Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

किसानों को होगा दोहरा लाभ , बिहार के लीची बगानों में अब होगा बकरी और मुर्गी पालन

देश और विदेशों में मीठी और रसीली लीची के लिए प्रसिद्ध बिहार के लीची के बगीचों में अगर आपको मुर्गी और बकरी दिखे तो चैंकिएगा नहीं , क्योंकि अब लीची किसान अपने बगीचे में मुर्गी और बकरी पालन भी करने लगे हैं।

लीची के बगीचे (pixabay)

 देश और विदेशों में मीठी और रसीली लीची के लिए प्रसिद्ध बिहार के लीची के बगीचों में अगर आपको मुर्गी और बकरी दिखे तो चैंकिएगा नहीं, क्योंकि अब लीची किसान अपने बगीचे में मुर्गी और बकरी पालन भी करने लगे हैं। इससे न केवल किसानों को आर्थिक लाभ होगा बल्कि लीची के पौधों को भी कीड़ों से बचाया जा सकेगा।

मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र द्वारा लीची के किसानों कि आमदनी को बढ़ाने के लिए लीची के बगीचे में मुर्गी और बकरी पालन की सलाह दे रहा है। केंद्र का मानना है कि इससे लीची के बागान में छोटे-छोटे पौधे और कीड़े मकोड़े से नुकसान को रोकने के लिए कीटनाशक का छिड़काव भी अब नहीं करना पड़ सकता है।


कहा जा रहा है कि लीची के बगीचे में तरह-तरह के छोटे-छोटे पौधे हमेशा निकलते रहते हैं, जो पलने वाले बकरी का चारा बन जाएगा। उसी तरह लीची बगानों में जो कीड़े मकोड़े उत्पन्न होते हैं वे सभी मुर्गों का भोजन हो जाएगा।

किसानों के हित में लगातार काम करने वाला राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के अंदर बागवानी में महंगे तथा साधारण किस्म के मुर्गे पालकर इसका प्रयोग भी किया जा रहा है।

केंद्र के निदेशक डॉ. एस डी पांडेय ने आइएएनएस से बातचीत में बताया, “अपने यहां लीची के किसान जो की एक फसल लीची का निकाल लेते हैं और दूसरे फसल की तैयारी में फिर उन्हें काफी समय लग जाता है। इसकों देखते हुए हम अपने किसानों की आमदनी को बढ़ाने का एक और तरीका निकाला है, जिसे मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, समस्तीपुर सहित अन्य जिले के किसान अपना भी रहे हैं। इससे उन्हें अच्छी आमदनी भी मिलनी शुरू हो गई है।”

उन्होंने बताया कि लीची के छोटे किसानों को लीची से अच्छी खासी आमदनी नहीं होती है, कभी-कभी मौसम के साथ ना देने के कारण उन्हें मायूसी भी हाथ लगती है।

ऐसे में लीची किसान अपने बजट के हिसाब से अपने लीची के बगीचे में बकरे पालन या मुर्गी पालन कर सकते हैं।

उन्होंने कहा, “मुर्गे और बकरी के बीट से लीची के पेडों को भी लाभ मिलता है। अगर किसान बड़े पैमाने पर मुर्गी और बकरी का पालन करना प्रारंभ कर दिया तो बडे पैमाने पर इसका व्यापार भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बगीचे में पालने वाले मुर्गों का चारा भी आसानी से इन बगीचों में प्राप्त हो जाएगा। पांडेय का दावा है कि कम खर्च में ऐसा कर किसान ज्यादा लाभ कमा सकेंगे।”

केंद्र के इस सलाह के बाद मुजफ्फरपुर की मशहूर लीची के किसानों के बगीचे में अब बकरी और मुर्गा पालन भी किसान आसानी से कर सकेंगे।

यह भी पढ़े : यूपी के व्यापारी इग्नू से पढ़ेंगे कौशल विकास का पाठ .

बिहार की शाही लीची देश और विदेशों में भी चर्चित है. इस साल लीची ब्रिटेन तक पहुंच चुकी है। शाही लीची को जीआई टैग मिल चुका है। बिहार के मुजफ्फरपुर, वैशाली, समस्तीपुर, पूर्वी चंपारण, बेगूसराय सहित कई जिलों में शाही लीची के बाग हैं, लेकिन लीची का सबसे अधिक उत्पादन मुजफ्फरपुर में होता है।

–(आईएनएस-PS)

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less