Sunday, June 13, 2021
Home देश बिना पराली जलाए भी ले सकते हैं गेंहू की भरपूर फसल

बिना पराली जलाए भी ले सकते हैं गेंहू की भरपूर फसल

जिन किसानों को खेत से पराली खाली न होने पर गेंहू बोआई में होने वाली देर की आशंका है, उनके लिए खुशखबरी है।

By: विवेक त्रिपाठी

जिन किसानों को खेत से पराली खाली न होने पर गेंहू बोआई में होने वाली देर की आशंका है, उनके लिए खुशखबरी है। बिना पराली जलाए और खेत की जोताई किए बिना ही किसान गेंहू की भरपूर फसल ले सकते हैं। ऐसा करने से किसान को न सिर्फ अधिक उपज मिलेगी बल्कि खेती में आने वाले खर्च में भी भारी कमी होगी। यह संभव होगा जीरो फर्टी सीड ड्रिल मशीन से।

इस मशीन में फाल की जगह दांते लगे होते हैं। बोआई के समय ये दांते मानक गहराई तक मिट्टी को चीरते हैं। मशीन के अलग-अलग चोंगे मे रखा खाद-बीज इसमें गिरता है। मशीन के प्रयोग के पूर्व कुछ सावधानियां अपेक्षित हैं। खेत से खर-पतवार व पुआल की सफाई कर लें। ऐसा न होने पर ये मशीन के दांतों में फंसते हैं। अगर खेत में नमी कम है, तो बोआई के पूर्व हल्का पटा लगा दें। बेहतर है कि कटाई के चंद दिन पूर्व धान के खेत की हल्की सिंचाई कर लें। बोआई के समय सिर्फ दानेदार उर्वरकों का ही प्रयोग करें।

यह भी पढ़े: ग्रामीण इलाकों के बच्चे भी अब आसानी से लें सकेंगे ऑनलाइन शिक्षा

सीआइएमएमवाईटी के कृषि वैज्ञानिक अजय कुमार के अनुसार, एक लीटर डीजल के उपभोग पर हवा में 2.6 किग्रा कार्बन डाइआक्साइड निकलता है। अनुमान के अनुसार साल भर में एक हेक्टेअर खेत की जोताई और सिंचाई में करीब 150 लीटर की खपत होती है। इस तरह हवा में करीब 450 किग्रा कार्बन डाइआक्साईड का उत्सर्जन होता है। न्यूनतम जोताई और सिंचाई की दक्ष विधाओं (स्प्रिंकलर एवं ड्रिप) का प्रयोग कर सिंचाई में लगने वाले पानी की मात्रा को काफी हद तक कम कर सकते हैं। इस तरह पर्यावरण संरक्षण, लोगों की और भूमि की सेहत के लिहाज से खासी उपयोगी है।

उन्होंने बताया कि प्रति हेक्टेयर बुआई की लागत परंपरागत विधा की तुलना में करीब दो-ढाई हजार रुपये कम होती है। कम बीज लगने के बावजूद उपज में करीब 10-30 फीसद वृद्धि होती है। खेत तैयार करने में लगने वाले श्रम-संसाधन और ऊर्जा की करीब 80 फीसद बचत होगी। कम जुते खेत में पानी कम लगने से सिंचाई में करीब 15 फीसद बचत संभव है। लाइन से बोआई के नाते फसल संरक्षा के उपाय आसान होंगे। गेहुंसा के प्रकोप में भी कमी होगी। फसल अवशेषों के कारण मृदा में कार्बन तत्व की वृद्धि होती है, जिससे मृदा संरचना में सुधार होगा।

कृषि विशेषज्ञओ का है कहना

कृषि विशेषज्ञ गिरीश पांडेय बताते हैं कि जीरो फर्टी सीड ड्रिल के प्रयोग से तेल, पानी, बीज और मजदूरी की बचत भी होगी। महंगी खाद का प्रयोग भी असरदार होगा। भरपूर नमी की दशा में बोआई के नाते बेहतर जमता (अंकुरण) और होनहार पौधे जमेंगे। इसमें बोआई एक विधा से आपको सारे लाभ मिलेंगे। इससे खेत में मौजूद नमी के सहारे बिना जोताई के भी गेहूं की बोआई संभव है।

धान और गेंहूं के फसलचक्र वाले क्षेत्र के लिए ये विधा खास उपयोगी हैं। चूंकि इसमें धान के खेत में नमी के सहारे ही बोआई की जाती है। इससे खेत की तैयारी में लगने वाला करीब दो हफ्ते का समय बचता है। समय से बुआई का लाभ बढ़ी उपज के रूप में मिलता है।उन्होंने बताया कि पराली के साथ फसल के लिए सर्वाधिक जरूरी पोषक तत्व नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश (एनपीके) के साथ अरबों की संख्या में भूमि के मित्र बैक्टीरिया और फफूंद भी जल जाते हैं। यही नहीं, बाद में भूसे की भी किल्लत बढ़ जाती है। इसके अलावा सबसे बड़ी दिक्कत पराली जलने से होने वाला प्रदूषण भी है।

योगी आदित्यनाथ की पराली न जलाने की अपील

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए अपने कार्यकाल के पहले दिन से ही किसानों का हित सर्वोपरि रहा है। प्रदेश में कई जगह बायोफ्यूल प्लांट लगवाकर वह पराली को किसानों के लिए खजाना बनाने की पहल कर चुके हैं। सरकार पराली को निस्तारित करने वाले की कृषि यंत्रों पर अनुदान भी दे रही है। उन्होंने किसानों से अपील की है कि भूमि और पर्यावरण के खतरों के मद्देनजर पराली न जलाएं। साथ ही अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वह किसानों को जागरूक करें। दुर्व्यवहार कतई सहन नहीं होगा। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी