Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

मोदी सरकार की ओर से शुरू किए गए कृषि सुधार और किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करने के लक्ष्य के अलावा खेती-किसानी से जुड़े कुछ अन्य मसलों पर आईएएनएस से विशेष बातचीत में नीति आयोग (NITI Aayog) के सदस्य प्रोफेसर रमेश चंद ने कहा कि नये कृषि कानूनों पर तकरार से करीब एक साल बेकार चला गया। हालांकि किसानों (Farmers) की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए अभी दो साल का वक्त है क्योंकि अभी वित्त वर्ष 2021-22 आरंभ ही हुआ है।


नई दिल्ली (New Delhi), 4 अप्रैल (आईएएनएस)। कृषि सुधार पर विरोध अगर जल्द समाप्त हो और नये कानून पर अमल हो तो देश के किसानों की आमदनी तय समय के भीतर दोगुनी करने का लक्ष्य हासिल करने में कोई मुश्किल नहीं होगा। ऐसा मानना है कृषि अर्थशास्त्र के जानकार और भारत सरकार का पॉलिसी थिंक टैंक, नीति आयोग के सदस्य प्रोफेसर रमेश चंद का।

उन्होंने कहा कि 2016 में किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लक्ष्य की घोषणा की गई थी तब उसका आधार वर्ष 2015-16 रखा गया था। सात साल में यानी 2022-23 तक इस लक्ष्य को हासिल करना है।

बकौल रमेश चंद (Ramesh Chand) आंध्रप्रदेश (Andra Pardesh), तेलंगाना (Telangana), मध्यप्रदेश (Madhya Pardesh), महाराष्ट्र (Maharastra) समेत बिहार और उत्तर प्रदेश में कृषि क्षेत्र में माकूल प्रगति हुई है। कुछ राज्यों को छोड़कर बाकी में इस लक्ष्य को तय समय के भीतर हासिल करना मुश्किल नहीं है।

खाद्य एवं कृषि नीति से जुड़ी अहम समितियों की अध्यक्षता कर चुके प्रोफेसर रमेश चंद का कहना है कि कृषि सुधार की राह में रूकावटें आई हैं। उन्हें जल्द दूर करके अगर नये कृषि कानूनों पर मुक्कमल अमल हो तो निर्धारित समय के भीतर किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य हासिल किया जा सकता है।

किसानों की आमदनी दोगुनी करने को लेकर जो खाका तैयार किया है| (सांकेतिक चित्र, File Photo)

किसानों की आमदनी दोगुनी करने को लेकर जो खाका तैयार किया है उस पर प्रकाशित एक पुस्तक के पन्ने पटलते हुए उन्होंने कहा, किसानों की आय बढ़ाने के जो पांच-छह स्रोतों का जिक्र किया गया उनमें एक इंस्ट्ीट्यूशनल रिफॉॅर्म्स है। इसके तहत प्राइवेट मंडी, डायरेक्ट मार्केंटिंग, कांट्रैक्ट फामिर्ंग, ई-ट्रेटिंग, डायेक्ट सेलिंग टू द कंज्यूमर्स बाई फार्मर्स की बात कही गई है।

मतलब नये कृषि कानूनों (Agricultural laws) में किसानों के लिए सीधे उपभोक्ताओं या प्रसंस्करणकतार्ओं को उपज बेचने समेत जो भी प्रावधान किए गए हैं उसका खाका पहले ही तैयार कर लिया गया था, क्योंकि ये किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लक्ष्य से जुड़े हुए हैं।

नीति आयोग के सदस्य रमेश चंद की माने तो नये कृषि कानूनों को अमल में लाए बगैर किसानों (Farmers) को हासिल करने की परिकल्पना नहीं की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र की विपणन व्यवस्था में सुधार लाने के लिए इससे पहले मॉडल एग्रीकल्चर एक्ट (Agriculture Act) लाया गया जिसको अगर सभी राज्यों में अमल में लाया जाता और जरूरी सुधार किए गए होते तो नये कानून बनाने की जरूरत ही नहीं होती।

यह भी पढ़ें :- इस बार बमबारी के डर के बिना फसल काट रहा जम्मू-कश्मीर का सीमावर्ती गांव

आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें एक शर्त लगा दी गई है कि पेरीशेबल यानी जल्द खराब होने वाली आवश्यक खाद्य वस्तुओं के दाम में औसत से 100 फीसदी इजाफा होने पर स्टॉक लिमिट लगेगी और गैर-पेरीशेबल के दाम में 50 फीसदी की वृद्धि होने पर। उन्होंने कहा कि इसमें किसानों और उपभोक्ताओं के हितों को ध्यान में रखा गया है, इसलिए किसान अगर इसका विरोध कर रहे हैं तो हैरानी होती है। नये कानूनों में कॉरपोरेट को फायदा दिलाने की कोशिश के आरोपों से जुड़े एक सवाल पर उन्होंने कहा कि नये कानूनों में उन्हीं बातों को शामिल किया गया है जिन पर बीते करीब दो दशकों से विचार-विमर्श चल रहा था और कृषि विशेषज्ञों से लेकर पूर्व की सरकारों ने भी इस तरह के सुधारों को जरूरी बताया था। उन्होंने कहा कि कांट्रैक्ट फामिर्ंग और कॉरपोरेट फामिर्ंग में अंतर समझना होगा क्योंकि नये कानून में किसानों की जमीन को लेकर किसी भी प्रकार के अनुबंध का जिक्र नहीं है और किसान अपनी जमीन पर खुद ही खेती करेंगे। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में कांट्रैक्ट फामिर्ंग चली आ रही है, इसलिए इसको लेकर भ्रमित होने की आवश्यकता नहीं है। (आईएएनएस-SM)
 

Popular

अल फैज़ान मुस्लिम फंड के मालिक मोहम्मद फैज़ी ने की खाताधारकों के साथ धोखाधड़ी (wikimedia commons)

बिजनौर के नगीना शहर में मोहल्ला लुहारी सराय में स्थित 'अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का मालिक मोहम्मद फैज़ी खाताधारकों के साथ ठगी(Fraud) कर करोड़ो रुपए की नगदी के साथ सोने-चांदी जेवरात लेकर फरार हो गया है। पुलिस ने कई लोगों के शिकायत के बाद प्रबंधक मोहम्मद फ़ैज़ी और एक अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। तमाम लोगों के शिकायत के आधार पर पुलिस ने 'अल फैजान म्युचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड' मोहल्ला लाल सराय नगीना के का संचालन के रहे मोहम्मद फैजी पुत्र अहमदुल्ला निवासी शाहजीर नगीना 420 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जाँच शुरू कर दी है। नगीना के मोहल्ला लाल सराय में स्थित 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का संचालन मोहम्मद फैज़ी बीते पांच साल से कर रहा था। खाताधारकों को बिना कोई सूचना दिए आरोपी मोहम्मद फैज़ी शाखा बन्द कर फरार हो गया।

Bijnor, bijnor police, Bank fraud अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड तले मोहम्मद फैज़ी ने खाताधारकों को लगाया चूना। करोड़ो ले कर फरार। ( Pixabay )

बता दें कि 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड' की शाखा में लोग प्रतिदिन लाखों रुपये का लेनदेन करते थे। ख़बर है की अल फैजान की शाखा में नगीना व आसपास के लोग के करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ सोने चांदी के जेवरात भी जमा करते थे। रोज की तरह जब लोग अल फैज़ान फंड लिमिटेड की शाखा में लेन देन के लिए पहुंचे तो उन्हें निर्धारित समय सीमा के बाद भी शाखा बंद मिली। इसके बाद खाताधारकों को शक हुआ तो पता चला कि अल फैजान मुस्लिम फंड शाखा का संचालक मोहम्मद फैज़ी करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ खाताधारकों के शाखा में जमा सोने-चांदी के जेवरात भी लेकर फरार हो गया। पुलिस की माने तो अब तक 170 से भी अधिक तहरीर दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस खाताधारकों के हुए नुकसान की खोज बीन में जुट गई है ।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) के राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस(National Startup Day) की पहल की सराहना करते हुए कई भारतीय स्टार्टअप(Indian Startup) ने रविवार को कहा कि यह न केवल देश के नवाचारकर्ताओं और युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करेगा, बल्कि आर्थिक क्षेत्र में वैश्विक निवेशकों के विश्वास को भी बढ़ावा देगा।

मोदी ने शनिवार को 160 से अधिक प्रमुख स्टार्टअप्स के साथ वर्चुअल बैठक में कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने छोटे व्यवसायों की तरह, स्टार्टअप्स भी एक अहम भूमिका अदा करने जा रहे हैं।

फिनटेक प्लेटफॉर्म रिफाइन के सीईओ और सह-संस्थापक चित्रेश शर्मा ने एक मीडिया एजेंसी को बताया हमने नए जमाने के संस्थापकों को मौजूदा श्रेणियों से परे सोचने और वास्तविक सामाजिक समस्याओं को हल करने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रेरित करने में एक छोटी भूमिका निभाई है। जरूरत पड़ने पर इसके लिए पूरी तरह से एक नई श्रेणी बनाने की आवश्यकता हो सकती है। 'किसी खास कारण के लिए व्यापार भारतीय भारतीय स्टार्टअप की बेहतरीन कहानी लिखने के लिए बहुत ही अहम है।

उन्होंने कहा कि भारतीय स्टार्टअप विकास की राह पर हैं और हम दुनिया भर में निवेशकों का विश्वास हासिल करना जारी रखेंगे। यह बात हाल ही निवेश की संख्या में बढ़ोत्तरी होने से साबित होती है। भारत में 2021 में 1 अरब डॉलर से अधिक कीमत वाली 46 कंपनियां अस्तित्व में आई हैं

Keep Reading Show less

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी SI ने चुनावों में गड़बड़ी के लिए अपनी आतंकी शाखाएं सक्रिय कर दी हैं।

पंजाब(Punjab) में चुनावी प्रक्रिया को पटरी से उतारने और पंजाब में खालिस्तानी पदचिन्हों को बढ़ाने के उद्देश्य से, पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) ने राज्य में और उत्तर के कुछ हिस्सों में और अधिक आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए अपने आतंकी संगठनों को सक्रिय कर दिया है। प्रदेश, खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है।

खुफिया जानकारी के हवाले से सुरक्षा व्यवस्था के सूत्रों ने कहा कि आईएसआई प्रायोजित सिख आतंकी संगठन चुनावी रैलियों(Election Rallies) को निशाना बना सकते हैं और पंजाब, यूपी(Uttar Pradesh) और उत्तराखंड(Uttarakhand) के कुछ हिस्सों में चुनावी प्रक्रिया के दौरान कुछ महत्वपूर्ण नेताओं या वीवीआईपी को मारने का प्रयास कर सकते हैं।

Keep reading... Show less