Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

Guru Nanak Jayanti 2020 : जब गुरुनानक देव ने हरिद्वार में सूर्य को जल अर्पित करने से किया इनकार

इस वर्ष गुरु नानक जयंती 30 नवंबर को है। गुरु नानक देव की जयंती के अवसर पर उनके द्वारा दिए गए एक सन्देश को कहानी के रूप से समझने का प्रयास करते हैं।

गुरु नानक देव ब्राह्मणों को उपदेश दे रहे हैं। (Wikimedia Commons)

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक हर साल कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर सिख धर्म के पहले गुरु, गुरु नानक देव जी की जयंती मनाई जाती है। इस साल उनकी जयंती 30 नवंबर को है। उनकी जयंती के अवसर पर मैं आप लोगों को उनसे जुड़ी एक कहानी के बारे में बताना चाहूंगा। यह उस समय की बात है जब…

गुरु नानक देव जी अलग अलग जगहों की यात्रा कर लोगों को मानवता की सीख दे रहे थे। ऐसे ही एक दिन, उन्होंने अपना रास्ता हरिद्वार की ओर किया। हरिद्वार; जहाँ गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम होता है, जहाँ के लोगों पर निराकारी शिव, परम सत्य विष्णु और परम पिता ब्रह्मा की असीम कृपा है।


सुबह का समय था। सूर्य उदय हो रहा था। हर दिशा, मंत्रों और प्राथनाओं के सामंजस्य से पावन हो रही थी। ब्राह्मणों का एक गुट, गंगा मईया में उतर कर उगते सूरज को अर्घ्य दे रहा था। गुरु नानक जी भी नदी में जाकर अर्घ्य देने लगे। मगर बाकियों के अर्घ्य देने के तरीके और इनके तरीके में एक असमानता थी।

हर ब्राह्मण, सूर्य की दिशा में जल अर्पित कर रहा था। पर गुरु नानक उसकी उल्टी दिशा में पानी को हथेली में लेकर, आगे की ओर बहा दे रहे थे। जब वहां खड़े पुजारियों ने यह देखा तो उनसे रहा ना गया। पुजारियों की भीड़ ने गुरु नानक को घेर लिया। उनमें से एक ब्राह्मण क्रोधित होते हुए बोला – “अगर तुम हिन्दू नहीं हो, तो यहाँ हिन्दुओं की जगह पर क्या कर रहे हो?” – “हाँ” – दूसरे ने सिर हिलाया और कहा – “अरे मुर्ख! किसने तुम्हें यह सब सिखाया है?”, तीसरे ने उसके तुरंत बाद बोला – “भगवान के नाते रुक जा पापी, यह उल्टी दिशा में बहना बंद कर।”

यह भी पढ़ें – हनुमान भक्त हैं या भगवान और क्या उन्हें मंकी गॉड कहना उचित है ?

गुरु नानक जी ने मात्र पांच साल की उम्र में अपना पहला संदेश दिया था। (Wikimedia Commons)

गुरु नानक ने उस ब्राह्मण की तरफ देखा और पूछा – “आप सूर्य को जल अर्पित क्यों करते हैं?”, पुजारी ने गर्व से कहा – “हम अपने पूर्वजों का सम्मान करने के लिए सूर्य को जल चढ़ाते हैं, इससे उन्हें सुख, आशीर्वाद और समृद्धि मिलती है।” – “आपके पूर्वज यहाँ से कितनी दूर हैं?” – गुरु नानक ने पूछा। तीसरे ब्राह्मण को लगा कि यह इंसान उनके ज्ञान की परीक्षा लेना चाह रहा है। इसलिए उसने कहा – “हमारे पूर्वज करोड़ों मील दूर रहते हैं।”

यह सुन कर गुरु नानक जी ने और तेजी के साथ उस उलटी दिशा में पानी फेंकना शुरू कर दिया। पंडितों का क्रोध बढ़ने लगा। उन्हें यह अपना अपमान लग रहा था। भीड़ एक साथ गुरु नानक जी पर चिल्लाने लगी – “रुक जा मुर्ख, अब बस कर” – “रुक जा…”, थोड़ी देर बाद गुरु नानक ने कहा – “देखिये पंजाब में मेरे पास एक खेत है, इसी दिशा में है जिस दिशा में मैं पानी दे रहा हूँ। मेरे खेतों को सच में पानी की बहुत ज़रूरत है, खासकर साल के इस समय। अगर देर हुई, तो मेरी फसल खराब हो जाएगी।”

ब्राह्मणों को लगा कि उनका सामना किसी सनकी आदमी से हो गया है। भीड़ में से एक पंडित तो यह बात सुनते ही वहां से प्रस्थान कर गया। बाकी जो बचे वो सभी गुरु नानक जी को घूरने लगे। एक ने कहा – “समझाने का प्रयास करें, यह पानी आपके खेतों तक कैसे जा रहा है?” – “जैसे यह पानी आपके पूर्वजों तक जा रहा है…,आपके पूर्वज तो मीलों दूर हैं, मेरा खेत यहाँ से इतनी दूर नहीं!”

अंग्रेज़ी में खबर पढ़ने के लिए – Guru Nanak Jayanti: Some of the Interesting Facts that You Must Know about Guru Nanak

18 वीं शताब्दी की काल्पनिक पेंटिंग जहाँ गुरु गोबिंद सिंह (पक्षी के साथ), गुरु नानक देव से मिलने आते हैं। (Wikimedia Commons)

ब्राह्मणों को यह बात समझ नहीं आई। हर कोई एक दुसरे को देखने लगा। तभी गुरु नानक ने एक पंडित की ओर इशारा करते हुए कहा – “पंडित जी आप अभी यहां आने वाले भक्तों द्वारा होने वाली अपनी कमाई के बारे में सोच रहे हैं, है ना?” – “और आप महाराज, घर जाकर अपनी बकरियों को चराने ले जाना होगा, इस विषय में सोच रहे हैं।” दोनों की आँखें बड़ी हो गई। यह सच था। यह दोनों इसी विषय में सोच रहे थे। उन्हें लगा कि, गुरु नानक जी कोई महान आत्मा हैं जो लोगों का मन पढ़ सकते हैं। दोनों ने हाथ जोड़ लिए – “आप कौन हैं? और आपको कैसे ज्ञात हुआ कि हम क्या सोच रहे थे?”

गुरु नानक जी ने उनके हाथों को पकड़ा और कहा – “आवश्यक यह जानना नहीं कि मुझे कैसे ज्ञात हुआ, ज़रूरी यह है कि आप कितने सच्चे मन से ईश्वर की सेवा में खुद को प्रस्तुत करते हैं। मन में पैसा, लोभ,अन्य चिंताओं के होते हुए ईश्वर में ध्यान कैसे लग सकता है?”

ब्राह्मण स्तब्ध खड़े थे। किसी के पास कहने को कुछ ना था। गुरु नानक देव ने जाते हुए कहा – “लोगों की सेवा में उपस्थित रहें, ईश्वर आपका भला करेगा”, गुरु नानक देव को जाता देख ब्राह्मणों की आँखों में आसूं आ गए।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

बसपा अध्यक्ष मायावती (Wikimedia Commons)

बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया है। मायावती का कहना है कि कांग्रेस को अभी तक दलितों पर पूरा भरोसा नहीं है। मायावती ने सोमवार को कहा कि पंजाब के अगले मुख्यमंत्री के रूप में चरणजीत सिंह चन्नी की नियुक्ति एक चुनावी चाल है। मायावती ने कहा कि कांग्रेस ने समुदाय के वोट बटोरने की उम्मीद से एक दलित को पंजाब का सीएम बनाया। जब भी कांग्रेस मुसीबत में होती है तभी उसे दलितों की याद आती है।

मायावती ने चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनने की बधाई भी दी थी। पंजाब के दलितों को मायावती ने कांग्रेस से सावधान रहने को भी कहा है। मायावती ने कांग्रेस के साथ बीजेपी को भी लपेटे में ले लिया। उन्होंने कहा कि बीजेपी भी ऐसी ही है। वह भी ओबीसी समाज के लिए कुछ करना चाहती है तो करती क्यों नहीं है।

Keep reading... Show less