Saturday, May 15, 2021
Home टेक्नोलॉजी प्राकृतिक आपदाओं से अलर्ट करेगा ग्लेशियर सेंसर अलार्म

प्राकृतिक आपदाओं से अलर्ट करेगा ग्लेशियर सेंसर अलार्म

प्राकृतिक आपदा को लेकर सतर्कता और चेतावनी की जरूरत हाल ही में उत्तराखण्ड के चमोली में हुए हिमस्लखन की घटना के बाद और बढ़ गयी है।

By: विवेक त्रिपाठी

प्राकृतिक आपदा को लेकर सतर्कता और चेतावनी की जरूरत हाल ही में उत्तराखण्ड के चमोली में हुए हिमस्लखन की घटना के बाद और बढ़ गयी है। इस आपदा में कई सौ लोग लापता हो गये और काफी जान माल का नुकसान भी हुआ। आपदा से पहले जानकारी मिलने पर इसे रोकना संभव हो सकता है, ताकि बचाव और रोकथाम पर काम किया जा सके। इसी को देखते हुए वाराणसी की छात्राओं ने ग्लेशियर फ्लड अलर्ट सेंसर अलार्म का निर्माण किया है, जो प्राकृतिक आपदाओं से पहले ही लोगों को चेतावनी दे देगा।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित अशोका इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट की छात्राएं अन्नू, आंचल पटेल और संजीवनी यादव ने यह सेंसर आलर्म मिलकर तैयार किया है।

अन्नू सिंह ने आईएएनएस को बताया कि, “उत्तराखण्ड में ग्लेशियर स्लाइड हुआ था। जिसमें कई लोगों की जान गयी। उसी को देखते हुए एक ऐसा ग्लेशियर फ्लड अलर्ट सेंसर अलार्म डिवाइस बनाया है। जिससे आपदा का पूवार्नुमान हो जाए। इससे होने वाली दुर्घटना से लोगों को बचाया जा सके।”

उन्होंने बताया कि, “इस सेंसर आलर्म का ट्रांसमीटर बांध, डैम क्षेत्र या ग्लेशियर के इलाके में लगा होगा। इसका रिसीवर राहत आपदा कन्ट्रोल क्षेत्र में लगाया जा सकता है। जैसे ही कोई आपदा आने वाली होगी वैसे ही ट्रान्समीटर रिसिवर को संकेत भेज देगा, जिससे समय रहते आपदा से लोगों को अलर्ट करके बचाया जा सकता है। इसकी रेंज अभी 500 मीटर है। आने वाले समय में यह कई किलोमीटर तक काम करेगा। एक घंटे चार्ज होंने पर छ: माह तक यह बड़े आराम से काम करेगा। इसे बनाने में 7 से 8 हजार रुपए का खर्च आया है। इसमें हाई फ्रीक्वेंसी ट्रांसमीटर, रिसीवर, साढ़े चार फिट के दो टावर है, जिसमें ट्रांसमीटर लगाया गया है। अभी यह प्रोटोटाइप तैयार किया गया है। टावर को नुकसान पहुंचते ही इसमें लगे ट्रांसमीटर एक्टिव होंगे और आपदा का संकेत मिल जाएगा। बांध, ग्लेसियर, नदी के किनारे लगाने पर यह अच्छा कार्य करेगा।”

उत्तराखंड आपदा Glacier Flood Alert
चमोली में आई प्राकृतिक आपदा के बाद बरती जा रही है सावधानी।(फाइल फोटो)

संजीवनी ने बताया कि, “वायरलेस फ्लड अलर्ट अलार्म से प्रकृति आपदा जैसे बड़ी-बड़ी नदियों में उफान आने पर हिमस्खलन, ग्लेशियर, के फटने पर पहाड़ों के किनारे बसे शहर गांव और पहाड़ों के बीच बनी सड़कों में यह लगाया जा सकता है। कभी भी नदियों के बांध टूटने पर, ग्लेशियर के फटने पर ये सेंसर 1 सेकेंड के अंदर दुर्घटना क्षेत्रों से दूर के ऐरिया में बसे गांव व शहर के लोगों को अलर्ट कर देता है। जिससे समय रहते नदियों के आस पास बसे लोगों की आसानी से मदद की जा सकेगी। इसके आलर्म के माध्यम से लोगों को दुर्घटना से बचाया जा सकता है। इसे चार्ज करने के लिए बिजली की जरुरत नहीं होती, क्योंकि यह सोलर से चार्ज होता है। 1 घंटे चार्ज होने पर 6 माह धूप के बिना भी यह कार्य कर सकता है।”

यह भी पढ़ें: आईआईटी कानपुर ने बनाया हेलीकाप्टर, रेगिस्तान से लेकर बफीर्ली पहाड़ियों तक करेगा निगरानी

अशोका इंस्टीट्यूट रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेल के इंचार्ज श्याम चौरसिया ने बताया कि प्राकृतिक अपदाओं में पूवार्नुमान के अभाव में लोग तबाही के शिकार होते हैं। लेकिन इस सिस्टम के बन जाने से आपदाओं से लोगों को बचाया जा सकता है। इसके माध्यम से हिमस्खलन, बादल फटने, बाढ़ जैसी आपदाओं से लोगों को बचाया जा सकता है।

क्षेत्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी महादेव पांडेय ने बताया कि आपदा में पूवार्नुमान के आभाव में दुर्घटनाएं होती हैं। जिसमें बहुत सारी जानें जाती हैं। ग्लेशियर सेंसर अलार्म के माध्यम से इस प्रकार की दुर्घटनाएं रोकी जा सकती हैं। इसकी रेंज को बढ़ाकर अगर यह और पहले सूचना देने में सक्षम बनाया जाए तो यह और ज्यादा कारगर सिद्ध हो सकता है। यह तकनीक अच्छी है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी