Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

हिन्दू धर्म का सर्वप्रथम ज्योतिर्लिंग : सोमनाथ महादेव मंदिर

भारतवर्ष के पश्चिमी छोर पर गुजरात के वेरावल बंदरगाह में आज भी यह सोमनाथ मन्दिर अपनी सुन्दरता , आस्था , भव्यता के लिए सम्पूर्ण विश्व में प्रख्यात है।

सोमनाथ महादेव ज्योतिर्लिंग भारत के प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से सर्वप्रथम माना गया है। (Wikimedia Commons)

भारत का इतिहास और उससे जुड़ी संस्कृतियां सदा से हम सब के लिए गौरव का विषय रही है और हमारे हिन्दू धर्म ग्रन्थों में  अलग-अलग मंदिरों का सुंदर उल्लेख मिलता है। इन्हीं में से ऋग्वेद में भगवान सोमनाथ मन्दिर (Somnath temple) का जिक्र आज भी मिलता है।

एक प्राचीन पौराणिक कथा के अनुसा , एक प्रजापति दक्ष हुआ करते थे। जिनकी 12 पुत्रियां थीं। उनका विवाह उन्होंने चंद्रदेव (Chandradev) से कराया था। परन्तु चंद्रदेव (Chandradev) सभी रानियों में से केवल एक को पसंद करते थे। अपनी पुत्रियों के साथ होता अन्याय देखकर उन्होंने चंद्रदेव को श्राप दे दिया था और इसी श्राप से मुक्ति के लिए चंद्रदेव ने भगवान शिव(God Shiva) का आह्वाहन किया था। तब भगवान शिव ने चंद्रदेव को वरदान देकर उन्हें श्राप से मुक्त किया था। इसी से खुश होकर चंद्रदेव ने भगवान शिव से प्रार्थना की थी कि , जिस शिवलिंग की मैं पूजा करता हूं, आप माता पार्वती (Mata Parvati) के साथ वहां पूर्ण रूप से निवास करें और तब भगवान शिव ने उनकी आराधना स्वीकार की थी और ऐसा माना जाता है कि, वहीं से ही चंद्रदेव ने शिवलिंग (Shivling) सोमनाथ महादेव मंदिर(Somnath temple) का निर्माण किया था।


भारतवर्ष के पश्चिमी छोर पर गुजरात (Gujrat) के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल (Veraval) बंदरगाह में आज भी यह सोमनाथ मन्दिर (Somnath temple) अपनी सुन्दरता , आस्था , भव्यता के लिए सम्पूर्ण विश्व (World) में प्रख्यात है। सोमनाथ मन्दिर(Somnath temple) हिन्दू धर्म (Hindu religion) का सबसे महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध स्थल माना जाता है। सोमनाथ महादेव ज्योतिर्लिंग (Somnath Jyotirlinga) भारत के प्रमुख ज्योतिर्लिंगों (Jyotirlinga) में से सर्वप्रथम माना गया है। ऐसा माना जाता है कि , सोमनाथ महादेव मंदिर(Somnath temple) की महिमा , महाभारत (Mahabharat) काल के दौरान भी प्रचलित थी।

सोमनाथ मन्दिर(Somnath temple) से जुड़े कुछ विशेष रोचक तथ्य:

आमतौर पर सभी मदिर स्थलों से जुड़ी कोई ना कोई विशेषता अवश्य होती है , जिसके कारण वह विश्वविख्यात होता है। सोमनाथ मन्दिर की भी अपनी कई विशेषताएं हैं। जिससे जुड़े कई रोचक तथ्य हैं।

सोमनाथ महादेव।(Wikimedia Commons)

1. ऐसा कहा जाता है कि , सोमनाथ मन्दिर में स्तिथ शिवलिंग हवा में है अर्थात रेडियोधर्मी (Radioactive) गुण के कारण ये  शिवलिंग(Shivling) को धरती से ऊपर हवा में संतुलित रखता है। यह इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है। जिसके चलते ही सदियों से सोमनाथ मन्दिर(Somnath temple) हमारी आस्था का सबसे बड़ा प्रतीक है।

2. मंदिर के निकट ही दक्षिण दिशा(South direction) की ओर समुद्र के किनारे एक स्तंभ (Stambh) है, जिसे बाणस्तंभ(Banstambh) के नाम से भी जाना जाता है। इसके शीर्ष पर एक तीर का चिन्ह है , जो यह दर्शाता है कि , सोमनाथ मन्दिर और दक्षिण ध्रुव के बीच धरती का कोई अंश नहीं है। भूमि का कोई भी भाग नहीं है।

3. मंदिर प्रांगण में कुछ ऐसे रोचक तथ्य भी मिलते हैं , जो यह इंगित करते हैं कि, भगवान श्रीकृष्ण(Bhagwan Shri Krishna) ने अपना देहत्याग यहीं पर किया था।

4. सोमनाथ मन्दिर (Somnath temple) की सुन्दरता का सबसे बड़ा प्रतीक है यहां पर बह रहीं तीन प्रमुख नदियां, हिरण (Hiran) , कपिला (Kapila) , सरस्वती (Saraswati)। इस अद्भुत संगम को त्रिवेणी भी कहा जाता है। इस त्रिवेणी में लाखों श्रद्धालु स्नान करने आते हैं।

5. मंदिर के प्रांगण में महारानी अहिल्याबाई “होल्कर”(Maharani Ahilyabai Holkar) सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, अहिलेश्वर, गणपति (Ganpati) और काशी विश्वनाथ (Kashi Vishwanath) के मंदिर हैं। यहां दुखहरण की एक जल समाधि भी स्तिथ है।

प्राचीन काल से ही यह मंदिर अत्यंत वेभवशाली था। जिसकी भव्यता का आंकलन करना बेहद मुश्किल था। लेकिन इतिहास में, मंदिर की भव्यता के कारण ही इसे विदेशी आक्रमणकारियों द्वारा कई बार लूटा गया, इसे नष्ट किया गया कई बार इसे भी क्षति पहुंचाई गई थी। ऐसा माना जाता है कि, प्रसिद्ध विद्वान अल बरुनी (Al – Baruni) भारत (India) दर्शन के लिए आया था। उसने अपने यात्रा वृतांत में भारतीय संस्कृति(Indian Culture), उसकी सभ्यता का बहुत ही सुन्दर वर्णन किया था। जिसमें सोमनाथ मन्दिर(Somnath temple) की समृद्धता, सुन्दरता का वर्णन उसने अपनी किताब में किया था। जिसे पढ़कर ही फारस का सुल्तान महमूद गजनवी (Mehmud Gajnavi) को सोमनाथ मन्दिर लूटने का ख्याल आया था।

इसी मकसद को पूरा करने के लिए महमूद गजनवी (Mehmud Gajnavi) ने 1024 में अपने पांच हजार सैनिकों के साथ सोमनाथ मन्दिर पर आक्रमण किया और उसकी सारी संपत्ति को लूटकर मन्दिर को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था। इसके बाद सबसे पहले इसका पुनः निर्माण गुजरात (Gujrat) के राजा भीम (Bhim) और मालवा (Malva) के राजा भोज (Raja Bhoj) ने करवाया था। लेकिन इसके बाद भी महमूद गजनवी (Mehmud Gajnavi) ने लगभग 17 बार सोमनाथ मन्दिर पर आक्रमण किया और पूर्णतः उसे ध्वस्त कर दिया था। सोमनाथ मन्दिर को अंतिम बार 1665 में मुगल (Mughal) शासक औरंगजेब (Aurangzeb) द्वारा नष्ट किया गया था लेकिन इसके बाद इसका पुनः निर्माण नहीं हो पाया था। कुछ तथ्य यह भी दर्शाते हैं कि , सोमनाथ मन्दिर के स्थान पर 1706 है एक मस्जिद (Majzid) बना दी गई थी। एक और रोचक तथ्य यह भी मिलता है कि, करीब 725 में सिंध(Sindh) के मुस्लिम सूबेदार अल-जुनैद (Al – Juned) ने भी सोमनाथ मन्दिर को तबाह कर दिया था। जहां एक तरफ हिन्दू राजा सोमनाथ मन्दिर का निर्माण करते गए वहीं मुस्लिम सुल्तान उसको तोड़ते गए थे।

यह भी पढ़े :- क्या क़ुतुब मीनार एक मस्जिद या ध्रुव स्तम्भ?

आज वर्तमान में जो सोमनाथ मन्दिर स्तिथ है उसे स्वतंत्रता के बाद पुनः निर्मित किया गया था। तत्कालीन भारत के गृहमंत्री (Home minister) सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) ने 1951 में इसके पुनः निर्माण का आदेश दिया था और गुजरात(Gujrat) की चालुक्य शैली में इसका निर्माण किया गया था।
आज सोमनाथ मन्दिर भारत की प्रतिष्ठित और सम्मानित परियोजनाओं में से एक माना जाता है। हिंदू धर्म(Hindu religion) की आस्था का ही प्रतीक है कि आज सोमनाथ मन्दिर(Somnath temple) की पराकाष्ठा सम्पूर्ण विश्व में प्रख्यात है।

Popular

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।

Keep Reading Show less

पराग अग्रवाल, ट्विटर सीईओ (Twitter)

नए ट्विटर सीईओ (Twitter CEO) पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) ने कंपनी का पुनर्गठन शुरू कर दिया है और दो वरिष्ठ अधिकारी पहले ही पुनर्गठन योजना के हिस्से के रूप में पद छोड़ चुके हैं। द वाशिंगटन पोस्ट की एक ईमेल का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्विटर के मुख्य डिजाइन अधिकारी डैंटली डेविस और इंजीनियरिंग के प्रमुख माइकल मोंटानो दोनों ने पद छोड़ दिया है। डेविस 2019 में तो मोंटानो 2011 में कंपनी में शामिल हुए थे।

शुक्रवार देर रात मीडिया रिपोर्ट्स में ट्विटर (Twitter) के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा गया, "डैंटली का जाना हमारे संगठनात्मक मॉडल को एक ऐसे ढांचे के इर्द-गिर्द शिफ्ट करने पर केंद्रित है, जो कंपनी के एक प्रमुख उद्देश्य का समर्थन करता है।"

प्रवक्ता ने कहा, "इसमें शामिल व्यक्तियों के सम्मान में इन परिवर्तनों पर साझा करने के लिए हमारे पास और विवरण नहीं है।"

एक ईमेल में अग्रवाल (Parag Agrawal) ने लिखा था कि कंपनी ने हाल ही में महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अपनी रणनीति को अपडेट किया है, और मुझे विश्वास है कि रणनीति साहसिक और सही होनी चाहिए।

इसमें कहा गया, "लेकिन हमारी महत्वपूर्ण चुनौती यह है कि हम इसके खिलाफ कैसे काम करते हैं और परिणाम देते हैं। इसी तरह हम ट्विटर को अपने ग्राहकों, शेयरधारकों और आप में से प्रत्येक के लिए सर्वश्रेष्ठ बना सकते हैं।" jn

Keep Reading Show less

यूट्यूब ऐप ने सभी वीडियो के लिए शुरू की 'लिसनिंग कंट्रोल' सुविधा। (Wikimedia Commons)

यूट्यूब (Youtube) ने कथित तौर पर एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए एक 'सुनने का कंट्रोल' (Listening Control) सुविधा शुरू की है। इस नई सुविधा का फायदा केवल यूट्यूब प्रीमियम ग्राहक उठा सकते हैं।

9टु5गूगल (9to5 google) की रिपोर्ट के अनुसार, लिसनिंग कंट्रोल वीडियो विंडो के नीचे की हर चीज को एक विरल शीट से बदल देता है। प्ले/पाउस, नेक्स्ट/पिछला और 10-सेकंड रिवाइंड/फॉरवर्ड मुख्य बटन हैं।

लिसनिंग कंट्रोल का उपयोग कर के, यूट्यूब ऐप उपयोगकर्ता चाहें तो नए गीतों को प्लेलिस्ट में भी सहेज सकते हैं।

यह सुविधा अब यूट्यूब (Youtube) एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए व्यापक रूप से उपलब्ध है और यह केवल यूट्यूब प्रीमियम यूजर्स के लिए उपलब्ध है।

Google Play Store, यूट्यूब ऐप पहले ही गूगल प्ले स्टोर पर 10 बिलियन डाउनलोड को पार कर चुकी है। [Pixabay]

Keep reading... Show less