Wednesday, May 12, 2021
Home देश जिसने मदद के लिए हाथ बढ़ाया उसी की पीठ पर छूरा घोंपा

जिसने मदद के लिए हाथ बढ़ाया उसी की पीठ पर छूरा घोंपा

रिंकू शर्मा की हत्या पर क्यों चुप है लिब्रलधारी तबका और क्यों अपने ही दोस्तों ने रिंकू शर्मा पर चाकू से वार किया। जानने के लिए पढ़ें यह खबर।

दिल्ली के मंगोलपुरी में राम मंदिर धन संग्रह से जुड़े रिंकू शर्मा पर एक विशेष तबके के लोगों ने 10 फरवरी को घर में घुस कर हमला कर दिया, जिसके बाद रिंकू की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। इस मामले में अब तक चार आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं जिनकी पहचान मोहम्मद इस्लाम, दानिश नसीरुद्दीन, दिलशान और दिलशाद इस्लाम के रूप में हुई है। यह चारों आरोपी उन 25-30 लोगों के साथ रिंकू पर हमला करने आए थे।

हैरान करने वाली बात यह है कि आरोपी मोहम्मद इस्लाम की पत्नी जिस समय गर्भवती थी उस समय रिंकू ने ही इलाज के लिए दो बार अपना रक्त दान किया था। यह ही नहीं इस्लाम के ही भाई को जब कोरोना बीमारी ने जकड़ लिया था उस समय भी रिंकू ने उसके इलाज के लिए मदद किया था। मगर मदद करने का यह नतीजा मृत्यु होगी इसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

किन्तु हत्या के बाद पुलिस का कहना है कि यह साम्प्रदायिक मामला नहीं है। यदि हम पुलिस की बात मान भी लें तो कुछ घटनाओं पर ध्यान केंद्रित करना जरूरी है। यदि यह सांप्रदायिक घटना नहीं थी तो क्यों राम मंदिर जुलुस के बाद ही रिंकू की इन शांतिप्रिय तबके से बहस हुई? और यह बहस लगातार जारी रही जिसके उपरांत उसका नतीजा हम सबके सामने है।

बुद्धिधारी Secular तबका कहता है कि एक विशेष राजनीतिक पार्टी सांप्रदायिक हिंसा को बढ़ावा दे रही है, यदि ऐसा है तो दिल्ली में भड़के दंगे को किसने हवा दिया, इसका जवाब हम सब जानते हैं। कथित धर्म विरोधी कानून CAA का झूठा भ्रम किसने दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में उन ‘शांतिप्रिय’ धर्म के लोगों में फैलाया, इसका जवाब भी हमे पता है।

यह भी पढ़ें: अम्बेडकरवादी सोच के जरिए अपनों में ही फूट डालने में जुटे हैं ये पत्रकार!

दिल्ली में हुई यह घटना पहली बार नहीं है, ऐसी अनेकों घटनाओं की सूचि आप विभिन्न मीडिया रिपोर्ट में पढ़ और देख सकते हैं। मगर उनमे से कितनो पर करवाई हुई इसका जवाब अभी तक दिल्ली की सरकार नहीं दे पाई है। हत्या के दो दिन बाद भी दिल्ली सरकार या किसी अन्य राजनीतिक पार्टी का कोई आधिकारिक या अनाधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ है।

किन्तु भाजपा नेता और Hindu Ecosystem के रचनाकार कपिल मिश्रा ने ट्विटर द्वारा रिंकू शर्मा की हत्या को दुःखद बताया है, साथ ही यह सवाल भी पूछा है कि देश में आखिर कब तक ऐसा चलता रहेगा।

ट्विटर पर #hindulivesmatter, #hindulivesdontmatter, और #JusticforRinkuSharma जैसे हैशटैग ट्रेंडिंग पर हैं। रिंकू शर्मा के हत्या के बाद पालघर साधु, दिल्ली हिंसा में मारे गए आईबी अफसर अंकित शर्मा और लव जिहाद का विरोध करने पर मारी गई फरीदाबाद की निकिता तोमर, इन सबके के इन्साफ के लिए आवाज़ उठाई जा रहीं है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी