Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

छोटे शहरों की लड़कियां ऊंची उड़ान भरने को तत्पर है|

कोरोना से पहले, उत्तर प्रदेश के छोटे जिलों से बड़ी संख्या में युवा लड़कियां नौकरी करने और खुद को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बड़े शहरों में आईं।

छोटे शहरों की लड़कियां (Girls) अब अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करवा रही हैं। कोरोना (Corona) से पहले, उत्तर प्रदेश (Uttar pardesh) के छोटे जिलों से बड़ी संख्या में युवा लड़कियां नौकरी करने और खुद को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बड़े शहरों में आईं। ये लड़कियां राज्य के ग्रामीण अंदरूनी इलाकों की हैं और मुकाम बनाने अपने घरों से बाहर आई हैं। इनमें से कुछ ने बिना माता-पिता की सहमति के ही ऊंची उड़ान भरने के लिए शहरों का रूख किया है।


रेणुका (Renuka) सिंह सुल्तानपुर (Sultanpur) जिले के कुडभर की हैं। वह अब एक कॉस्मेटिक स्टोर में काम कर रही है और प्रति माह 4,000 रुपये कमाती हैं।

अपनी यात्रा के बारे में बात करते हुए, वह कहती हैं, “चार महीने पहले, मैं अपनी चाची के साथ रहने के लिए आई थी, जो यहां रहती हैं। मैंने फैसला किया कि मुझे अपने दम पर कुछ करना चाहिए। मेरे माता-पिता अनिच्छुक थे और चाहते थे कि मैं शादी कर लूं। उन्हें बताए बिना, मैं नौकरी की तलाश में आ गई और देखा कि एक स्टोर को सेल्सगर्ल की जरूरत है। मैंने अप्लाई किया और चुन ली गई। मैंने अपनी चाची को इस बारे में अपने माता-पिता को न बताने के लिए मना लिया।”

रेणुका के पिता और दो भाई किसान (Farmer) हैं और वह परिवार में एकमात्र स्नातक हैं।

“मैंने एक पत्राचार पाठ्यक्रम के माध्यम से स्नातक की उपाब्धि प्राप्त की। मेरी दो छोटी बहनों ने प्राथमिक शिक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी और अब मां के साथ गोबर बनाती है। मैं हमेशा गांव से बाहर जाना चाहती थी।”

रेणुका के लिए, उसका वर्तमान काम उसका लक्ष्य नहीं है। “मैं अपने काम के बाद अंग्रेजी सीख रही हूं। मुझे उम्मीद है कि मैं कड़ी मेहनत करूंगी और बेहतर जॉब पा सकूंगी।”

उसके माता-पिता जानते हैं कि वह ‘कहीं काम कर रही है’ और उसकी चाची ने उसके माता-पिता को उसे लखनऊ में रहने देने के लिए मना लिया है।

शालिनी और रागिनी, दोनों बहनें भी रेणुका की तरह ही हैं।

हम अपनी कमाई को बढ़ाने के लिए घंटों काम करने के बाद कुछ और काम करना चाहते हैं। (सांकेतिक चित्र, Pexel)

वे बहराइच जिले के कोरी का पुरवा में एक दलित परिवार से ताल्लुक रखती हैं और पिछले साल नवंबर में लखनऊ जाने वाली बस में सवार होने के बाद पहली बार किसी बड़े शहर को देखा।

दोनों एक मल्टी-ब्रांड स्टोर में पार्ट टाइम काम कर रही हैं और पेइंग गेस्ट सुविधा में रहती हैं। जो वास्तव में एक गैरेज है जिसमें छह लड़कियां रहती हैं।

शालिनी कहती हैं, “हमारी मां को लगता है कि हम यूनिवर्सिटी (University) में अपना ग्रेजुएशन (Graduation) कर रहे हैं। उन्हें हमारी नौकरियों के बारे में कुछ भी नहीं पता है। हम पढ़ाई के इरादे से यहां आए थे, लेकिन तब हमें एहसास हुआ कि पढ़ाई में समय देने से ज्यादा जरूरी पैसा कमाना है।”

लड़कियों ने कैंसर से तीन साल पहले अपने पिता को खो दिया था और उनकी मां लड़कियों की पढ़ाई करवाने के लिए खेतों में काम कर रही हैं।

दोनों बहनों ने कहा, “मुझे यकीन है कि जब हम अपनी पहली पगार (3500 रुपये) के साथ अगले महीने अपनी मां से मिलने जाएंगे तो वह हमें माफ कर देगी। हम अपनी कमाई को बढ़ाने के लिए घंटों काम करने के बाद कुछ और काम करना चाहते हैं।”

मऊ जिले के बुनकरों के परिवार की एक छोटे शहर की लड़की शुभी भी अपना मुकाम हासिल करना चाहती हैं और वह ब्यूटी पार्लर में काम कर रही हैं।

उसने एक महीने तक बिना पैसे लिए एक स्थानीय पार्लर में काम किया, मूल बातें सीखी और फिर नौकरी करने लगी।

उसे प्रति माह 2500 रुपये मिलते हैं और उस महिला के साथ रहती हैं जो पार्लर की मालकिन हैं।

वे कहती हैं, “मैं उसके घर पर रहती हूं और वह मुझे खाना देती है।”

शुभी को चिंता है कि जब उसके पिता उसकी नौकरी के बारे में नहीं बल्कि उसकी पोशाक के बारे में जानेंगे तो क्या होगा।

“उन्हें नौकरी के बारे में जानकार अच्छा लगेगा, क्योंकि मैं केवल महिलाओं के साथ काम करती हूं। लेकिन जब वह मुझे जींस और टी-शर्ट में देखेंगे, जो कि पार्लर का यूनिफॉर्म है तो वह गुस्सा हो जाएंगे। मैं स्थिति से निपटने के लिए चिंतित हूं लेकिन मेरी ऑनर कहती हैं कि वह उनसे बात करेंगी।”

यह भी पढ़ें :- रूढ़िवादी सोच पीछे छोड़ मेहरूनिसा बनी महिला बाउंसर

शुभी इंटरमीडिएट (Intermediate) के बाद आगे की पढ़ाई करने के लिए अपने एक रिश्तेदार के साथ लखनऊ आ गई थी, लेकिन उसने नौकरी करने का विकल्प चुना।

शुभी अपनी नौकरी के साथ-साथ अपनी पढ़ाई जारी रखने की योजना बना रही है और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (Business Administration) में मास्टर करना चाहती है।

उनकी पार्लर की मालकिन राधिका सिंह कहती हैं, “शुभी जैसी लड़कियां आधुनिक भारत के बारे में सब कुछ जानती हैं। उन्होंने जीवन की सीमाओं का सामना किया है और एक नई दुनिया में जाना चाहती हैं। वे एक नए कल के लिए काम करने की इच्छुक हैं और यह उनकी सकारात्मकता है।”

–आईएएनएस

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less