Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

“हैंड ऑफ गॉड” डिएगो माराडोना के जीवन के कुछ अंश

डिएगो माराडोना का जन्म 30 अक्टूबर 1960 अर्जेंटीना में लानुस, ब्यूनस आयर्स मैं हुआ था । माराडोना ने अपने करियर की शुरुआत 16 साल की उम्र में अर्जेंटीना की जूनियर टीम के साथ की थी ।

डिएगो माराडोना । (Pinterest)

विश्व भर के फुटबॉल फैंस के लिए दुख का दौर! क्योंकि अर्जेंटीना को 1986 विश्व विजेता बनाने वाले महान फुटबॉल खिलाड़ी और सबके मनपसंद डिएगो माराडोना, 60 साल की उम्र में 25 नवंबर को दुनिया को अलविदा कह गए। दिल का दौरा पड़ने के कारण उनका निधन हुआ।

डिएगो माराडोना का सफर

डिएगो माराडोना का जन्म 30 अक्टूबर 1960 अर्जेंटीना में लानुस, ब्यूनस आयर्स मैं हुआ था । माराडोना ने अपने करियर की शुरुआत 16 साल की उम्र में अर्जेंटीना की जूनियर टीम के साथ की थी । लगातार मेहनत और लगन के साथ फुटबॉल खेलने के बाद वह दुनिया के सर्वकालिक महान फुटबॉलर भी बने ।


यह भी पढ़े : आईसीसी अवार्ड्स की हुई घोषणा, भारतीय खिलाड़ी कोहली और अश्विन भी शामिल

1986 विश्व कप जीत और उसमें उनकी भूमिका

कप्तानी करते हुए डिएगो माराडोना ने अर्जेंटीना को 1986 में वर्ल्ड कप जिताने में सबसे अहम भूमिका निभाई थी और उनका करियर भी उस दौरान अपने सबसे शानदार दौर में था । इसके अतिरिक्त उन्होंने अपना सबसे फेमस “हैंड ऑफ गॉड” वाला गोल भी इंग्लैंड के खिलाफ मारा था । डिएगो माराडोना सबसे पहले चर्चा में तब आए, जब उन्होंने 1982 के विश्व कप में खेला था, तब वह मात्र 21 वर्ष के थे और वे स्टार खिलाड़ी के रूप में उभर आए ।

इसके बाद वह बार्सिलोना और नपोली फुटबॉल क्लब के लिए भी खेले थे । बता दें कि उन्होंने अर्जेंटीना के लिए कुल 34 गोल किए थे वह भी सिर्फ 91 मैचों में । उन्होंने चार बार अर्जेंटीना को वर्ल्ड कप में रिप्रेजेंट भी करा है । माराडोना वही खिलाड़ी हैं जो अर्जेंटीना को 1990 के विश्वकप फाइनल में भी ले गए थे लेकिन वह टीम जर्मनी से हार गई थी ।

साल 1991 में उन्हें कोकेन और ड्रग्स के मामले में 15 महीने के लिए निलंबित भी किया गया था और वह ड्रग टेस्ट में पॉज़िटिव भी पाए गए थे। फिर एक समय वह भी आया, जब वो अर्जेंटीना के कोच भी बने और 2008 से लेकर 2010 तक अर्जेंटीना टीम के कोच बनकर खिलाड़ियों को नई-नई तकनीकों से अवगत कराया। 

यह भी पढ़े : मैच के लिए सुबह छह बजे उठकर 70 किमी का सफर तय करते थे बच्चे

अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ियों ने दी श्रद्धांजलि

दुनिया के तमाम अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने डिएगो माराडोना को श्रद्धांजलि दी। सबसे पहले बात करते हैं महान खिलाड़ी ब्राजील के पेले की, उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि, कितनी दुखद खबर है, मैंने अपने अच्छे दोस्त को खो दिया! दुनिया ने एक महान खिलाड़ी को खो दिया। बहुत कुछ कहना है लेकिन अभी इतना ही कहूंगा ईश्वर उनके परिवार को शक्ति दे। उम्मीद करता हूं एक दिन हम स्वर्ग में साथ फुटबॉल खेलेंगे। 

मैसी , नेमार जूनियर ,रोनाल्डो और हरिकेन  जैसे मशहूर खिलाड़ियों ने भी उनकी मौत पर शोक जताया।

भारतीय फुटबाल टीम के मुख्य कोच इगोर स्टीमाक ने डिएगो माराडोना को याद करते हुए अपनी श्रद्धंजलि दी है। स्टीमाक ने कहा है कि माराडोना फुटबाल के राजा थे। कोई कैसे उन्हें एक शब्द या एक विशेषण में बयां कर सकता है? मैंने कई साल तक अपने देश का प्रतिनिधित्व किया, कई क्लबों के लिए खेला, मैं अभी भी इस महान खिलाड़ी की छाया से अभिभूत हूं।”

क्रिकेट खिलाड़ियों ने भी याद किया माराडोना को

यकीनन दुनिया ने एक खास खिलाड़ी को खोया है, जिसके चलते भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों एवं पूर्व खिलाड़ियों ने भी इस पर ट्वीट के माध्यम से शोक व्यक्त किया। सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी ट्वीट किया।

सौरव गांगुली ने लिखा, ‘मेरा हीरो नहीं रहा। भगवान आपको शांति दे। मैं आपके लिए ही फुटबॉल देखता था।’ 

वहीं तेंडुलकर ने लिखा, ‘फुटबॉल और खेल की दुनिया ने एक महान खिलाड़ी को खो दिया है। आपकी आत्मा को भगवान शांति मिले डिएगो मराडोना। आप यादों में रहेंगे।’

किसी ने सही कहा है कि कोई भी महान आदमी या खिलाड़ी कभी मरता नहीं है । बल्कि उनकी यादें हमेशा हमारे दिल में और दिमाग में कैद होकर रह जाती हैं शायद ऐसे ही विश्व विजेता थे डिएगो माराडोना!

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less