Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

बर्ड फ्लू से जुड़े हर सवाल का जवाब जानने के लिए पढ़िए विशेषज्ञों की यह रिपोर्ट

By – आशीष श्रीवास्तव उत्तर, पश्चिम और दक्षिण भारत के कई राज्यों में एवियन इन्फ्लुएंजा (बर्ड फ्लू) के मामलों में छिटपुट वृद्धि देखी जा रही है। हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और केरल जैसे राज्यों में 25 हजार से ज्यादा बतख, कौवे और प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है। एहतियात बरतने की जरूरत इस

By – आशीष श्रीवास्तव

उत्तर, पश्चिम और दक्षिण भारत के कई राज्यों में एवियन इन्फ्लुएंजा (बर्ड फ्लू) के मामलों में छिटपुट वृद्धि देखी जा रही है। हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और केरल जैसे राज्यों में 25 हजार से ज्यादा बतख, कौवे और प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है।


एहतियात बरतने की जरूरत

इस खबर से जनता में दहशत फैलने लगी है। लोग पहले ही कोविड-19 संक्रमण के कारण सदमे में हैं और बर्ड फ्लू जैसी एक और वायरल बीमारी आ गई है। लोगों को डर है कि कहीं ये भी महामारी में न बदल जाए। हालांकि, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने ऐसी संभावना को नकार दिया है और जनता को डरने के बजाय एहतियात बरतने की सलाह दी है। डॉक्टरों का कहना है कि बर्ड फ्लू का कारण बनने वाले एच5एन1 वायरस के इंसान से इंसान में संचरित होने का जोखिम दुर्लभ है। ऐसा तब ही संभव है जब कोई व्यक्ति पक्षियों की संक्रमित प्रजातियों के साथ निकटता में काम करे।

अभी तक मुर्गी पालन से जुड़े पक्षियों में एच5एन1 वायरस की मौजूदगी नहीं पाई गई है। (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के सेंटर फॉर कम्युनिटी मेडिशन के प्रोफेसर डॉ. हर्षल आर. साल्वे ने आईएएनएस से कहा, “जो लोग पोल्ट्री के साथ करीब से काम करते हैं उन्हें संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। वरना एच5एन1 वायरस के इंसान में संचरण होने का खतरा बहुत कम होता है, लिहाजा घबराने की जरूरत नहीं है।”

मैक्स सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल के इंटरनल मेडिसिन के डायरेक्टर डॉ. राजीव गुप्ता कहते हैं, “बर्ड फ्लू का पता बीमार पक्षियों में लगाया जाता है।”

यह भी पढ़ें – शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है तलाक : अध्ययन

अधपके पोल्ट्री प्रोडक्ट और मीट खाने से बचें

इसी तरह मेडियोर कुतुब इंस्टीट्यूशनल एरिया (दिल्ली) में प्रिवेंटिव हेल्थ एंड कंसल्टेंट मेडिसिन की प्रमुख डॉ. उपली नंदा ने यह भी कहा कि एवियन इन्फ्लुएंजा के इंसान से इंसान में फैलने की आशंका बहुत कम है। इस बीच लोगों ने अंडे और चिकन खाना बंद कर दिया है कि कहीं इन्हें खाने से वे एच5एन1 वायरस से संक्रमित न हो जाएं। जबकि एवियन इन्फ्लुएंजा के प्रसार और अंडों के सेवन के बीच कोई संबंध ही नहीं है। डॉक्टरों ने डर को दूर करने के लिए कुछ समय तक अधपके पोल्ट्री प्रोडक्ट और मीट खाने से बचने का सुझाव दिया है।

एवियन इन्फ्लुएंजा के प्रसार और अंडों के सेवन के बीच कोई संबंध नहीं है। (Wikimedia Commons)

डॉ. साल्वे ने कहा है, “ऐसे कोई सबूत उपलब्ध नहीं है जो मांस या अंडे खाने से बर्ड फ्लू होने की बात कहते हों। फिर भी जब तक इसके मामले आना कम नहीं हो जाता है, तब तक प्रभावित क्षेत्र में कच्चे मांस और अंडे खाने से बचना चाहिए।”

डॉ. नंदा ने कहा, “लोगों को सुरक्षा उपायों का पालन करना चाहिए। कच्चा मीट और अंडे को छूने से पहले और बाद में अपने हाथों को गर्म पानी और साबुन से धोएं। कच्चे मांस को पकाते समय सुनिश्चित करें कि वह अच्छी तरह पके। मुर्गियों के सीधे संपर्क में आने से बचें। यदि मार्केट में जाने के दौरान इनके संपर्क में आना पड़े तो मास्क और ग्लब्स पहनें।”

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Here Is Why Routine Eye Check-Up Is Important For Older Adults

मुर्गियों में अब तक बर्ड फ्लू नहीं मिला है

जानवरों में बीमारियों का पता लगाने वाले नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज ने आईएएनएस को बताया है कि अभी तक मुर्गी पालन से जुड़े पक्षियों में एच5एन1 वायरस की मौजूदगी नहीं पाई गई है। देश की राजधानी के सबसे बड़े पोल्ट्री मार्केट गाजीपुर मंडी के अध्यक्ष ने भी आईएएनएस को बताया है कि मुर्गियों में अब बर्ड फ्लू नहीं मिला है। (आईएएनएस)

Popular

भारत ने कहा कि चीन का नया सीमा कानून चिंता का विषय(pixabay)

भारत ने बुधवार को कहा कि भूमि सीमा कानून (लैंड बाउंड्री लॉ) लाने के चीन के ताजा एकतरफा फैसले का सीमा प्रबंधन पर मौजूदा द्विपक्षीय व्यवस्थाओं पर असर पड़ सकता है। चीन के भूमि सीमा कानून पर मीडिया के सवालों के जवाब में, विदेश मंत्रालय (एमईए) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, "हमें यह जानकारी है कि चीन ने 23 अक्टूबर को नया भूमि सीमा कानून पारित किया है। इस कानून में अन्य बातों के अलावा यह कहा गया है कि भूमि सीमा मामलों पर चीन दूसरे देशों के साथ किए या संयुक्त रूप से स्वीकार किए समझौतों का पालन करेगा। इसमें सीमावर्ती क्षेत्रों में जिलों के पुनर्गठन के प्रावधान भी हैं।"

उन्होंने आगे कहा कि भारत और चीन ने सीमा संबंधी प्रश्नों का अभी तक समाधान नहीं निकाला है और दोनों पक्षों ने समानता पर आधारित विचार विमर्श के आधार पर निष्पक्ष, व्यावहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान निकालने पर सहमति व्यक्त की है।

INDIA चीन के नए भूमि सीमा नियम को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एकतरफा फैसला करार दीया।(Pixabay )

Keep Reading Show less

प्रशांत किशोर , तृणमूल कांग्रेस (Twitter, Prashant Kishor)

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) ने कहा की भाजपा अब वैसी है जैसी आजादी के बाद के शुरुआती 40 वर्षों में कांग्रेस थी। उन्होंने बयान दिया की भाजपा भारतीय राजनीति का केंद्र बन रही है जिससे वो है हारे या जीते ,उसे उखाड़ पाना अगले कई दशकों तक किसी के बस का नहीं है। किशोर ने बुधवार को गोवा में यह बात कही और सोशल मीडिया पर उनके प्रश्नोत्तर सत्र की एक क्लिप साझा की गई है।

प्रशांत(Prashant Kishor) ने इस साल मार्च-अप्रैल में हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को सत्ता में वापस लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और उनका यह बयान ऐसे समय में आया है, जब तृणमूल बंगाल के बाहर भी अपनी जगह बनाने की कोशिश रही है।

Keep Reading Show less

इजरायली राजदूत नाओर गिलोन [ profile -twitter ]

इजरायल के राजदूत नाओर गिलोन ने गुरुवार को कहा कि Pegasus जासूसी मुद्दा भारत का आंतरिक मामला है और उनका इस मामले में कुछ बोलना उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि एनएसओ एक निजी कंपनी है और उसके पास अपना सॉफ्टवेयर केवल सरकारी संस्थाओं को बेचने का लाइसेंस है।

गिलोन ने कहा, "यह भारत का आंतरिक मुद्दा है और मैं इस बिंदु से आगे नहीं बोल सकता। वे इसे गैर-सरकारी संस्थाओं को नहीं बेच सकते हैं।"

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत सरकार उनसे संपर्क करेगी, उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं पता।

पिछले साल दिल्ली में इजरायली दूतावास के पास हुए विस्फोट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अपराधियों को अभी तक पकड़ा नहीं जा सका है, हालांकि दोनों देशों की जांच एजेंसियां एक दूसरे का सहयोग कर रही हैं।

गिलोन ने कहा, "हम सभी दूतावास कर्मियों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए भारत सरकार के आभारी हैं।"

Keep reading... Show less