Tuesday, June 15, 2021
Home देश सरकार का कानून वापस लेने से इन्कार, 3 घंटे तक एक ही...

सरकार का कानून वापस लेने से इन्कार, 3 घंटे तक एक ही रट लगाए रहे किसान

By : नवनीत मिश्र विज्ञान भवन में शुक्रवार को हुई आठवें राउंड की बैठक में किसान नेताओं ने केंद्र सरकार के तीनों मंत्रियों से कानूनों के क्लॉज पर चर्चा करने से इनकार कर दिया। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में कई बार माहौल गरम होता नजर आया। बीच में जब कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह

By : नवनीत मिश्र 

विज्ञान भवन में शुक्रवार को हुई आठवें राउंड की बैठक में किसान नेताओं ने केंद्र सरकार के तीनों मंत्रियों से कानूनों के क्लॉज पर चर्चा करने से इनकार कर दिया। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में कई बार माहौल गरम होता नजर आया। बीच में जब कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने स्पष्ट कह दिया कि कानून तो सरकार वापस नहीं लेगी, चाहे तो किसान कोर्ट का विकल्प देख सकते हैं।

इस पर किसान नेताओं ने कहा कि वे कोर्ट नहीं जाएंगे, बल्कि सरकार से बातचीत के जरिए समाधान तलाशना चाहते हैं। पूरे तीन घंटे तक चली बैठक में किसान नेता, तीनों कानूनों को खत्म करने की रट लगाए रखे। जबकि सरकार की तरफ से बातचीत कर रहे तीनों मंत्रियों ने यह मांग ठुकरा दी। बीच में एक समय ऐसा भी आया, जब मांग पूरी होता न देख कुछ किसान नेताओं ने बैठक छोड़कर चले जाने की भी बात कह दी। हालांकि दोनों पक्षों के रुख में नरमी के बाद बातचीत जारी रही।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश की मौजूदगी में विज्ञान भवन में दो बजकर 20 मिनट पर बैठक शुरू हुई। तोमर ने शुरूआत में ही किसान नेताओं को तीनों कानूनों पर बिंदुवार चर्चा का सुझाव दिया। लेकिन किसान नेताओं ने कहा कि वे कई बार चर्चा कर चुके हैं। हर बार संशोधन का आश्वासन देने के आगे सरकार बात बढ़ाती ही नहीं। इसलिए क्लॉज वाइज चर्चा का कोई मतलब नहीं है। किसान नेताओं ने कहा कि अगर सरकार तीनों कानूनों को लागू करने से इन्कार करे तो फिर किसान तत्काल प्रभाव से आंदोलन खत्म करने को तैयार हैं। तोमर ने कहा कि कानून के जिन प्रावधानों पर आपत्तियां हैं उसे तर्क सहित बताया जाए तो हम उसे दुरुस्त करेंगे लेकिन, कानून वापस नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : शोध के क्षेत्र में यूपी के विश्वविद्यालयों ने रचा इतिहास

सूत्रों के मुताबिक, तोमर ने इस दौरान सुप्रीम कोर्ट में लंबित चल रहे मामले का जिक्र किया। कहा कि सुप्रीम कोर्ट भी इस मसले का हल चाहता है। ऐसे में कोर्ट के रुख का भी इंतजार करना चाहिए। किसान नेता हनन मुल्ला ने आईएएनएस से मीटिंग के अंदर के घटनाक्रम को बताते हुए कहा, कृषि मंत्री ने बैठक में कहा कि आप लोग कोर्ट भी जा सकते हैं। इस पर हमने कहा कि हम क्यों कोर्ट जाएं? जब तक कानून खत्म नहीं होगा, तब दिल्ली से घरवापस नहीं जाएंगे। इस पर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि देश में तमाम किसान संगठनों ने इस कानून का स्वागत किया है। अगर कानूनों का विरोध हो रहा है तो देश के कई हिस्सों के किसान स्वागत भी कर रहे हैं। इसलिए सरकार सिर्फ विरोध करने वालों नहीं बल्कि समर्थन करने वालों की भावनाओं का भी ख्याल रख रही है। कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि अगली बार जब 15 जनवरी को बैठक होगी तो उससे पहले भी सरकार किसान आंदोलन का समाधान निकालने के लिए अन्य विकल्पों पर भी विचार करेगी।”

किसान नेता ऋषिपाल ने आईएएनएस से कहा, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सोमवार को 11 जनवरी को किसान आंदोलन के मसले पर कोर्ट में सुनवाई लगी है, जो फैसला आएगा दोनों पक्ष मान लेंगे। इस पर एक स्वर में किसान नेताओं ने कहा- हम कोर्ट का फैसला नहीं मानेंगे। क्यों मीटिंग में शामिल 40 संगठनों में से कोई भी कोर्ट नहीं गया है। ऐसे में हमें कोर्ट की सुनवाई से कोई लेना-देना नहीं है। हम तभी वापस जाएंगे, जब कानून वापस होंगे। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी