Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

बिना कागज वाली कार्यप्रणाली हासिल करने के लिए प्रौद्योगिकी पर जोर दें : गिरिराज सिंह

केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने मंगलवार को स्वच्छता और सेवा के अभियान को सरकारी कार्यालयों में ले गए हैं।

केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह।(Wikimidia Commons)

केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने मंगलवार को स्वच्छता और सेवा के अभियान को सरकारी कार्यालयों में ले जाते हुए ग्रामीण विकास मंत्रालय के विभिन्न अनुभागों का निरीक्षण किया और मंत्रालय में अपनाई जाने वाली भौतिक और डिजिटल स्वच्छता प्रथाओं की समीक्षा की। केंद्रीय मंत्री ने अधिकारियों को बेहतर कार्यालय प्रबंधन के लिए ई-फाइलिंग प्रणाली का अधिकतम उपयोग करने का निर्देश दिया। मंत्री ने निरीक्षण अभियान के दौरान कर्मचारियों के काम के माहौल, दक्षता और स्वास्थ्य में सुधार के लिए सिस्टम और परिसर में भौतिक और डिजिटल स्वच्छता के महत्व पर बल दिया। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार स्वच्छता को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है।

केंद्रीय मंत्री ने सुझाव दिया कि कार्यालय को अधिकतम सीमा तक प्रौद्योगिकी और इंटरनेट के उपयोग का लाभ उठाना चाहिए और अभिलेखों तथा रिकॉर्डस के शीघ्र और सुरक्षित तरीके से डिजिटलीकरण में तेजी लाते हुए बिना कागज के उपयोग वाली कामकाज की प्रणाली को प्राप्त करने का लक्ष्य रखना चाहिए। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि बड़ी अप्रचलित मशीनों जैसे कॉपियर, पुराने फर्नीचर, एसी आदि को सार्वजनिक क्षेत्र में आधिकारिक और पारदर्शी रूप से रद्द और नीलाम किया जाए।


PM Modi, modi, digital india भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(PIB)



गिरिराज सिंह ने कहा कि डिजिटलीकरण के युग में, तेजी से डेटा पुनप्र्राप्ति के लिए डेटाबेस की डिजिटल स्वच्छता महत्वपूर्ण है। उन्होंने अनावश्यक डेटा के सामयिक रखरखाव और स्वच्छता पर भी बल दिया। संसद, कैबिनेट, आरटीआई, शिकायत आदि से संबंधित महत्वपूर्ण फाइलों को विभागों में कुशल सूचना साझा करने के लिए एक केंद्रीय भंडार में व्यवस्थित किया जाना चाहिए। उन्होंने विभाग के पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों के डिजिटलीकरण का भी सुझाव दिया।

मंत्रालय के संसदीय खंड के अपने दौरे के दौरान, गिरिराज सिंह ने 3-आर यानी रिकॉर्ड, उत्तर और भंडार के महत्व पर जोर दिया और अधिकारियों को डिजिटल होने तथा उससे पहले पूछे गए प्रश्नों का भंडार रखने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़ें : 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री करेंगे कुशीनगर एयरपोर्ट का लोकार्पण, मिलेगी नई सांस्कृतिक उड़ान

निरीक्षण के दौरान केंद्रीय मंत्री के साथ ग्रामीण विकास सचिव एन.एन. सिन्हा और मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।(आईएएनएस-PS)

Popular

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।

Keep Reading Show less

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep reading... Show less