Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
व्यवसाय

घर से काम करने के नियमों में सरकार ने किए सुधार

अब कंपनियों को पुनः अपने कर्मचारियों के प्रशिक्षण और कौशल विकास पर फिर से ध्यान देने की जरूरत पड़ेगी, क्योंकि लाखों कर्मचारी फिलहाल अपने घर से ही काम कर रहे हैं।

कंपनियां अब वर्क फ्रॉम होम में उत्पन्न हुई नई समस्याओं का हल ढूंढने में लगी हैं। (Unsplash)

मार्च के महीने में लगे लॉकडाउन के बाद घर से काम करने का चलन काफी बढ़ गया है। इसके लिए सरकार ने आईटी/आईटीईएस/बीपीओ सेक्टर के कर्मचारियों के लिए लिए वर्क फ्रॉम होम (डब्ल्यूएफएच) और वर्क फ्रॉम एनीवेयर (डब्ल्यूएफए) की सुविधा देने के नियमों में सुधार किया है। इन सुधारों के बाद कंपनियों को इसे ‘नया सामान्य’ बनाने के लिए दीर्घकालिक रणनीति बनानी पड़ेगी। इसके लिए कंपनियों को अपने कर्मचारियों के प्रशिक्षण और कौशल विकास पर फिर से ध्यान देने की जरूरत पड़ेगी, क्योंकि लाखों कर्मचारी फिलहाल अपने घर से काम कर रहे हैं।

ये महामारी इस सदी की सबसे बड़ी रुकावट है और सरकार का यह कदम आईटी और बीपीओ उद्योग के लिए एक गेमचेंजर हो सकता है। ये भारत को वैश्विक आउटसोर्सिग हब के रूप में अग्रणी बना सकता है और छोटे शहरों में रोजगार के नए अवसर भी पैदा कर सकता है।


ये कंपनियों को कहीं से भी टैलेंट को कम लागत में आकर्षित करने का अवसर देता है। इससे नए मानव संसाधन, विपणन, बिक्री और कारोबार बढ़ाने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें – अजीम प्रेमजी, भारत के सबसे परोपकारी इंसान

साइएंट के अध्यक्ष और चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) कार्तिकेयन नटराजन, जो एक प्रमुख इंजीनियरिंग और डिजिटल समाधान कंपनी है, ने सरकार के कदम की सराहना करते हुए कहा कि, “इस दिशानिर्देश से न सिर्फ वर्कफोर्स को मैनेज करने में मदद मिलेगी, बल्कि टियर-2 और 3 शहरों में रोजगार का सृजन भी होगा। खासकर ऐसे समय में, जब महामारी अगले दो सालों के लिए कहीं नहीं जा रही।”

स्टार्टअप कंपनियां ऑनलाइन व्यवसाय का कुशलतापूर्वक संचालन करने के लिए वर्कफोर्स को प्रशिक्षण देने को लेकर आशावादी हैं।

मार्च से लगे लॉकडाउन में घर से काम करने के नियमों को काफी आसान किया गया है। (Unsplash)

एमवाईजेन की सह-संस्थापक शम्मी पंत, जो आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) आधारित कोचिंग देती हैं, दफ्तरों के क्रियाकलाप को सु²ढ़ करने और पूरी तरह से बदलने के जबरदस्त अवसर के तौर पर इसे देख रही हैं।

उनके अनुसार, कर्मचारियों के साथ प्रभावी संचार व्यवस्था इस मॉडल को सफल बनाने में अहम भूमिका निभाएगी। लर्निग एंड डेवलपमेंट (एलएंडडी) टीम की भूमिका सही लर्निग सॉल्यूशन्स देने में काफी महत्वपूर्ण होगी। ये टीमें उच्च तकनीक वाले डिजिटल और एआई सीखने वाले टूल पेश कर सही लर्निग सॉल्यूशंस देंगी।

दूसरी ओर, कंपनियां भी सक्रिय रूप से इन मुद्दों पर विचार कर रही हैं, जो अब वर्क फ्रॉम होम के 6 महीने से अधिक समय में उत्पन्न हुई नई समस्याओं का हल ढूंढने में लगी हैं।

यह भी पढ़ें – मंजूर अली कैसे बने कश्मीर के ‘मंजूर पेंसिल’

बारको इंडिया के प्रबंध निदेशक राजीव भल्ला के अनुसार, “जब हम कोविड-19 के आर्थिक प्रभाव का आकलन करते हैं, तो कर्मचारियों के लिए यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि वे आगामी चुनौतियों का सामना करने के लिए अपने आप को ज्यादा से ज्यादा प्रशिक्षित करें।”

सरकार द्वारा इस नीति की घोषणा डिजिटल दुनिया में बदलते परिदृश्य के मद्देनजर है। मार्च में लॉकडाउन शुरू होने के समय से ही घर से काम करने के नियमों को आसान किया गया है।

उदाहरण के लिए, अप्रैल में दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने घर से काम करने के समझौते के लिए सुरक्षा राशि जमा करने की आवश्यकता को खत्म कर दिया। 5 नवंबर को डीओटी ने बीपीओ और आईटीईएस कंपनियों के अन्य सेवा प्रदाताओं (ओएसपी) और कर्मचारियों के लिए भारत में स्थायी डब्ल्यूएफएच या डब्ल्यूएफए की अनुमति देने के लिए दिशा-निर्देशों को पूरी तरह से बदल दिया। (आईएएनएस)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता ( wikimedia Commons )

अमेरिकी डेटा इंटेलिजेंस फर्म ‘द मॉर्निंग कंसल्ट’ की एक सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अप्रूवल रेटिंग 71% दर्ज की गई है यह जानकारी 'द मॉर्निंग कंसल्ट' ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए साझा की है। 'द मॉर्निंग कंसल्ट' के सर्वे के मुताबिक अप्रूवल रेटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने अमरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत दुनिया भर के 13 राष्ट्र प्रमुखों को पीछे छोड़ दिया है।

मॉर्निंग कंसल्ट’ दुनिया भर के टॉप लीडर्स की अप्रूवल रेटिंग ट्रैक करता है। मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में नेताओं की रेटिंग पर नज़र रख रही है। रेटिंग पेज को सभी 13 देशों के नवीनतम डेटा के साथ साप्ताहिक रूप से अपडेट किया जाता है।

Keep Reading Show less

अल्लू अर्जुन की नई फिल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' हिंदी में जल्द होगी रिलीज ( wikimedia commons )


हाल ही में रिलीज़ हुई अल्लू अर्जुन की फ़िल्म 'पुष्पा: द राइज़' को दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया इस फ़िल्म के आने के बाद से तमिल फिल्म के अभिनेता अल्लू अर्जुन के प्रशंसकों की संख्या में काफ़ी इज़ाफ़ा हुआ है। लोग उनकी फिल्म को खूब पसंद कर रहे हैं । अब दर्शकों को अल्लू अर्जुन की नई फिल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' को हिंदी में रिलीज होने का इंतजार है। यह फ़िल्म भगवान विष्णु की पौराणिक कहानी से प्रेरित है।
पुष्पा की तरह फ़िल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' से भी दर्शक जुड़ाव महसूस करें इसके लिए मेकर्स ने इस फ़िल्म के टाइटल के मायने भी बताए।

फिल्म निर्माण कम्पनी ‘गोल्डमाइंस टेलीफिल्म्स’ ने अपने ट्विटर हैंडल पर फ़िल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु'का मतलब बताते हुए लिखा की “अला वैकुंठपुरमुलु पोथन (मशहूर कवि जिन्होंने श्रीमद्भागवत का संस्कृत से तेलुगु में अनुवाद किया) की मशहूर पौराणिक कहानी गजेंद्र मोक्षणम की सुप्रसिद्ध पंक्ति है। भगवान विष्णु हाथियों के राजा गजेंद्र को मकरम (मगरमच्छ) से बचाने के लिए नीचे आते हैं। उसी प्रकार फिल्म में रामचंद्र के घर का नाम वैकुंठपुरम है, जहाँ बंटू (अल्लू अर्जुन) परिवार को बचाने आता है। अला वैकुंठपुरमुलू की यही खूबी है।”

Keep Reading Show less

फ़िल्म अभिनेता मनोज बाजपेयी (Wikimedia Commons)

दिग्गज अभिनेता मनोज बाजपेयी(Manoj Bajpai) के लिए ये साल काफी व्यस्त रहने वाला है क्योंकि वह इस साल कई प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। उनका कहना है कि उनके पास जो प्रतिबद्धताएं हैं वह 2023 के अंत तक ऐसे ही रहने वाली हैं।

साल 2022 राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मनोज बाजपेयी(Manoj Bajpai) के लिए बहुत व्यस्त रहने वाला है क्योंकि वह इस साल राम रेड्डी की बिना शीर्षक वाली फिल्म, कानू भेल की 'डिस्पैच', अभिषेक चौबे की फिल्म और राहुल चितेला की फिल्म जैसे नए प्रोजेक्ट के लिए बैक-टू-बैक शूटिंग करेंगे।


मनोज बाजपेयी ने हाल ही में दो प्रोजेक्ट को खत्म किया है, एक रेड्डी की अभी तक बिना शीर्षक वाली फिल्म के साथ, जिसमें दीपिक डोबरियाल भी हैं। फिल्म की शूटिंग उत्तराखंड की खूबसूरत जगहों पर हुई फिर, उन्होंने कानू बहल द्वारा निर्देशित आरएसवीपी के 'डिस्पैच' को समाप्त किया, जो अपराध पत्रकारिता की दुनिया में स्थापित एक खोजी थ्रिलर है।

Keep reading... Show less