Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

General Bipin Rawat की मृत्यु पर खिलखिलाने वालों पर कानून का डंडा

सीडीएस जनरल बिपिन रावत के मृत्यु पर अभद्र टिप्पणी करने वालों पर पुलिस ने धरपकड़ की करवाई को गति दी है। साथ ही कई लोग गिरफ्त में भी आए हैं।

(NewsGram Hindi)

देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत(General Bipin Rawat) 13 अन्य लोगों के साथ 9 दिसम्बर के दिन कुन्नूर के पहाड़ियों में हुए भीषण हेलीकाप्टर क्रैश में शहीद हो गए थे, जिनमें उनकी पत्नी मधुलिका रावत भी शामिल थीं। इस घटना ने न केवल देश को आहत किया, बल्कि विदेशों में भी इस खबर की खूब चर्चा रही। देश के सभी बड़े पदों पर आसीन अधिकारी एवं सेना के वरिष्ठ अफसरों ने इस घटना पर शोक व्यक्त किया।

जनरल बिपिन रावत(General Bipin Rawat) भारतीय सेना में 43 वर्षों तक अनेकों पदों पर रहते हुए देश की सेवा करते रहे और जिस समय उन्होंने अपना शरीर त्यागा तब भी वह भारतीय सेना के वर्दी में ही थे। उनके निधन के बाद देश में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। मीडिया रिपोर्ट्स में वह लोग जिनसे कभी जनरल बिपिन रावत मिले भी नहीं थे, उनके आँखों में भी यह खबर सुनकर अश्रु छलक आए। देश के सभी नागरिकों ने जनरल बिपिन रावत(General Bipin Rawat), उनकी पत्नी सहित 13 अफसरों की मृत्यु पर एकजुट होकर कहा कि यह देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है। आपको बता दें कि जनरल रावत के नेतृत्व में भारतीय सेना ने अनेकों सफल सैन्य अभियानों अंजाम तक पहुँचाया, जिससे भारत का कद न केवल आतंकवाद के खिलाफ मजबूत हुआ, बल्कि इसका डंका विदेशों में भी सुना गया।


जनरल रावत ने अपने एक अभिभाषण में छोटी सी पंक्ति पर जोर देकर कहा था कि 'खामोशी से बनाते रहो पहचान अपनी, हवा खुद तुम्हारा तराना गाएगी।' आज यह बात उनके व्यक्तित्व पर सटीक बैठती है। किन्तु देश में एक हवा ऐसी भी है जिसे सिर्फ घृणा एवं कट्टरता को बढ़ावा देना आता है। और इस घृणा को जनरल रावत मृत्यु के बाद बड़े स्तर पर देखा गया। उनकी मृत्यु पर एक तथाकथित लिब्रलधारी एवं शांतिप्रिय तबका ऐसा भी था, जिसने देश के सबसे वरिष्ठ सेना नायक की मृत्यु पर जहर उगलने का काम किया।

आपको बता दें की ऐसे एक नहीं अनेकों नाम हैं, जिन्होंने जनरल रावत एवं 13 अन्य लोगों की मृत्यु पर आपत्तिजनक एवं अभद्र टिप्पणी सोशल मीडिया पर किए हैं।

यदि आप सोशल मीडिया पर और ध्यान से देखेंगे तब आपको ज्ञात होगा कि देश में घृणा एवं द्वेष किस तरह हावी हो चुकी है। हम सब देख सकते हैं कि कैसे एक धर्म एवं राजनीतिक पार्टी से जोड़ते हुए किस तरह मृत्यु पर भी घृणा को बढ़ाया जा रहा है। यह बात ध्यान देने वाली है कि जिस समय जनरल बिपिन रावत का निधन हुआ वह भारतीय सेना के सबसे बड़े पद पर आसीन थे, इसलिए उनके खिलाफ सोशल मीडिया पर हुई अभद्र टिप्पणी सामने आते ही प्रशासन ने भी कार्रवाई तेज कर दी है। कई लोग जिन्होंने जनरल रावत पर आपत्तिजनक पोस्ट किए थे, अब पुलिस ने उनकी धरपकड़ की कार्रवाई तेज कर दी है।

इसी बीच एक ऐसी खबर भी सुर्खियों में आई है, जिसने देश में पनप रहे मजहबी कट्टरता की तरफ अपना ध्यान केंद्रित किया है। आपको बता दें कि जनरल बिपिन रावत के निधन पर कट्टरपंथियों के रवैये से आहत होकर मलयाली फिल्म निर्देशक अली अकबर ने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने का फैसला किया है। फेसबुक पर कट्टरपंथियों द्वारा जनरल रावत की मृत्यु पर मजाक बनाने से आहत होकर फिल्म निर्देशक अली अकबर ने यह निर्णय लिया है। उन्होंने कहा, 'इसे कभी स्वीकार नहीं कर सकते हैं इसलिए मैं अपना धर्म छोड़ रहा हूँ, न मेरा और न ही मेरे परिवार का कोई और धर्म है।'

निर्देशक अली अकबर ने कहा कि 'उनका धर्म से विश्वास उठ गया है।' साथ ही मृत्यु पर मजाक बनाने वालों पर कार्रवाई की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि 'राष्ट्र को उन लोगों की पहचान करनी चाहिए जो सीडीएस की मौत पर मुस्कुराते हैं और उन्हें दंडित करना चाहिए।' आपको बता दें कि अली अकबर से पहले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने भी इस्लाम धर्म छोड़ हिन्दू धर्म अपना लिया है, साथ ही वह वासीम रिजवी से बदलकर जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी हो गए हैं। इस्लाम धर्म पर बड़ा आरोप लगाते हुए जितेंद्र नारायण सिंह ने कहा कि " कुरान के अनुसार, एक व्यक्ति दूसरे का सिर काटता है तो वह धर्म के आधार पर सही है, लेकिन इंसानियत के खिलाफ है। मुझे इस्लाम से निकाला गया, क्योंकि मैंने राम जन्मभूमि पर बोला।"

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!


Islam और Mohammad पर Wasim Rizvi उर्फ Jitrendra Narayan Tyagi के विवादित बयान जानिए | Newsgram youtu.be

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less