Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

Happy Lohri and Makar Sankranti: जानें इन त्योहारों से जुड़ी धार्मिक और अन्य रोचक कहानियां

पूस-माघ की कांपती रात में, सर्दियों के जाने की खुशी और लहलहाते फसलों की कटाई शुरू होने से पहले उत्तर भारत के ज़्यादा तर हिस्सों में 13 जनवरी को लोहड़ी (Lohri) मनाई जाती है। यह पर्व पंजाब के दिल में विशेष स्थान रखता है। लोग लकड़ियों में आगा लगा कर, लोक गीत गाते हुए अग्नि

पूस-माघ की कांपती रात में, सर्दियों के जाने की खुशी और लहलहाते फसलों की कटाई शुरू होने से पहले उत्तर भारत के ज़्यादा तर हिस्सों में 13 जनवरी को लोहड़ी (Lohri) मनाई जाती है। यह पर्व पंजाब के दिल में विशेष स्थान रखता है। लोग लकड़ियों में आगा लगा कर, लोक गीत गाते हुए अग्नि के चारों ओर भांगड़ा या गिद्दा नृत्य करते हैं।

उसके अगले ही दिन मकर संक्रांति के आगमन से आसमान के सीने पर पतंगें टिमटिमाने लगती हैं। इस वर्ष 14 जनवरी को देश भर में मकर संक्रांति (Makar Sankranti) मनाई जा रही है। इन त्योहारों से जुड़ी कई धार्मिक और अन्य रोचक कहानियां हैं। आइए कुछ ऐसी ही कहानियों पर एक नज़र डालते हैं।


लोहड़ी (Lohri)

पंजाब के नायक ‘दुल्ला भट्टी’

लोहड़ी (Wikimedia Commons)

अगर आप लोहड़ी के गीतों को ध्यान से सुनेंगे तो आपको उनमें ‘ दुल्ला भट्टी ‘ का ज़िक्र ज़रूर मिलेगा। ऐसा ही एक गीत है ‘ सुन्दर मुंदलिए ‘, पर क्या आपने कभी सोचा है कि यह दुल्ला भट्टी हैं कौन जिनका ज़िक्र मात्र इन लोक गीतों में मिलता है।

दुल्ला भट्टी, मुग़ल काल के डाकू और गरीबों के मसीहा थे। बताया जाता है कि मुग़ल शासक अकबर के दौर में जब अमीर सौदागरों ने पंजाब की लड़कियों को खरीदना शुरू किया तो दुल्ला भट्टी ने ही साहस दिखाया और उन लड़कियों को छुड़वाने का दायित्व अपने कन्धों पर ले लिया। दुल्ला भट्टी उन सौदागरों से लड़कियों को छुड़वाते और फिर उनकी शादी भी करवाते थे। और कुछ इस तरह ही दुल्ला भट्टी पंजाब के नायक बन गए। उनकी नेकदिली को याद करते हुए पंजाब के लोग लोहड़ी के दिन उनके नाम के गीत भी गाते हैं और उनसे जुड़ी कहानियां भी सुनाया करते हैं।

यह भी पढ़ें – अहं ब्रह्मास्मि : रामायण और मानव शरीर क्रिया विज्ञान

‘माता सती’ का देह त्याग

प्रजापति दक्ष यज्ञ। (Wikimedia Commons)

लोहड़ी से जुड़ी एक ऐसी भी पौराणिक कथा है जो शिव-सती से हो कर गुज़रती है। कहानी कुछ यूँ है कि एक दफा प्रजापति दक्ष ने अपने राज महल में महायज्ञ का आयोजन किया जिसमें उन्होंने अपने दामाद भगवान शिव और अपनी पुत्री माता सती को न्योता नहीं भेजा। भगवान शिव के लाख मना करने पर भी माता सती यज्ञ स्थान पर पहुंच गईं। वहां अपने पिता द्वारा अपने पति का अपमान सुनने के पश्चात माता सती ने जलती यज्ञ अग्नि में अपना देह त्याग दिया। प्रजापति दक्ष की पुत्री सती के इस त्याग की याद में ही लोहड़ी पर लकड़ियों को इकट्ठा कर उनमें आग लगाई जाती है।

यह भी है मान्यता

लोहड़ी के दिन आग जलाकर उसमें रेवड़ी, गजग, मूंगफली, तिल आदि खाने की चीज़ें अर्पित की जाती हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि सूर्य और अग्नि देव के प्रति लोग अपनी कृतज्ञता व्यक्त कर सकें। मान्यता है कि ऐसा करने से कृषि में उन्नति होती है।

बाकी कड़ाके की ठण्ड में लकड़ियों में दहकती गरम लपटों के आलिंगन में अपने प्रियजनों के साथ दो टुक हंसी बांट लेने से आपसी व्यवहार में रेवड़ी और गजग की मिठास घुलते देर नहीं लगती।

मकर संक्रांति (Makar Sankranti)

स्वर्ग की पतंग

मकर संक्रांति (Pixabay)

छत के सबसे ऊँचे भाग पर चढ़ कर पतंग की डोर को हाथों में लपेट कर, आसमान के नीलेपन को अपनी पुतलियों में समेटने के बाद सूर्य देव से सीधे आँख बात करते हुए बच्चा, बूढ़ा या जवान हर कोई उत्साह और उल्लास से भर जाता है। पर क्या आप जानते हैं कि पतंग उड़ाने की प्रथा की शुरुआत किसने की थी। वो कोई और नहीं बल्कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम थे। कहते हैं कि जब मकर संक्रांति के दिन पहली बार भगवान श्री राम ने पतंग उड़ाई तो वो पतंग सीधा स्वर्ग लोक में इंद्र देव के पास जा पहुंची।

यह भी पढ़ें – माँ मुंडेश्वरी मंदिर में होते हैं कुछ अनोखे चमत्कार जिसे जानकर आप रह जाएंगे दंग

शनि देव का ‘मकर’

शनि देव (Wikimedia Commons)

कथाओं के अनुसार सूर्य देव ने अपने बेटे शनि देव और अपनी पहली पत्नी छाया को खुद से दूर कर लिया था। पिता-बेटे के रिश्तों की कसावट बढ़ती गयी। दोनों के बीच की दूरियां बढ़ती गईं। क्रोध में आकर शनि देव और उनकी माता ने सूर्य देव को श्राप दे डाला। श्राप के कारण सूर्य देव पीड़ा से गलते जा रहे थे। यमराज से अपने पिता का यह दुख देखा ना गया और उन्होंने अपनी घोर तपस्या के बल पर सूर्यदेव को श्राप से मुक्त करा दिया। यमराज , सूर्य देव की दूसरी पत्नी संज्ञा के पुत्र हैं। स्वस्थ होने के उपरान्त सूर्य देव ने बदले की भावना में शनि देव के घर ‘कुम्भ’ को जला डाला।

इसके बाद यमराज ने फिर से हस्तक्षेप किया और अपने पिता को समझाने की कोशिश की। यमराज की बात समझ कर सूर्य देव, शनि देव के भस्म हो चुके घर में गए। वहां एक ‘तिल’ के अलावा बाकी सब राख हो चुका था। शनि देव ने उसी ‘तिल’ से सूर्य देव से क्षमा याचना की। जिसके पश्चात शनि देव को अपने नए घर ‘मकर’ की प्राप्ति हुई।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Lohri : Things You Must Know About The Harvest Festival

यह भी है मान्यता …

माना जाता है कि मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर किया गया दान अत्यंत लाभकारी होता है। शास्‍त्रों के अनुसार यह दिन अति-शुभ दिन माना गया है।

अब इन कहानियों के परे देखें तो यह दोनों त्यौहार उत्साह और उल्लास के पर्व हैं। एक दूसरे से स्नेह भरे स्वर में गले मिलने के पर्व हैं। (हाँ मगर, गले मिलने के लिए थोड़ी सावधानी ज़रूर बरतें, धन्यवाद!)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep Reading Show less

ओला इलेक्ट्रिक के स्कूटर।(IANS)

ओला इलेक्ट्रिक ने घोषणा की है कि कंपनी ने 600 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के ओला एस1 स्कूटर बेचे हैं। ओला इलेक्ट्रिक का दावा है कि उसने पहले 24 घंटों में हर सेकेंड में 4 स्कूटर बेचने में कामयाबी हासिल की है। बेचे गए स्कूटरों का मूल्य पूरे 2डब्ल्यू उद्योग द्वारा एक दिन में बेचे जाने वाले मूल्य से अधिक होने का दावा किया जाता है।

कंपनी ने जुलाई में घोषणा की थी कि उसके इलेक्ट्रिक स्कूटर को पहले 24 घंटों के भीतर 100,000 बुकिंग प्राप्त हुए हैं, जो कि एक बहुत बड़ी सफलता है। 24 घंटे में इतनी ज्यादा बुकिंग मिलना चमत्कार से कम नहीं है। इसकी डिलीवरी अक्टूबर 2021 से शुरू होगी और खरीदारों को खरीद के 72 घंटों के भीतर अनुमानित डिलीवरी की तारीखों के बारे में सूचित किया जाएगा।

Keep Reading Show less

अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश (IANS)

केबीसी यानि कोन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलिविज़न का एक लोकप्रिय धारावाहिक है । यहा पर अक्सर ही कई सेलिब्रिटीज आते रहते है । इसी बीच केबीसी के मंच पर भारत की हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश पहुंचे । केबीसी 13' पर मेजबान अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश 41 साल बाद हॉकी में ओलंपिक पदक जीतने को लेकर बात की। श्रीजेश ने साझा किया कि "हम इस पदक के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। साथ उन्होंने ये भी कहा की वो व्यक्तिगत रूप से, मैं 21 साल से हॉकी खेल रहे है। आगे श्रीजेश बोले मैंने साल 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से, मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया, हॉकी में 8 गोल्ड मेडल मिले। इसलिए, हमने खेल के पीछे के इतिहास के कारण खेलना शुरू किया था। उसके बाद हॉकी एस्ट्रो टर्फ पर खेली गई, खेल बदल दिया गया और फिर हमारा पतन शुरू हो गया।"

जब अभिनेता अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में अधिक पूछा, तो उन्होंने खुल के बताया।"इस पर अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश कहते हैं कि "हां, बहुत कुछ, क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है जिसमें हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना खेल शैली से बिल्कुल अलग है। "

इस घास के बारे में आगे कहते हुए श्रीजेश ने यह भी कहा कि "पहले सभी खिलाड़ी केवल घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे और यहां तक कि घास के मैदान पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेलते थे। आजकल यह हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है। जिसके कारण बहुत समय लगता है। यहा पर एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है, साथ ही इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।" सब कुछ बदल जाता है ।

Keep reading... Show less