Tuesday, December 1, 2020
Home खेल रिकी पोटिंग जो गेंद पर प्रहार करते थे, वो मेरे लिए मौका...

रिकी पोटिंग जो गेंद पर प्रहार करते थे, वो मेरे लिए मौका होता था : हरभजन सिंह

भारत के लिए 103 टेस्ट और 417 विकेट लेने वाले हरभजन ने टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर काबिल पोंटिंग को 10 बार आउट किया है। हरभजन हालांकि पोंटिंग का काफी सम्मान करते हैं।

By : खुर्रम हबीब

रिकी पोटिंग का स्पिन गेंदबाजी को सख्त हाथों से खेलना और 2001 सीरीज में उनके खिलाफ किए गए प्रदर्शन से मिली मानसिक बढ़त के कारण भारत के ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह पूर्व आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी को लगातार परेशान करने में सफल रहे।

भारत के लिए 103 टेस्ट और 417 विकेट लेने वाले हरभजन ने टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर काबिल पोंटिंग को 10 बार आउट किया है। हरभजन हालांकि पोंटिंग का काफी सम्मान करते हैं, सिर्फ एक बल्लेबाज के तौर पर ही नहीं, बल्कि एक मार्गदर्शक और युवाओं को कोच के तौर पर भी। इन दोनों ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में मुंबई इंडियंस का ड्रेसिंग रूम साझा किया है।

पोटिंग की खामियां

हरभजन ने शुक्रवार को आईएएनएस से कहा, “इसमें कोई शक नहीं कि वह इस खेल को खेलने वाले महान खिलाड़ियों में से एक हैं। वह हमेशा इस खेल को खेलने वाले सर्वकालिक महान खिलाड़ी के तौर पर याद किए जाएंगे। मैंने जब उन्हें कुछ बार आउट किया तो मुझे लगा था कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ करते समय उनके बराबर हूं।”हरभजन ने कहा कि उन्होंने पोटिंग में कुछ तकीनीक खामियां देख ली थीं।

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोटिंग । (सोशल मीडिया)

40 साल के हरभजन ने कहा, “मैंने देखा था कि वह जब आगे आकर डिफेंस करते हैं तो वह गेंद को हल्के हाथों से नहीं खेलते हैं। मैंने उनके डिफेंस में देखा था कि वह सख्त हाथों से गेंद पर आते हैं। जो गेंद थोड़ी ज्यादा उछाल लेती है तो वह उनके बल्ले के ऊपरी हिस्से पर लगती है और इसने मुझे हमेशा उन्हें बैट-पेड और शॉर्ट लेग या बैकवर्ड शॉर्ट लेग पर कैच आउट कराने का मौका दिया। एक बार जब मुझे पता चल गया कि वह गेंद को डिफेंड करने में ज्यादा सहज नहीं होते तो मैं उनकी कमजोरी पर ही खेलता गया।” हरभजन ने कहा कि एक संपूर्ण बल्लेबाज के लिए मजबूत डिफेंस होना बहुत जरूरी है।

उन्होंने कहा, “आपके पास हर तरह के शॉट हो सकते हैं, लेकिन आपका डिफेंस मजबूत है तो आप एक संपूर्ण बल्लेबाज बन जाते हो। जब वह तेज गेंदबाजों को खेलते थे तो कभी नहीं लगता था कि वह वह सख्त हाथों से खेल रहे हैं, लेकिन स्पिनरों के खिलाफ आपको थोड़ा हल्के हाथों से खेलना होता है। मुझे लगता था कि वह जल्दी करेंगे और गेंद उनके ग्लव्स पर लगेगी। मैंने 2001 की सीरीज में उन्हें चार-पांच बार आउट किया था।”

यह भी पढ़े :पढ़िए सचिन और उनके एक ख़ास फैन के बीच की यह रोचक कहानी

ऑफ स्पिनर ने कहा, “इसके बाद मैं जब भी उनके खिलाफ खेला हूं तो यह मानसिक खेल बना गया था। जब आप किसी बल्लेबाज पर लगातार आउट होते हो तो यह हमेशा आपके दिमाग में चलता है। चाहे आप 130 पर क्यों न खेल रहे हो, आप हमेशा सोचते हो कि यह गेंदबाज आया है, यह मुझे आउट न कर दे। यह शायद उनके दिमाग में चलता था। शायद यह मेरे लिए अच्छा था। मेरे दिमाग में चलता था कि मैं उन्हें आउट कर सकता हूं। मुझे लगता था कि स्थितियां मायने नहीं रखतीं, विकेट मायने नहीं रखता, मैं उन्हें आउट कर सकता हूं, तो यह मेरे लिए काम करता था।”हरभजन का कहना है कि पोटिंग के खिलाफ उनकी सफलता का यह मतलब नहीं है कि पोंटिंग महान बल्लेबाज नहीं हैं।

सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी की बात और मुंबई इंडियंस का कैम्प

उन्होंने कहा, “मैं जितने खिलाड़ियों के साथ खेला उनमें से वह सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं। एक खिलाड़ी के तौर पर मैं उनका काफी सम्मान करता हूं। हम जब एक दूसरे के खिलाफ खेलते थे तो हमारे बीच प्रतिद्वंदिता होती थी, लेकिन जब हम एक साथ मुंबई इंडियंस के लिए खेले, उन्होंने हमें पहला आईपीएल खिताब दिलाने में मदद की।”इन दोनों ने हालांकि मुंबई इंडियंस के कैम्प में कभी भी अपनी प्रतिद्वंद्विता पर चर्चा नहीं की।

ऑफ स्पिनर ने कहा, “हमने कभी बैठकर हमारे बीच की प्रतिद्वंद्विता या विकेटों पर चर्चा नहीं की। हम जब एक-दूसरे के खिलाफ खेलते थे तो बात तक नहीं करते थे। लेकिन जब हम मुंबई इंडियंस में खेलते थे तो हम इस बात पर चर्चा नहीं करते थे कि मैं उन्हें कैसे आउट करता हूं या वो कैसे मुझे खेल नहीं पाते हैं। वह वहां मेरी मदद करते थे।”दाएं हाथ के गेंदबाज ने कहा कि पोंटिंग के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि उन्हें पता है कि अनुभवी खिलाड़ियों में से उनका सर्वश्रेष्ठ कैसे निकाला जाता है।

उन्होंने कहा, “वह मुंबई इंडियंस के कोच के तौर पर बेहतरीन थे। उनके कोच रहते हमने खेलना का लुत्फ लिया। वह वो हैं जो कई खिलाड़ियों को रास्ता दिखाते हैं। वह युवाओं के साथ अच्छे से रहते हैं और सीनियर खिलाड़ियों को उनका समय देते हैं। वह आपसे कहेंगे कि आपको पता है कि क्या करना है, साथ ही वह हमें जिम्मेदारियां देंगे।” (आईएएनएस )

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी