडर के आधार पर काम को रिजेक्ट करने का अधिकार किसी के भी पास नहीं है : नीति मोहन

गायिका नीति मोहन का यह बिल्कुल भी नहीं मानना है कि महिला संगीत कलाकारों को उनके समकक्ष पुरूषों के मुकाबले कम काम मिलता है।
 | 
 गायिका नीति मोहन (ट्विटर)


 गायिका नीति मोहन (Neeti Mohan) का यह बिल्कुल भी नहीं मानना है कि महिला संगीत कलाकारों को उनके समकक्ष पुरूषों के मुकाबले कम काम मिलता है। 41 वर्षीय इस गायिका ने आगे यह भी कहा कि जेंडर (Gender) के आधार पर काम को रिजेक्ट करने का अधिकार किसी के भी पास नहीं है।

नीति ने आईएएनएस को बताया, "मुझे नहीं लगता है कि यहां महिलाओं (Womens) के लिए कुछ खास दिक्कतें हैं, चाहे वह फिल्मी गाने हो या गैर-फिल्मी गीत। मेरे कहने का मतलब यह है कि चूंकि मैं एक महिला हूं सिर्फ इसलिए कोई मुझे काम करने से मना नहीं कर सकता है।"

मैं एक महिला हूं सिर्फ इसलिए कोई मुझे काम करने से मना नहीं कर सकता है। (ट्विटर)

वह आगे कहती हैं, "अगर कल मैं मां बनना चाहूं और काम करने से मना कर दूं, तो इसमें भी कोई परेशानी वाली बात नहीं है। अगर मां बनने के बाद मैं काम पर वापस लौटना चाहूं, तो यह भी ठीक है। ये मुझ पर है। मैं बस यह कहना चाह रही हूं कि अगर आप अपने लिए एक जगह बनाना चाहेंगे, तो आपको रास्ता खुद-ब-खुद मिलता जाएगा। आने वाले समय में मैं किस तरह का काम करना चाहूंगी इसका फैसला कोई और नहीं ले सकता है।"

नीति ने हाल ही में दर्शन रावल (Darshan raval) के साथ मिलकर 'विलायती शराब' नामक एक गाना गाया, जिसे कि लोगों ने काफी पसंद किया।

यह भी पढ़ें :- मैं अपना खुद का एक सौंदर्य मानक बनाना चाहती हूं : भूमि पेडनेकर

नीति कहती हैं, "यह एक डांस नबंर है और काफी मस्ती भरा गाना है। इसे होली के आसपास रिलीज किया गया और होली के माहौल में हमें ऐसे ही गानों की अकसर तलाश रहती है। यह एक शानदार गाना है, जिसे रिकॉर्ड (Record) और शूट करने में हमें दो महीने लगे।" (आईएएनएस-SM)