Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

फेसबुक ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, कंपनियों पर ठोंका मुकदमा

स्क्रैपिंग एक डेटा संग्रह है जो किसी वेबसाइट या ऐप से डेटा निकालने के उद्देश्य से अनधिकृत ऑटोमेशन पर काम करता है।

फेसबुक ने अवैध डेटा संग्रहित करने के लिए कंपनियों पर मुकदमा ठोंका है। (Pixabay)

फेसबुक ने दो कंपनियों के खिलाफ मुकदमा दायर किया है जिन्होंने इसके प्रमुख ऐप, इंस्टाग्राम, ट्विटर, यूट्यूब, लिंक्डइन और एमेजॉन से डेटा स्क्रैप कर एक ग्लोबल ऑपरेशन में ‘मार्केटिंग इंटेलिजेंस’ और अन्य सेवाओं को बेचने की कोशिश की।

स्क्रैपिंग एक डेटा संग्रह है जो किसी वेबसाइट या ऐप से डेटा निकालने के उद्देश्य से अनधिकृत ऑटोमेशन पर काम करता है।


फेसबुक ने गुरुवार को एक बयान में कहा, “इजरायल स्थित कंपनी ब्रांड टोटल लिमिटेड और डेलावेयर स्थित यूनिमैनिया इंक के कृत्यों ने हमारी सेवा शर्तो का उल्लंघन किया है और अपने यूजर्स की सुरक्षा के लिए हम इनके खिलाफ कानूनी कदम उठा रहे हैं।”

यह भी पढ़ें – क्या आपके ऑनलाइन अकाउंट का पासवर्ड भी कमज़ोर है?

इन कंपनियों ने डेटा तक पहुंचने और संग्रह करने के लिए डिजाइन किए गए ‘अप वॉइस’ और ‘एड्स फीड’ नामक ब्राउजर एक्सटेंशन के एक सेट के माध्यम से फेसबुक सेवा तक यूजर्स की पहुंच को प्रभावित किया।

जब लोग एक्सटेंशन इंस्टॉल करते हैं और वेबसाइटों पर जाते हैं, तो ब्राउजर एक्सटेंशन ने उनके नाम, यूजर आईडी, जेंडर, जन्म तिथि, रिलेशनशिप स्टेटस, स्थान की जानकारी और उनके अकाउंट से संबंधित अन्य जानकारी को स्क्रैप करने के लिए ऑटोमेटेड प्रोग्राम का इस्तेमाल किया। (आईएएनएस)

Popular

जय श्रीराम के नारे लगाने वाले युवक ने दिया कट्टरपंथियों को मुंहतोड़ जवाब। [twitter]

एक मुस्लिम युवक का 'जय श्रीराम' बोलना कट्टरपंथियों को रास नहीं आया। देवबंद (Deoband) के मौलाना मुफ़्ती असद काशिम ने इसे इस्लाम के खिलाफ बताते हुए कहा, "इस्लाम में ये निषिद्ध हैं और उन्हें इसके लिए पश्चाताप करना चाहिए।" जिसका मुंहतोड़ जवाब देते हुए एहसान राव ने कह दिया कि उन्हें जय श्री राम (Jai Shree Ram) और भारत माता की जय बोलने से कोई नहीं रोक सकता।

दरअसल पूरा मामला 2 दिसंबर का है जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहरानपुर में एक जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। इस जनसभा के दौरान एक मुस्लिम युवक एहसान राव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें उसे ' जय श्रीराम ' और ' भारत माता की जय ' के नारे लगाते हुए देखा जा सकता है।

Keep Reading Show less

साध्वी ऋतंभरा (Image: Sadhvi Ritambhara, Twitter)

विवादित ढांचे को गिराए जाने की 30वीं बरसी पर आईएएनएस(IANS) को दिए खास इंटरव्यू में साध्वी ऋतंभरा(sadhvi ritambhara) ने कहा, "विध्वंस के बारे में जो भी कहा जाए, लेकिन मैं एक बार फिर स्पष्ट कर दूं कि यह योजनाबद्ध नहीं था और वहां मौजूद सभी नेताओं ने तहलका मचा दिया। उन्होंने बार-बार 'राम भक्तों' को नीचे आने के लिए कहा, मगर किसी ने नहीं सुनी और बिना किसी उपकरण का उपयोग किए दिव्य महाशक्ति के आशीर्वाद से कारसेवकों ने विवादित ढांचे को ध्वस्त कर दिया।" साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि भगवान राम के जन्मस्थान पर भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने लिए दैवीय महाशक्ति ने कारसेवकों को 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराने की ताकत दी।

उन्होंने(sadhvi ritambhara)यह भी बताया कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू करने के लिए लगभग तीन दशकों का इंतजार दर्दनाक था। इसके अलावा उन्होने बिना किसी का नाम लिए, उन्होंने समाजवादी पार्टी (सपा) सहित राजनीतिक दलों पर भी प्रहार किया और कहा कि सभी नेताओं ने अयोध्या का दौरा करना शुरू कर दिया है, जिनमें वे लोग भी शामिल हैं, जिन्होंने कभी राम भक्तों की हत्या का आदेश दिया था।

Keep Reading Show less

यूट्यूब पर एक वीडियो में देखने को मिल रहा है की कैसे एक ह्यूमनॉइड रोबोट इंसानी चेहरे बना रहा है। (Wikimedia Commons)

जैसे-जैसे रोबोट हमारे आस-पास और अधिक काम करने के लिए विकसित होते हैं, यूके स्थित ह्यूमनॉइड रोबोट(Humanoid Robot) निर्माता इंजीनियर आर्ट्स(Engineer Arts) ने अपने एक रोबोट में अधिक मानवीय चेहरे के भावों को शामिल किया है, जो आपको एक भयानक एहसास के साथ छोड़ सकता है।

यूट्यूब पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में, 'अमेका'(Ameca) नामक रोबोट विभिन्न मानवीय भावों को प्रदर्शित करता है, जैसे कि नींद से "जागना" दिखाई देता है, क्योंकि इसका चेहरा अपनी आँखें खोलने पर भ्रम और निराशा दिखाता है।

Keep reading... Show less