Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

विशेषज्ञ पैनल ने भारत में कोविशिल्ड के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी

भारत के केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की 10 सदस्यीय विषय विशेषज्ञ समिति ने शुक्रवार को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोरोनावायरस वैक्सीन ‘कोविशिल्ड’ के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण को मंजूरी दे दी। विशेषज्ञ पैनल ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) की ओर से ‘कोविशिल्ड’ और भारत बायोटेक द्वारा ‘कोवैक्सीन’ के लिए मांगे गए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण पर निर्णय

भारत के केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की 10 सदस्यीय विषय विशेषज्ञ समिति ने शुक्रवार को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोरोनावायरस वैक्सीन ‘कोविशिल्ड’ के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण को मंजूरी दे दी। विशेषज्ञ पैनल ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) की ओर से ‘कोविशिल्ड’ और भारत बायोटेक द्वारा ‘कोवैक्सीन’ के लिए मांगे गए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण पर निर्णय लेने के लिए एक बैठक बुलाई थी।

एक बार जब समिति की ओर से वैक्सीन के लिए रास्ता साफ हो गया, तब अंतिम अनुमोदन के लिए आवेदन भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) वी. जी. सोमानी को भेज दिया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन पर निर्णय का अभी भी इंतजार किया जा रहा है।


सीरम इंस्टीट्यूट में हुआ परीक्षण

पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ने क्लिनिकल परीक्षण और ‘कोविशिल्ड’ के निर्माण के लिए ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के साथ भागीदारी की है, जबकि भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के साथ मिलकर ‘कोवैक्सीन’ बनाई है। अमेरिका की फाइजर पहली वैक्सीन थी, जिसने चार दिसंबर को त्वरित अनुमोदन के लिए आवेदन किया था। इसके बाद क्रमश: छह और सात दिसंबर को सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक ने आवेदन किया था। फाइजर ने हालांकि अभी डेटा पेश करने के लिए और समय मांगा है।

यह भी पढ़ें : ग्राम प्रधान के रूप में काम कर रही पाकिस्तानी महिला की हो रही जांच

डीसीजीआई ने गुरुवार को इस बात का संकेत दिया था कि भारत में नए साल में कोविड-19 वैक्सीन आ सकती है। डीसीजीआई ने उम्मीद जताई कि नववर्ष बहुत शुभ होगा, जिसमें हमारे हाथ में कुछ होगा। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के विशेषज्ञों की समिति ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के कोविड-19 टीके के आपात इस्तेमाल की अनुमति देने के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की गुजारिश और ‘कोवैक्सीन’ के आपात इस्तेमाल को अनुमति देने के भारत बायोटेक के आग्रह पर विचार करने के लिए बुधवार को बैठक की थी।

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया वी. जी. सोमानी के मुताबिक, महामारी के मद्देनजर आवेदकों को अनुमति प्रदान करने की पक्रिया तेजी से चल रही है और साथ ही पूरे डाटा की प्रतीक्षा किए बिना ही पहले और दूसरे चरण के परीक्षणों को अनुमति दी गई है। केंद्र सरकार ने ड्राइव के पहले चरण में लगभग 30 करोड़ लोगों को टीका लगाने की योजना बनाई है। ( आईएएनएस )

Popular

यूट्यूब पर एक वीडियो में देखने को मिल रहा है की कैसे एक ह्यूमनॉइड रोबोट इंसानी चेहरे बना रहा है। (Wikimedia Commons)

जैसे-जैसे रोबोट हमारे आस-पास और अधिक काम करने के लिए विकसित होते हैं, यूके स्थित ह्यूमनॉइड रोबोट(Humanoid Robot) निर्माता इंजीनियर आर्ट्स(Engineer Arts) ने अपने एक रोबोट में अधिक मानवीय चेहरे के भावों को शामिल किया है, जो आपको एक भयानक एहसास के साथ छोड़ सकता है।

यूट्यूब पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में, 'अमेका'(Ameca) नामक रोबोट विभिन्न मानवीय भावों को प्रदर्शित करता है, जैसे कि नींद से "जागना" दिखाई देता है, क्योंकि इसका चेहरा अपनी आँखें खोलने पर भ्रम और निराशा दिखाता है।

Keep Reading Show less

पंचकोसी मार्ग (Wikimedia Commons)

सनातन धर्म(Eternal Religion) में पंचकोसी यात्रा(Panchkosi Yatra) का अपना बहुत बड़ा महत्व है। काशी के ज्योतिर्लिंगकार परिक्रमा पथ पर यात्रा की विशेष मान्यता है। प्रदेश की योगी सरकार(Yogi Government) इस परिक्रमा पथ को अंतराष्ट्रीय मान्यता(International Recognition) दिलाने के लिए इसके आस-पास के मंदिर, कुंड और यात्री निवास का सुंदरीकरण करने जा रही है। लगभग 70 किलोमीटर के इस मार्ग पर रोज़गार के नए अवसर उत्पन्न होंगे। काशी विद्वत परिषद के महामंत्री प्रोफेसर रामनारायण द्विवेदी ने एक समाचार एजेंसी से कहा की इस यात्रा के पांच पड़ाव हैं, कंदवा, भीमचंडी, रामेश्वर, पांचों पांडव व कपिलधारा। पांच दिन की यात्रा में एक-एक दिन रात्रि विश्राम का विधान है। पंचकोसी यात्रा की ख़ास बात यह है की इस मार्ग पर सभी धार्मिक स्थान दाहिने तरफ हैं।

योगी आदित्यनाथ की सरकार ने पंचकोसी यात्रा आसान करने के लिए इस मार्ग के सम्पूर्ण विकास की योजना बनाई है। इससे लोग साल भर इस यात्रा को कर सकेंगे और इससे उनको इसका महत्व पता चलेगा।

Keep Reading Show less

राम मंदिर निर्माण होने के बाद मथुरा की तैयारी!(File Photo)

विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने कहा है कि 6 दिसंबर के दिन को कोई बड़ा कार्यक्रम नहीं होगा, लेकिन राम मंदिर(Ram Mandir) के निर्माण पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। विहिप(VHP) के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार(Alok Kumar) ने एक बयान में कहा, "6 दिसंबर पूरे देश के लिए एक बड़ा दिन है। इसलिए विहिप शाखा बजरंग दल 6 दिसंबर को 'शौर्य दिवस' के रूप में मना रही है। पहले की तरह ही इसे चिह्न्ति करने के लिए दिन में कार्यक्रम होंगे। यह कार्यक्रम भी उसी तरह आयोजित किए जाएंगे।"

VHP,Mathura,2024 2024 में मथुरा विवाद पर विचार करेंगे -विश्व हिंदू परिषद (File Photo)

Keep reading... Show less