Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जीडीपी बढ़नी चाहिए, लेकिन इसका लाभार्थी गरीब और जरूरतमंद होना चाहिए​ : अमित शाह

डिलीवरिंग डेमोक्रेसी : सरकार के प्रमुख के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो दशक' विषय पर रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी के तत्वाधान में तीन-दिवसीय राष्ट्रीय गोष्ठी का उद्घाटन किया।

आजाद भारत के सबसे अच्छे प्रधानमंत्री हैं मोदी - अमित शाह (Wikimedia commons)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने बुधवार को 'डिलीवरिंग डेमोक्रेसी : सरकार के प्रमुख के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) के दो दशक' विषय पर रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी के तत्वाधान में तीन-दिवसीय राष्ट्रीय गोष्ठी का उद्घाटन किया। अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा कि जीडीपी बढ़नी चाहिए, लेकिन इसका लाभार्थी गरीब और जरूरतमंद होना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री(Narendra Modi) के सुधार हमेशा गरीबों की जरूरतों पर आधारित रहे हैं। इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को आजादी के बाद सबसे अच्छा प्रधानमंत्री बताते हुए कहा कि गरीबों के लिए घर पहले भी बनते थे, लेकिन मोदी ने नीति का पैमाना बदल दिया है।

शाह(Amit Shah) ने कहा दो करोड़ लोगों को घर भी मुहैया कराया गया है और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि 15 अगस्त 2022 तक हर गरीब के पास घर होगा। शौचालयों ने पूरे देश में महिलाओं को सशक्त बनाया है और हर घर में पानी उपलब्ध कराने से सभी भारतीयों के स्वास्थ्य में और सुधार होगा।गृह मंत्री(Amit Shah) ने कहा कि 2019 में मोदी सरकार दोबारा आई और 5 अगस्त 2019 को धारा 370 और 35ए को समाप्त करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि सबको साथ लेकर और पूरे देश में बिना किसी दंगा फसाद के श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण का फैसला हो गया और आज मंदिर निर्माण का काम चालू है।


अमित शाह((Amit Shah)) ने कहा कि पिछली सरकारों ने कर्जमाफी का रास्ता चुना लेकिन मोदीजी के नेतृत्व में 6,000 रुपये किसानों के खातों में जमा किए गए, जिससे उन्हें लागत का भुगतान करने में मदद मिली, क्योंकि यहां 60 फीसदी सीमांत किसान हैं और यह राशि उनकी कृषि गतिविधियों की इनपुट लागत के लिए पर्याप्त है। इसके अलावा शाह ने कहा कि 2014 से मोदी जी का कार्यकाल शुरू हुआ और देश में हर क्षेत्र में बड़ा परिवर्तन हुआ है। शाह ने कहा कि शासन, सुधार, सुशासन जैसे शब्द किसी देश की समस्याओं को समाप्त नहीं कर सकते। देश की समस्या सिर्फ प्रशासन, आर्थिक विकास नहीं है, बल्कि देश के गौरव को भी संभालना है, देश की संस्कृति को भी आगे बढ़ाना है, देश की सुरक्षा को भी सुनिश्चित करना है।

शाह(Amit Shah) ने कहा कि साथ ही मोदी सरकार ने वन रैंक वन पेंशन का संवेदनशील फैसला लिया। उन्होंने कहा कि जो माइनस 45 से 45 डिग्री तापमान में देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं उनके परिवार को सुरक्षित करना इस राज्य, सरकार और शासन की जिम्मेदारी है। सरकार ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का भी फैसला लिया है।अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि मोदी जी ने विश्व पटल पर भारतीय संस्कृति का अग्रदूत बनकर योग दिवस के लिए 177 देशों की सहमति लेकर आज हमारे योग और आयुर्वेद को दुनिया भर में पहुंचाने का काम किया है।

यह भी पढ़े - पलामू टाइगर रिजर्व में कोरोना काल में बड़ा हुआ वन्यजीवों का परिवार, दिखे विलुप्तप्राय जीव

शाह ने उज्जवला योजना, हर घर में स्वच्छ पेयजल, देश भर के गांवों का शत-प्रतिशत विद्युतीकरण, सात करोड़ लोगों को आयुष्मान भारत स्वास्थ्य कार्ड का भी जिक्र किया। गृह मंत्री ने कहा कि मोदी के नेतृत्व में देश ने हाल ही में 100 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा छू लिया है। शाह ने कहा, सभी क्षेत्रों में नई चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए, प्रधान मंत्री एक अलग ड्रोन नीति, अंतरिक्ष नीति लाए और कृषि के लिए एक एकीकृत नीति में हरी, नीली और सफेद क्रांतियों को मिला दिया।

Input: आईएएनएस; Edited By: Lakshya Gupta

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less