Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

यमुना में अमोनिया नियंत्रण के लिए इस्तेमाल होगी यूरोपीय तकनीक

दिल्ली जल बोर्ड के मुताबिक, हरियाणा भारी मात्रा में औद्योगिक और घरेलू दूषित पानी छोड़ता है। इस तरह ये अमोनिया दिल्ली पहुंचता है।

पानी से अमोनिया हटाने का सबसे प्रचलित तरीका है ऑक्सिडेशन। (Wikimedia Commons)

दिल्ली जल बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारियों ने गुरुवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की और यमुना में बढ़े हुए अमोनिया के स्तर को नियंत्रित करने के उपायों पर चर्चा की। जल बोर्ड के मुताबिक, यमुना में हरियाणा द्वारा भारी में मात्रा में अमोनिया छोड़ा गया है। इसको कम करने के लिए ओजोनेशन प्लांट्स की संभावनाओं पर चर्चा की गई ताकि दिल्ली के लोगों को साफ और अमोनिया मुक्त पानी मिलता रहे।

दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने कहा, “हम हरियाणा सरकार पर निर्भर नहीं रह सकते, न ही किस्मत पर छोड़ सकते हैं। हमें खुद से एक्शन लेकर दिल्ली के लोगों के लिए साफ पानी की लगातार सप्लाई सुनिश्चित करनी होगी।”


उन्होंने कहा, “अब वक्त आ गया है कि हरियाणा सरकार द्वारा छोड़े गए दूषित पानी के लिए हम ही पहल कर उसका समाधान निकालें, क्योंकि हरियाणा लगातार यमुना में अमोनिया वाला पानी छोड़ रहा है। हमने इस बैठक में ओजोनेशन प्लांट की संभावनाओं पर भी चर्चा की, ताकि बढ़े हुए अमोनिया के स्तर को कम किया जा सके।”

यह भी पढ़ें – यमुना की दुखद स्थिति से दुखी हैं ग्रीन वॉरियर्स

ओजोन एक बहुत शक्तिशाली ऑक्सिडाइजिंग एजेंट है, जिसका यूरोपीय देशों में बड़े पैमाने पर वॉटर ट्रीटमेंट के लिए प्रयोग किया जाता है। पिछले कुछ साल में इसका प्रयोग कीटाणुनाशक और ट्रीटमेंट ऑक्सिडेंट दोनों की तरह किया जाने लगा है। इसका बहुत तेजी से विघटन होता है, जिस वजह से पानी में कोई अपशिष्ट नहीं बचता है। अमोनिया जल प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण होता है। पानी से अमोनिया हटाने का सबसे प्रचलित तरीका है ऑक्सिडेशन और ओजोन के सूक्ष्म बुलबुले अमोनिया के ऑक्सिडाइजिंग में और बैक्टिरिया के उपचार में काफी सहायक होते हैं।

अमोनिया जल प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण होता है। (Facebook)

हरियाणा में डीडी 1 और डीडी 2, दो नहरें हैं। इन दोनों नहरों से दूषित पानी यमुना में पहुंचता है। डीडी 2 नहर को डाईड्रेन भी कहा जाता है, क्योंकि इस नहर में इंडस्ट्रीज से निकला डाई ज्यादा मात्रा में होता है, जिसमें भारी अमोनिया मौजूद होता है। ये दोनों नहरें हरियाणा के पानीपत जिले के शिमला गुजरन गांव के पास एक-दूसरे से मिलती हैं। शिमला गुजरन गांव से ये नहरें आगे बहते हुए खोजकीपुर गांव के पास यमुना नदी में मिल जाती हैं। यमुना में प्रदूषण फैलाने वाला ये एक बड़ा केंद्र है, जहां अक्सर अमोनिया का स्तर 25 से 40 पीपीएम तक हो जाता है।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Yamuna Becomes A Stinking Sewage Canal Due to Pollution

दिल्ली जल बोर्ड के मुताबिक, हरियाणा भारी मात्रा में औद्योगिक और घरेलू दूषित पानी छोड़ता है। इस तरह ये अमोनिया दिल्ली पहुंचता है। अक्सर बिना ट्रीट किया हुआ पानी और सीवेज यमुना में छोड़ते रहते हैं, जिससे यमुना का पानी गंदा होता जाता है और दिल्ली में पानी के साथ भारी मात्रा में अमोनिया पहुंचता है।

राघव ने कहा, “सर्दियों में अमोनिया का स्तर बढ़ जाता है। दिल्ली जल बोर्ड का लक्ष्य है कि अमोनिया ट्रीटमेंट की क्षमता को आधुनिक तकनीक का प्रयोग कर इस स्तर तक बढ़ाया जाए कि आने वाले सालों में ये परेशानी न झेलनी पड़े। दिल्ली जल बोर्ड चंद्रावल और वजीराबाद प्लांट में इस पर काम जल्द शुरू करेगा।”

हरियाणा पर कानूनी कार्रवाई पर बात करते हुए चड्ढा ने कहा कि हरियाणा से बार-बार भारी मात्रा में अमोनिया वाला पानी छोड़ने के खिलाफ दिल्ली जल बोर्ड, दिल्ली के लोगों के हित में कोर्ट से भी न्याय की गुहार लगाने पर विचार करेगा। (आईएएनएस)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less