Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

एक नई सुविधा की शुरुआत ‘उपासना’, आखिर क्या है ये ?

थ्रिसुर स्थित अल्फा पैलिएटिव केयर ने अपनी सेवाओं के लिए एक नई सुविधा शुरू की है और इसने इसे 'उपासना' नाम दिया है| अल्फा ने 2005 को अपनी सेवा शुरू की थी|

थ्रिसुर स्थित अल्फा पैलिएटिव केयर ने अपनी सेवाओं के लिए एक नई सुविधा शुरू की है| (IANS)

जरूरतमंदों के लिए सुखदायक और प्रेमपूर्ण देखभाल प्रदान करने के साथ अपने 16वें वर्ष में प्रवेश करते हुए, थ्रिसुर स्थित अल्फा पैलिएटिव केयर (Alpha Palliative Care) ने अपनी सेवाओं के लिए एक नई सुविधा शुरू की है और इसने इसे ‘उपासना’ (Upaasna) नाम दिया है, जो उन सभी को याद रखेगी जिनका उनकी देखरेख के दौरान निधन हुआ है। अल्फा 3 मई को अपनी सालगिरह मनाता है और अब तक इसने स्वयंसेवकों द्वारा पूरी तरह से बीमार या पुराने रोगों से ग्रस्त 35,119 लोगों को अपनी सेवाएं दी हैं, जिनमें से अब केवल 8,006 लोग जीवित हैं। अल्फा ने 3 मई 2005 को अपनी सेवा शुरू की थी।

तब से यह अस्पताल में भर्ती लोगों की देखभाल, होम केयर (Home Care) और फिजियोथेरेपी (Physiotherapy) सेवा प्रदान कर रहा है और इसने राज्य के विभिन्न जिलों में अपनी पहुंच स्थापित कर ली है। खास बात यह है कि इसकी सेवाएं बिल्कुल मुफ्त हैं।


‘उपासना’ सोमवार को यहां लॉन्च की गई थी और 19 अप्रैल को उन 55 लोगों को याद किया गया, जिन्होंने अपनी जान गंवा दी थी। इसके अध्यक्ष के. एम. नॉर्दीन ने संयुक्त अरब अमरीता (UAE) (यूएई) से इस कार्यक्रम का ऑनलाइन उद्घाटन किया।

अगले दिन 56 मृतकों को याद किया गया, जबकि इसके बाद बुधवार को 44 लोगों को याद करना निर्धारित है।उद्घाटन समारोह में अल्फा के होम केयर के लोगों ने दीप प्रज्वलित किया।मृतक के परिवार के सदस्यों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया और मृतक के परिजनों ने अल्फा से जुड़ीं तमाम यादें भी साझा कीं।

‘उपासना’ दिवंगत लोगों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के साथ-साथ उनकी यादों को भी जीवित रखना चाहती हैं। (ट्विटर)

अल्फा स्टूडेंट्स एसोसिएशन ऑफ पैलिएटिव केयर के स्वयंसेवक 10 छात्रों ने मृतक के चित्र पर पुष्प अर्पित किए और फिर प्रार्थना में भाग लिया।यूएई के प्रमुख व्यवसायी नॉर्दीन ने कहा कि छात्र आने वाले दिनों में विभिन्न बैच में मृतकों को श्रद्धांजलि देंगे।अल्फा स्वयंसेवकों के ध्यान और देखभाल के तहत अब तक 27,113 व्यक्तियों ने मौत को गले लगाया है।उनमें से ज्यादातर ऐसे मरीज थे जो या तो बुजुर्ग थे या फिर उन्हें डॉक्टरों ने काफी बीमार घोषित कर दिया था।

नॉर्दीन ने कहा, उपासना दिवंगत लोगों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के साथ-साथ उनकी यादों को भी जीवित रखना चाहती हैं। कार्यक्रम में बच्चों को शामिल करने से अल्फा का उद्देश्य युवा लोगों में बुजुर्गों के प्रति सम्मान और सहानुभूति पैदा करना है।

यह भी पढ़ें :- जीवन सेवा एप : दिल्ली में कोविड रोगियों के लिए एक ‘मुक्तिदाता’

इस पहल के साथ राज्य में उन स्थानों पर देखभाल को लेकर जागरूकता फैलाने को लेकर अधिक ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, जहां बुजुर्गों की संख्या अपेक्षाकृत अधिक है।उपासना के तहत, हर दिन दो प्रार्थना सत्र सुबह 10 बजे और दोपहर 12 बजे आयोजित किए जाएंगे।

हर दिन अल्फा केयर के तहत लोगों की तस्वीर, पते और अन्य विवरण प्रदर्शित किए जाएंगे और उन्हें बिना किसी अमीर-गरीब का भेद किए बिना याद किया जाएगा। (आईएएनएस-SM)

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less