Saturday, May 15, 2021
Home ओपिनियन कुंभ मेले के बहाने तबलीगी जमातियों को क्लीन चिट देना निरर्थक

कुंभ मेले के बहाने तबलीगी जमातियों को क्लीन चिट देना निरर्थक

कोरोना की आड़ लेकर कुछ ऐसे लोग भी हैं जो हिंदू धर्मं के प्रति अपने कुभाव और सामाजिक समन्वय खराब करने का काम कर रहें हैं। कुम्भ मेला सबसे ताजा उदाहरण है।

हिंदू धर्मं के सबसे महत्वपूर्ण पर्वों में से एक है कुंभ मेला. 1 अप्रैल को शुरू होकर 30 अप्रैल को इसे समाप्त होना था पर कोरोना महामारी के चलते इसे खत्म किए जाने की घोषणा हो चुकी है. सालों-साल से लाखों की संख्या में भक्त यहां आते हैं, गंगा के पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं और इसके तट पर पूजा-अर्चना करते हैं. हालाकिं कोरोना के चलते इस बार माहौल थोड़ा खराब हो गया और शाही स्नान में शामिल होने वाले सैकड़ों लोगों में संक्रमण भी फैला.

लेकिन इसी बात की आड़ लेकर कुछ ऐसे लोग भी हैं जो हिंदू धर्मं के प्रति अपने कुभाव और सामाजिक समन्वय खराब करने का काम कर रहें हैं. बॉलीवुड में फ्लॉप रही एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने भी कुछ तस्वीरें पोस्ट की हैं और कहा है कि जो लोग तबलीगियों से नाराज़ थे, अब खुद से सवाल क्यों नहीं पूछते. अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर राम गोपाल वर्मा भी पीछे नहीं रहे. उन्होंने ट्वीट किया- ‘लाखों लोग कुम्भ मेले में अपने कर्म धोने के लिए डुबकी लगा रहे हैं और आशीर्वाद के रूप में कोविड पा रहे हैं. यही लोग आगे कोविड फैलाएंगे और आगे चलकर मर जाएंगे’.

kumbh mela 2021
क्या लिब्रलधारी तबका कुम्भ के जरिए तबलिगी जमात के काले करतूतों को छुपाना चाहता है?(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

तो वहीं दलित नेता उदित राज भी फेक न्यूज़ फैलाते हुए दिखे. उन्होंने एक तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा कि 1500 तबलिगी जमात भारत में कोरोना जेहाद कर रहे थे और अब लाखों साधू जुटे कुम्भ में उस जेहाद और कोरोना से निपटने के लिए. जबकि ये तस्वीर फेक साबित हुई. एक नज़र अगर जमातियों की हरकत पर डाली जाए तो ये साफ़ हो जाएगा की कुंभ में आए साधुओं से उनकी तुलना कितनी निरर्थक है. इन्ही जमातियों ने पहले तो कोरोना ब्लास्ट किया और जब उपचार की बारी आई तो सरकारी अस्पतालों में बेड तोड़ डाले. महिला कर्मचारियों को छेड़ने के भी आरोप सामने आए तो कई जमातियों के अस्पताल में गंदगी फैलाते हुए वीडियो भी दिखे.

यह भी पढ़े : क्या क़ुतुब मीनार एक मस्जिद या ध्रुव स्तम्भ?

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अगरवाल ने बताया कि तबलीगी जमात से संबंधित मरीज देश के 23 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में पाए गए हैं. उन्होंने कहा कि देश में करीब 30% कोरोना मरीज सिर्फ तबलीगी जमात से संबंधित हैं. यही नहीं, कोविड-19 मरीजों की संख्या के लिहाज से टॉप 10 राज्यों में पांच राज्य ऐसे हैं जहां जमाती मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा है.

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी