आखिर डांस डायरेक्टर गोपीकृष्ण ने मधुबाला को थप्पड़ क्यों मारा?

मधुबाला उस दौर की एक बेहतरीन एक्टर थी। दरअसल मुग़ल-ए-आज़म फिल्म सन 1946 में बननी शुरू हुई थी। इसमें कोई दो राय नहीं है कि उस वक्त भी इस फिल्म में काफी पैसा लगाया जा रहा था।
मधुबाला
मधुबाला Wikimedia

आज हम आपको मुगल-ए-आजम फिल्म में बेहतरीन किरदार निभाने वाली मधुबाला (Madhubala) से संबंधित एक बहुत ही रोचक किस्सा सुनाने जा रहे हैं।

एक बार मधुबाला को उनके डांस डायरेक्टर गोपी कृष्ण (Gopi Krishna) ने थप्पड़ जड़ दिया था आइए जानते हैं वास्तव में हुआ क्या था?

मधुबाला उस दौर की एक बेहतरीन एक्टर थी। दरअसल मुग़ल-ए-आज़म फिल्म सन 1946 में बननी शुरू हुई थी। इसमें कोई दो राय नहीं है कि उस वक्त भी इस फिल्म में काफी पैसा लगाया जा रहा था। इस फिल्म में पैसा लगाने वाले शिराज अली हकीम (Shiraj Ali Hakeem) देश के बंटवारे के बाद पाकिस्तान (Pakistan) चले गए। और वह पैसा लगाने की जिम्मेदारी शापूरजी पालो जी पर छोड़ गए। नतीजतन फिल्म की शूटिंग बंद हो गई। इसके बाद 1949 में अकबर (Akbar) की भूमिका निभाने वाले चंद्रमोहन (Chandramohan) का निधन हो गया और अनारकली (Anarkali) की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री नरगिस (Nargis) को राज कपूर (Rajkapoor) अपने साथ हलचल फिल्म में अभिनय करने के लिए ले गए। मुग़ल-ए-आज़म फिल्म अस्त-व्यस्त हो गई।

मधुबाला
फिल्म 'Monica O My Darling' में अलग अवतार में नजर आएंगी हुमा कुरैशी

अब जरूरत थी एक अनारकली की क्योंकि नरगिस तो पहले ही हलचल फिल्म करने के लिए जा चुकी थी परिणाम स्वरूप के. आसिफ (K. Asif) ने डांस मास्टर गोपीकृष्ण को मधुबाला को निभाने के लिए मनाने को कहा अनारकली की भूमिका निभाने के लिए कहा और बाद में दोनों ने मिलकर मधुबाला को अनारकली की भूमिका निभाने के लिए मना लिया।

मधुबाला और किशोर कुमार
मधुबाला और किशोर कुमारWikimedia

फिर एक दिन सेट पर जो हुआ उसे देखकर सब दंग रह गए दरअसल एक गीत अनारकली द्वारा फिल्माया जाना था और गोपी कृष्ण अनारकली को उसके लिए नृत्य के स्टेप्स सीखा रहे थे लेकिन मधुबाला सिर्फ हंसे जा रही थी इसके बाद गोपी कृष्ण मधुबाला के पास गए और पूछा क्या आप यह स्टेप्स सही तरह से कर पाएंगे? इस बार मधुबाला सिर्फ हंसी ही नहीं बल्कि साथ में यह भी कहा कि ये छोटे-छोटे बच्चे हमे सिखाने आ जाते हैं इस पर गोपी कृष्ण ने आव देखा ना ताव और मधुबाला को एक थप्पड़ जड़ दिया। पूरे सेट पर सन्नाटा छा गया। ना ही इस पर मधुबाला ने कुछ कहा वही गोपीकृष्ण समझ चुके थे कि आज उनसे कुछ बड़ा हो गया है इसके बाद मधुबाला ने वह स्टेप पूरा किया और धीरे-धीरे फिल्म की शूटिंग पूरी की। फिल्म रिलीज होने के बाद सुपर डुपर हिट हुई। कुछ दिन के बाद मधुबाला गोपी कृष्ण के पास गई और पूछा क्या मैं आपकी शिष्य बन सकती हूं इस पर दोनों ने एक दूसरे को गले लगा लिया।

PT

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com