Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस 21 मार्च को है और चहुंओर पौधे (Plants) लगाने तथा पर्यावरण को बचाने पर जोर दिया जा रहा है। ऐसे समय में, जब वनों की कटाई तेज हो रही है, प्रदूषण (Pollution) की वजह से हमारे शहर रहने लायक नहीं बचे हैं और जलवायु परिवर्तन (Climate change) प्राकृतिक आपदाओं का कारण बन रहा है, विशेषज्ञ दुनिया को हरियाली और स्वस्थ बनाने के लिए एक सरल तरीके की सिफारिश कर रहे हैं। यहां एक ऐसा प्लेटफॉर्म या मंच है, जिसका उपयोग देश में बंजर भूमि पर पौधे लगाने के लिए किया जा सकता है। यह मंच आपकी ओर से विशेष अवसरों पर एक पौधा भेंट करने का अवसर प्रदान करता है। इसके माध्यम से लोग जन्मदिन और अन्य खुशी के क्षणों में अपनी ओर से पौधरोपण (Plantation) में योगदान दे सकते हैं। यह पौधे भारत भर में लगाए जाएंगे और कंपनी द्वारा इनकी देखभाल की जाएगी।


यदि आपके पास पौधे लगाने का समय नहीं है या पौधे लगाने के लिए जमीन नहीं है, तब भी आप पौधरोपण (Plantation) में अपना योगदान दे सकते हैं। इसके लिए ग्रो ट्रीज डॉट कॉम पर जाकर अपना योगदान दिया जा सकता है। अपनी नई परियोजना में यह मंच झारखंड (Jharkhand) के पूर्वी सिंहभूम जिले में लैलाम और लुबासा पंचायतों के अलावा ओडिशा (odisa) के मयूरभंज जिले की जामुकेश्वर पंचायत सहित 19 गांवों में 500 एकड़ जमीन पर पौधरोपण करेगा।

यह न केवल हरित आवरण का विस्तार करेगा, बल्कि पशु आवास को भी बढ़ाएगा।

सिर्फ एक पेड़ सालाना लगभग 10 पाउंड प्रदूषित हवा को अवशोषित कर सकता है। (Unsplash)

देशभर में 2020 में 26 लाख पौधे लगाए गए थे, जो महामारी (Pandemic) के दौरान ग्रामीण रोजगार भी प्रदान करता है। एक पौधा लगाने के लिए मंच 85 रुपये का शुल्क लेता है। जब से यह अस्तित्व में आया है, मंच ने लगभग 75 लाख पौधे लगाए हैं।

ग्रो-ट्रीज डॉट कॉम (Go Tress.com) के सह-संस्थापक और निदेशक प्रदीप शाह ने कहा, कंपनी ने स्थानीय समुदायों, आदिवासियों, और लाभान्वित परियोजनाओं के साथ सामुदायिक भूमि पर लाखों स्थानीय पौधे लगाते हुए हजारों व्यक्तियों और सैकड़ों कंपनियों का विश्वास अर्जित किया है।

ग्रो-ट्रीज डॉट कॉम में इको-प्लानर और पर्यावरण विशेषज्ञ सुप्रिया पाटिल ने कहा कि यह समय अधिक से अधिक पेड़ लगाने का है। उन्होंने पौधे लगाने के तमाम फायदे गिनवाते हुए कहा कि पेड कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon dioxide) को अवशोषित करते हैं और यहां तक कि नाइट्रोजन प्रदूषक जैसे नाइट्रोजन ऑक्साइड (Nitogen oxide), अमोनिया (Amonia) और सल्फर डाइऑक्साइड (Sulphur Dioxide) को भी अवशोषित करते हैं। उन्होंने कहा कि यह आमतौर पर ज्ञात तथ्य है कि सिर्फ एक पेड़ सालाना लगभग 10 पाउंड प्रदूषित हवा को अवशोषित कर सकता है।

यह भी पढ़े :- काशी में महिला दिवस पर 1000 महिलाओं ने गाया शिव तांडव

विशेषज्ञों का कहना है कि बहुत सारी प्राकृतिक आपदाएं इसलिए होती हैं, क्योंकि प्रकृति से जो हम लेते हैं और जो हम उसे वापस देते हैं, उसके बीच असंतुलन है। इसी असंतुलन को खत्म करने के लिए यह मंच काम कर रहा है।

मंच ने कर्नाटक (Karnataka), उत्तर प्रदेश (Uttar pardesh), महाराष्ट्र (Maharastra), पंजाब (Punjab), आंध्र प्रदेश (Andra pardesh) और कई भारतीय राज्यों में स्थानीय और आदिवासी समुदायों को समर्थन देने के लिए कई परियोजनाएं शुरू की हैं। पाटिल ने कहा, जब पेड़ परिपक्व होते हैं, तो वे ग्रामीण समुदायों के लिए आय के तौर पर एक स्थायी स्रोत के रूप में काम करते हैं। (आईएएनएस-SM)

Popular

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep Reading Show less

इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) [IANS]

दुनिया की अग्रणी हॉस्पिटैलिटी और पाक कला शिक्षा दिग्गजों में से एक, सॉमेट एजुकेशन (Sommet Education) ने हाल ही में देश के प्रीमियम हॉस्पिटैलिटी संस्थान, इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) के साथ हाथ मिलाया है। इसके साथ सॉमेट एजुकेशन की अब आईएसएच (ISH) में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो पूर्व के विशाल वैश्विक नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण एडिशन है। रणनीतिक साझेदारी सॉमेट एजुकेशन को भारत में अपने दो प्रतिष्ठित संस्थानों को स्थापित करने की अनुमति देती है। इनमें इकोले डुकासे शामिल है, जो पाक और पेस्ट्री कला में एक विश्वव्यापी शिक्षा संदर्भ के साथ है। दूसरा लेस रोचेस है, जो दुनिया के अग्रणी हॉस्पिटैलिटी बिजनेस स्कूलों में से एक है।

इस अकादमिक गठबंधन के साथ, इकोले डुकासे का अब भारत में अपना पहला परिसर आईएसएच (ISH) में होगा, और लेस रोचेस देश में अपने स्नातक और स्नातकोत्तर आतिथ्य प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करेगा।

Keep reading... Show less