Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

मध्य प्रदेश के रायसेन में धर्मान्तरण के गैंग का पर्दाफाश

एनसीपीसीआर ने अपनी जाँच के दौरान पाया की अनुसूचित जनजाति 15-20 हिन्दू लडकियां छात्रावास में ठहरी थी। इन सभी को शिक्षा देने के नाम पर ईसाई मिशनरी छात्रावास में रखा गया था।

मध्य प्रदेश के रायसेन में क्रिस्चियन मिशनरी गैंग का पर्दाफाश।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

राष्ट्रिय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने मध्य प्रदेश के रायसेन में एक कथित धर्मांतरण गैंग का पर्दाफाश करने का दावा किया है। एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो के नेतृत्व में हुए ऑपरेशन में एनसीपीसीआर के एक प्रतिनिधिमंडल ने रायसेन के एक गाँव में औचक निरिक्षण के दौरान पाया की गाँव के एक छात्रावास में जबरन लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।

एनसीपीसीआर ने अपनी जाँच के दौरान पाया की अनुसूचित जनजाति 15-20 हिन्दू लड़कियां छात्रावास में ठहरी थी। इन सभी को शिक्षा देने के नाम पर ईसाई मिशनरी छात्रावास में रखा गया था।


एनसीपीसीआर के अध्यक्ष ने बताया , "हमें जानकारी मिली थी की इन लड़कियों को बेहतर शिक्षा प्रदान करने के लिया वहां रखा गया था लेकिन तथ्य वाली बात यह है की वहां शिक्षा के लायक ऐसा कोई भवन था ही नहीं। हमें जानकारी मिली थी की इन लड़कियों को यहां किसी विशेष उद्देश्य से लाया गया था जिक्से लिए उहे यहां प्रशिक्षण दिया जा रहा था।

जांच में पता चला की अनुसूचित जाती की यह लडकियां ज़्यादातर पूर्वोत्तर के राज्यों की रहने वाली थी।

एनसीपीसीआर की टीम को जांच के दौरान छात्रावास के कमरे से एक बाइबल और ईसाई मिशनरी से जुडी कई चीज़ें मिली पर शिक्षा से जुड़ा वहां कोई सामान नहीं मिला।

इसके बाद एनसीपीसीआर ने जिला प्रशासन और मध्य प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर मामले में उपयुक्त कार्रवाई करें के निर्देश दियें हैं।

यह भी पढ़ें- आईआईएम अहमदाबाद कॉरपोरेट्स के लिए भगवद गीता पर पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए तैयार

कानूनगो ने कहा ,"मैंने जिला प्रशासन से इन लड़कियों को इनके घर ले जाने को कहा है। यह अनैतिक है और बच्चों के अधिकारों के खिलाफ है। मामले में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।"

Input: IANS ; Edited By: Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less