Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

होली (Holi) पर चीन को टक्कर देने के लिए स्कूल सहायिका के बच्चों ने एक गुलाल बम (Gulal bom) बनाया है। इसकी मदद से बिना किसी के करीब आये उसे रंगों से सराबोर किया जा सकेगा। होली पर चीन (China) के व्यापार को यह गुलाल बम कड़ी प्रतियोगिता देने में काफी हद तक सफल हो सकता है। यह दोनों बच्चे प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र के स्कूल में सहायक के बच्चे हैं। अपेक्षा ने अपने साथी लकी के साथ मिलकर एक ऐसा बम गिफ्ट बनाया है जिसे थामते ही आप रंगों में सराबोर हो जाएंगे। अनायास ही खिलखिला उठेंगे।


चाइना निर्मित रंग बम के स्थान पर यह भारतीय डोरेमन गुलाल बम (Doremon Gulal bom) की खुमारी छाने लगी। भारतीय गुलाल बम को बनाने वाली अपेक्षा (Apeksha) ने बताया कि, “होली में इस बार चयनीज बम फेल हो गये हैं। उनके स्थान पर हमारा डोरेमोन बम सभी को अच्छा लगेगा। कोरोना को देखते हुए इसे हम लोगों ने तैयार किया है। इसे बनाने में हमारे खिलौने ही प्रयोग हुए हैं। उन्होंने बताया कि इसके दो पार्ट हैं। एक गिफ्ट बॉक्स (Gift Box) दूसरा रिमोट (Remote) है। गिफ्ट बॉक्स में एक सर्किट लगा है। जो रिमोट के कमांड से चलता है। जैसे ही रिमोट दबता है वैसे ही गिफ्ट बॉक्स में रखा गुब्बारा फूट जाएगा। उसका कलर व्यक्ति को सराबोर कर देगा और गुलाल की खुशबू फिजाओं में बिखर जाएगी।”

भारतीय गुलाल बम के आगे चाइना का बम फेल हो गया है। बाजार से गायब हुए दूसरे देश के बम के स्थान पर अपने देश में बना गुलाल बम खास तरीके से तैयार किया गया है।

अपेक्षा और लकी ने मिलकर एक बम गिफ्ट बनाया है जिसे थामते ही आप रंगों में सराबोर हो जाएंगे। (IANS)

उन्होंने बताया कि इसे कोरोना (Corona) को देखते हुए बनाया है। यह मेक इन इंडिया से प्रेरित है। बच्चों का यह गैजेट डोरेमोन कोरोना संक्रमण में एक दूसरे को छुए बगैर अपने दोस्तों व रिश्तेदारों पर रंग डालने के लिये बहुत कारगर होगा। अभी तक मार्केट में डोरेमोन पिचकारी थी। लेकिन अब होली कलर बम (colour Bom) भी देखने को मिलेंगे।

लकी (Lucky) ने बताया कि बिना अपने हाथों में रंग लगाये हम अपने दोस्तों पर इस गैजेट से वाटर रंग के साथ सूखे गुलाल अबीर भी डाल सकते हैं। बॉक्स के अंदर 300 ग्राम तक के वाटर रंग को बैलून में भर कर रखा जा सकता है। 200 ग्राम तक सूखे गुलाल अबीर रखे जा सकते हैं। देखने में बच्चों का ये गैजेट एक गिफ्ट पैकेट की तरह है। इस पैकेट बॉक्स के अपने दोस्तों को भेट कर सकते हैं। इस बॉक्स का एक रिमोट होता है दोस्तों के हाथों में गिफ्ट बॉक्स देने के बाद अपने रिमोट के बटन को दबा दें बटन दबाते ही गिफ्ट बॉक्स में रखा वाटर कलर या गुलाल अबीर आपके दोस्तों के ऊपर निकल कर गिर जायेगा।

इस बॉक्स में एक मोटर (Moter) लगा है जिसमें एक पिन लगा होता है। बॉक्स में रखे वाटर बैलून के नजदीक एक नुकीली पिन होती हैं जो एक खिलौने के रिमोट से एक्टिवेट होता है। अपने दोस्त के हाथों में गिफ्ट बॉक्स देने के बाद हम रिमोट के बटन को दबा देते हैं, जिससे 1 सेकेण्ड में गिफ्ट बॉक्स के अंदर रखे रंग से भरे गुब्बारे में पिन टच हो जाता और बैलून फट जाता हैं, फिर बस आपके दोस्त रंगो में सराबोर हो जाते हैं। खिलौनों के पार्ट्स से तैयार हुए इस डोरोमोन कलर बम को स्कूल में लोग काफी पसंद भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- महिलाओं द्वारा बनाए गये हर्बल रंग गुलाल से भारत के अलावा लंदन में भी होली खेली जाएगी।

सक्षम इंग्लिश स्कूल ट्रस्ट की संस्थापक सुबिना चोपड़ा (Subina chopra) कोरोना काल में बच्चों का अनमोल तोहफा बनाने वाले लकी और अपेक्षा के नवाचार को सराहा है। उन्होंने बताया कि इन बच्चों की मां बहुत लगन से हमारे यहां साफ-सफाई का काम करती है। बच्चे पढ़ने में अच्छे हैं। इनके ऐसे प्रयोग से बच्चों का भविष्य उज्जवल होगा। (आईएएनएस-SM)
 

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less